गिरिराज सिंह और अश्विनी चौबे के पुत्र के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर बिहार विधानसभा में हंगामा

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 03/21/2018 - 10:02

Patna :  केंद्रीय राज्य मंत्री गिरीराज सिंह और अश्विनी चौबे के पुत्र के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर बिहार विधानसभा में विपक्षी सदस्यों ने मंगलवार को भी जबरदस्त हंगामा और नारेबाजी की. इस मुद्दे को लेकर हुए हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही बाधित हुई.

इसे भी पढ़ें: भाकपा माअोवादी ने 29 मार्च को झारखंड बंद बुलाया

शनिवार को प्रशासन से पूर्व अनुमति लिए बिना निकाला गया था जुलूस

मंगलवार की सुबह कार्यवाही शुरू होने पर हाल में संपन्न उपचुनाव में जहानाबाद विधानसभा क्षेत्र से नवनिर्वाचित विधायक कुमार कृष्ण मोहन उर्फ सुदय यादव ने शपथग्रहण की. इसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक अवधेश नारायण ने उनकी ही पार्टी के अजीत शर्मा द्वारा पेश कार्य स्थगन प्रस्ताव पर सबसे पहले चर्चा कराए जाने की मांग की. यह प्रस्ताव भागलपुर जिला में गत शनिवार को प्रशासन से पूर्व अनुमति लिए बिना जुलूस निकाले जाने और उस दौरान हुई हिंसा को लेकर लाया गया था. इस घटना में दो पुलिसकर्मियों सहित तीन व्यक्ति घायल हो गए थे.

इसे भी पढ़ें: चार माह बाद रघुवर ने फिर अलापा 2015-16 का राग, पिछले साल भी कहा था 2017 में खत्म होगा उग्रवाद, अब कहा 2018

देश को जोडने वालों का साथ दें न कि तोडने वालों कातेजस्वी यादव

अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी के यह कहने पर कि इसे उचित समय पर उठाएं तथा प्रश्नकाल को सुचारू रूप से चलने दें, कांग्रेस, राजद और भाकपा माले सदस्य सदन के बीचोंबीच आकर हंगामा और सरकार विरोधी नारेबाजी करने लगे. संसदीय कार्यमंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि विपक्षी सदस्य एक सवाल को सोमवार से सदन में उठा रहे हैं तथा सदन की कार्यवाही चलने नहीं दे रहे हैं जबकि ऐसे मामलों को उठाने के लिए समय निर्धारित है. उन्होंने कहा कि सरकार इन विषयों पर वैसे भी कार्रवाई कर रही है और विपक्षी सदस्य अगर ऐसे मामलों को उचित समय पर उठाएंगे तो सरकार उसका जवाब देगी. बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने इस मामले को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि सत्ता पक्ष का फर्ज बनता है कि देश को जोडने वालों का साथ दें न कि तोडने वालों का.

भाजपा पूरे समाज को बांटने का काम कर रही है : तेजस्वी यादव

उन्होंने भाजपा की ओर इसरा करते हुए आरोप लगाया कि सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि वे समाज को तोडने वालों का साथ नहीं देते, ऐसे में उनसे हम यह जानना चाहते हैं कि समाज को तोडने वाले ऐसे लोगों को चोर दरवाजे से सरकार में किसने शामिल किया. वह बताएं कि भाजपा के ही केंद्रीय मंत्री और प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय द्वारा दरभंगा जाकर लोगों को उकसाने का काम करने तथा भागलपुर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने वालों के खिलाफ सरकार ने क्या कार्रवाई की. तेजस्वी ने आरोप लगाया कि अररिया लोकसभा सीट के लिए हाल में हुए उपचुनाव में अपनी हार को छुपाने के लिए भाजपा की ओर से पूरे समाज को बांटने का काम किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें:  लालू से मिलने रिम्स पहुंचे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी,  जेल मैन्युअल का हवाला देकर नहीं मिलने दिया

विपक्षी सदस्यों ने लगाये सदन में सरकार विरोधी नारे

इसके बाद हंगामा थमता न देख अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही भोजनावकाश के लिए स्थगित कर दी. बिहार विधान परिषद की मंगलवार की कार्यवाही शुरू होने पर राजद सदस्य सुबोध कुमार द्वारा इस विषय पर लाए गए कार्यस्थगन प्रस्ताव को कार्यकारी सभापति हारूण रशीद द्वारा अस्वीकृत कर दिए जाने पर विपक्षी सदस्य सदन के बीचोंबीच आ गए और सरकार विरोधी नारेबाजी करने लगे. विपक्षी सदस्यों के हंगामें के बीच पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी ने अपनी सीट से खडे होकर कहा कि चाहे अररिया, भागलपुर या दरभंगा का मामला हो, राज्य सरकार को चाहिए कि वह केंद्र सरकार को ऐसे मंत्रियों को हटाने की अनुशंसा करे जो संप्रदायिक सौहार्द को बिगाडने का काम करते हैं. पीठासीन सभापति के अनुरोध पर बाद में राजद सदस्य अपनी सीट पर लौट आए और सदन की बाकी कार्यवाही सुचारू रूप से चली.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...