लाख कोशिशों के बाद भी गढ़वा में बंद नहीं हो रहा बालू का अवैध उत्खनन, बड़े तस्कर अब भी पुलिस की पहुंच से दूर

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 01/10/2018 - 16:15

Garhwa: गढ़वा जिला प्रशासन और पुलिस की काफी मुस्तैदी के बाद भी जिले से बालू के अवैध उत्खनन और ढुलाई पर अंकुश नहीं लग पा रहा है. पुलिस और खनन विभाग द्वारा लगातार किये जा रहे कार्रवाई के बाद भी बालू माफियाओं के हौसले पस्त होते नहीं दिख रहे हैं. जिले के विभिन्न बालू घाटों से हो रहे अवैध बालू उठाव पर रोक एवं बालू के अवैध ढुलाई को लेकर उपायुक्त डॉ. नेहा अरोड़ा ने खनन विभाग के पदाधिकारियों के साथ 21 दिसम्बर को बैठक की थी. उपायुक्त ने पदाधिकारियों को बालू के उठाव और ढुलाई पर रोक लगाने के लिए जरूरी निर्देश दिया और इसमें संलिप्त लोगों पर कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया. डीसी ने यह भी कहा था कि किसी भी घाट से बालू का उठाव जेसीबी या पोकलेन मशीन से नहीं होनी चाहिए.

यदि मशीन का उपयोग किया जाता है तो तुरंत कार्रवाई करें. स्टॉक यार्ड या बालू घाट के पास मशीन पाए जाने पर कार्रवाई होगी. उन्होंने कहा कि बालू उठाव के लिये सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक ही समय निर्धारित है, यदि रात्रि में बालू का उठाव बंदोबस्तधारी द्वारा किया जाता है तो उस पर भी कार्रवाई की जाएगी. गौरतलब है कि उपायुक्त के इन निर्देशों का पालन नहीं होने के कारण जतपुरा में हिंसक घटना हो चुकी है.

इसे भी पढ़ेंः शर्मनाकः ममता बनर्जी के साथ लंदन गये पत्रकारों ने डिनर के दौरान चुरायी चम्मचें, भरा 50 पौंड जुर्माना

jtyj

10 दिन में पकड़े गये 150 अवैध बालू लदे वाहन

उपायुक्त और एसपी के निर्देश के बाद खनन विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम ने दस दिनों में 1 पोकलेन मशीन, 7 जेसीबी मशीन, 38 ट्रक और 6 ट्रैक्टर जप्त किया है, वहीं कुल 37 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करते हुये 19 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. इस दौरान विभाग ने अवैध खनन व परिवहन करने वाले 150 वाहनों को पकड़ कर संबंधित थाने को सौंपा है. जिसमें से 63 वाहन संचालकों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई तथा शेष वाहनों से आर्थिक दंड के रूप में 17 लाख 30 हजार 720 रुपये की वसूली की गयी है. इसके अलावा लगभग 20000 घनफिट बालू का अवैध भंडारण भी सील किया गया है. खनन विभाग एवं पुलिस द्वारा की जा रही कार्रवाईयों का बालू माफियाओं पर कोई असर नहीं हो रहा है. जिले में धडल्ले से अभी भी अवैध बालू का कारोबार चल रहा है.

इसे भी पढ़ेंः ग्रामीण कार्य विकास विभाग का खजाना खाली, अब कैसे होगा 11 जिलों में 113 पुलों का निर्माण पूरा

एसपी खुद कर रहे अभियान का नेतृत्व

एसपी खुद बालू माफियाओं के खिलाफ होने वाली कार्रवाई का नेतृत्व कर रहे हैं. एसपी एम अर्शी के नेतृत्व में मंगलवार की रात अवैध बालू खनन व परिवहन को ले विशेष छापेमारी अभियान चलाया. इसमें सदर थाना क्षेत्र के फरठिया स्थित दानरो नदी बालू घाट पर अवैध रूप से बालू का खनन कर रहे तीन जेसीबी मशीन एवं 32 बालू लदे ट्रक को जब्त किया,  साथ ही 9 लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज कर इन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. एसपी ने बताया कि पुलिस को बालू घाटों से अवैध तरीके से बालू के उठाव की सूचना लगातार मिल रही है. इसको देखते हुए विभिन्न बालू घाटों पर पुलिस की तैनाती की गयी है. उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मी ईमानदारी पूर्वक डयूटी निभाएं, अन्यथा उन पर कार्रवाई की जायेगी. डयूटी के प्रति लापरवाही करने वाले 10 पुलिसकर्मियों को पूर्व में निलंबित किया जा चुका है.

इसे भी पढ़ें- 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने और सेना व पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर एजेंट व अफसरों ने वसूले रुपयेः एनएचआरसी

tjjh

अंतरराज्यीय बालू माफियाओं से जुड़े हैं तस्करों के तार

सूत्र बताते हैं कि इन बालू माफियाओं के तार अंतरराज्यीय बालू माफियाओं से जुडे हूए हैं तथा इनकी पहुंच बहुत उपर तक है. जिले से बालू को ले जाकर उत्तर प्रदेश तथा महाराष्ट्र के बडे शहरों में बेचते हैं जहां इन्हें अच्छी खासी रकम मिल जाती है. बार-बार कार्रवाई के बाद भी जिले में अवैध बालू उत्खनन तथा परिवहन पर अंकुश नहीं लगना यह साबित करता है कि पुलिस के हाथ केवल छोटी मछलियां ही लगी हैं, बड़ी मछलियां अभी कोसों दूर हैं. जबतक पुलिस इन बड़ी मछलियों को अपनी गिरफ्त में नहीं लेती है तबतक अवैध बालू उत्खनन तथा परिवहन पर रोक लग पाना संभव नहीं होगा.

 

 

 

 

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
Top Story
loading...
Loading...