ताजमहल पर मालिकाना हक का दावा नहीं, हम तो रक्षक: वक्फ बोर्ड

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 04/17/2018 - 16:14

NewDelhi: ताजमहल पर मालिकाना हक को लेकर सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड और भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग आमने सामने हैं. इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही हैं. पहले ताजमहल पर मालिकाना हक का दावा कर रहे वक्‍फ बोर्ड ने SC में अपना पक्ष रखते हुए कहा, ताजमहल पर मालिकाना हक का दावा कोई भी इंसान नहीं कर सकता. ये तो सर्व शक्‍तिमान की संपत्‍त‍ि है. हम तो इसके रक्षक हैं. हम मालिकाना हक नहीं मांग रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंताजमहल पर वक्फ बोर्ड ने जताया हक, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- शाहजहां का दस्तखत लेकर आओ

सुन्नी वक्‍फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि हमारे पास ऐसे कोई सबूत नहीं हैं कि ताजमहल को हमारे नाम किया गया था. लेकिन इसके इस्तेमाल को लेकर ये कहा जा सकता है कि ये वक्‍फ की संपत्‍त‍ि है. सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड की इस दलील पर सुप्रीम कोर्ट  ने कहा, ताजमहल को वक्‍फ बोर्ड की संपत्ति घोषित करना ही मुख्य समस्या है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा, आपने एक बार प्रॉपर्टी को रजिस्टर कर दिया है, लेकिन आप उसपर दावा नहीं कर रहे हैं. ये प्रॉपर्टी को अपने पास रखने का कोई आधार नहीं हो सकता.

27 जुलाई को अगली सुनवाई

मामले को लेकर अगली सुनवाई 27 जुलाई को होगी. सुप्रीम कोर्ट ने पुरातत्व विभाग  को कहा कि अगली सुनवाई पर आप कोर्ट को बताएं कि जो सुविधाएं अभी आप वक्‍फ को दे रहे हैं उन्हें जारी रखना है या नहीं? ASI ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि अगर ताजमहल को वक्‍फ बोर्ड की संपत्‍त‍ि माना जाता है तो कल को लाल किला और फतेहपुर सीकरी पर अपना दावा करेंगे. गौरतलब है कि पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि देश में ये कौन विश्वास करेगा कि ताजमहल वक्‍फ बोर्ड की संपत्ति है. इस तरह के मामलों से सुप्रीम कोर्ट का समय जाया नहीं करना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंATM खाली-लोग परेशान, जेटली ने कहा अचानक बढ़ गयी करेंसी की मांग, राज्यमंत्री ने कहा- कुछ राज्यों में कम, कुछ के पास ज्यादा करेंसी

बता दें कि साल 2005 में सु्न्नी वक्फ बोर्ड ने ताजमहल को बोर्ड की संपत्ति घोषित कर दिया था. इसे एएसआई ने कोर्ट में चुनौती दी है. सुप्रीम कोर्ट ने ये टिपण्णी ASI की इसी याचिका पर सुनवाई के दौरान की है.  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...