सीएम ने किया था नौकरी देने का वादा, 3 साल तक दफ्तरों के चक्कर लगाने के बाद भी नहीं मिली योग सुंदरी को नौकरी

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 01/19/2018 - 18:50

Chandi Dutta Jha

Ranchi: अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर 21 जून 2015 को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने योग शिक्षिका अर्चना को नौकरी देने की घोषणा की थी. अर्चना कुमारी ने योगाभ्यास में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मेडल प्राप्त किया है. अर्चना को योग सुंदरी के खिताब से भी नवाजा गया है, लेकिन मुख्यमंत्री के घोषणा के इतने वर्ष बाद भी वह नौकरी के लिए दफ्तरों का चक्कर काट रही है. कभी हेल्थ विभाग तो खेल विभाग में फाइल होने की बात बतायी जाती है, जबकि मुख्यमंत्री ने शैक्षणिक आधार पर नियुक्ति की बात कही थी.

देहरादून यूनिवर्सिटी में मिला था नौकरी का ऑफर

अर्चना ने देहरादून के देव संस्कृत विश्वविद्यालय से यौगिक विज्ञान में मास्टरफिर एमफील तक की पढ़ाई की है. यही से वर्ष 2015 में पीएचडी में एडमिशन लिया, लेकिन नौकरी की भागदौड़ के चक्कर में पीएचडी भी कम्पलीट नहीं हो सका है. अर्चना के पिता एचईसी से सेवानिवृत कर्मी हैं. दो भाई और दो बहन में अर्चना सबसे बड़ी हैं.

इसे भी पढ़ेंः सांसद के गोद लिये गांव का हाल : दो कमरे में दो शिक्षकों के भरोसे होती है नौ कक्षाओं की पढ़ाई (देखें वीडियो)

मुख्यमंत्री ने कहा था घर में नौकरी करो

21 जून 2015 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के दिन ही शाम को आला अधिकारियों के साथ सीएम ने बैठक किया, जिसमें अर्चना और उसके माता-पिता को भी बुलाया गया था. अर्चना का देहरादुन में चयन हो चुका था. उत्तराखंड सरकार ने असिस्टेंट प्रोफेसर में नौकरी देने की ऑफर की थी. इस जानकारी के बाद मुख्यमंत्री ने राज्य में ही नौकरी देने की बात कही थी. ताकि राज्य के लोगों को इसका लाभ मिल सके, लेकिन दुख की बात है कि अबतक नियुक्ति नहीं हो सकी है.

जनसंवाद में मुख्यमंत्री ने नियुक्ति के लिए 15 दिन का दिया था समय

अर्चना ने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री जनसंवाद केन्द्र में भी शिकायत की थी. 29 दिसम्बर 2017 को सीधी बात में भी मामला आया था. इस बारे में अर्चना की फाइल बढाये जाने की बात कही गयी थी. मुख्यमंत्री ने 15 दिन के अंदर नियुक्ति करने को कहा था, लेकिन अबतक ऐसा नहीं हो सका है.

इसे भी पढ़ेंः “चाटुकारिता बंद करो”, “भ्रष्ट अफसरों के चमचे हाय-हाय” और सीएस की मुस्कुराहट ऐसी जैसे जेठ की दोपहर में तपती जमीन पर बारिश की कुछ बूंदें...

अर्चना ने एक साल एसटीएफ को दी है ट्रेनिंग

अर्चना का योग शिक्षक के लिए वर्ष 2016 में जैप वन, जैप दस और एसटीएफ में अनुबंध पर चयन किया गया था. टंडरग्राम स्थित एक साल तक एसटीएफ में योगा की ट्रेनिंग भी दे चुकी हैं. फिर भी नियुक्ति का मामला लटका हुआ है.

एशिया कप में जीत चुकी हैं गोल्ड मेडल

अर्चना ने योग में हांगकांग में आयोजित एशिया कप में गोल्ड मेडल जीता था. वर्ल्ड यूथ योग कप नेपाल में भी गोल्ड मेडल जीता. वर्ष 2009 में अर्चना को योग सुंदरी के खिताब से भी नवाजा गया था. इसके अलावा अर्चना राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर कई खिताब जीत चुकी हैं. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)