SBI लॉकर चोरी से बर्बाद हो गए बोकारो के 76 परिवार, तीन दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली, पीड़ितों में आक्रोश

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 12/28/2017 - 15:36

Bokaro: बोकारो के एचएससीएल एडीएम के एसबीआई शाखा में लॉकर से चोरी के बाद बोकारो के 76 परिवार पूरी तरह से बर्बाद हो गए है. अब इन परिवारों को कोई भी दिलासा देते हुए नहीं दिख रहा है. बोकारो पुलिस भी सिर्फ जांच का आश्वासन देकर लोगों से पिंड छुड़ाने का काम कर रही है. लोगों को पुलिस की जांच पर भी कोई भरोसा नहीं दिख रहा है. वहीं बैंक के अधिकारी भी पीड़ित लोगों से सीधे मुंह बात तक नहीं कर रहे हैं. बैंक परिसर में लॉकर टूटने के बाद प्रभावित हुए लोगों का जमावड़ा लगा हुआ था.

इसे भी पढ़ेंः बोकारो के SBI एडीएम शाखा में खिड़की तोड़ चोरों ने साफ किये 76 लॉकर

इसे भी पढ़ेंः बोकारो : बैंक खुलते ही रोने लगीं महिलायें, कहा - चली गयी करोड़ों की संपत्ति, अधिकारियों ने कहा चल रही है जांच

बैंक के रवैये से पीड़ितों में नाराजगी

सभी लोग अपनी-अपनी संपत्ति का ब्यौरा तैयार कर बैंक को दे रहे थे, लेकिन बैंक मैनेजर की ओर से भी किसी प्रकार का कोई आश्वासन उन परिवारों को नहीं दिया जा रहा है. जिससे आम लोगों में काफी आक्रोश देखा जा रहा है. लोगों का कहना है कि जब हर साल बैंक के द्वारा किराया लिया जाता है, तो फिर हमारे सामानों की सुरक्षा की गारंटी बैंक की होती है. क्योंकि बैंक के लॉकर को लोग सुरक्षित समझते हैं. जिसके कारण ही अपनी संपत्ति को यहां के लॉकर में बंद रखते हैं, लेकिन अब जिस तरह से घटना के बाद बैंक की ओर से उन पर रवैया अपनाया जा रहा है उसे वह काफी परेशानी में हैं.

इसे भी पढ़ेंः बोकारोः SBI लॉकर चोरी मामले की जांच करने पहुंचे सीआईडी के एडीजी और आईजी, कहाः बैंक अधिकारियों की लापरवाही से हुई चोरी

इसे भी पढ़ेंः दुर्भाग्य : स्वास्थ्य के क्षेत्र में सबसे पिछड़े 115 जिलों में झारखंड के 24 में से 19 जिले

रात को एसपी से मिले थे प्रभावित परिवार

बुधवार रात जिले के एसपी से प्रभावित परिवार के लोग मिलने गए थे, लेकिन एसपी ने भी उन्हें सिर्फ जांच का आश्वासन ही दिया था. बोकारो पुलिस स्मार्ट होने का दावा तो जरुर करती है, लेकिन पुलिस की गश्ती व्यवस्था पूरी तरह से फेल रही. जबकि बोकारो पुलिस को कई प्रकार के आधुनिक पेट्रोलिंग वाहन भी उपलब्ध कराए गए हैं. दिनभर हुटर बजाते हुए पुलिस घूमती रहती हैवही बैंक से कुछ ही दूरी पर बोकारो पुलिस का यातायात थाना भी है. जहां पर हर वक़्त पुलिस का आना जाना लगा रहता है.

इसे भी पढ़ेंः डिस्‍टलरी तालाब ही को जब पार्क बनाना था तो पुल के लिए पौने तीन करोड़ क्यों किए खर्च ?

इसे भी पढ़ेंः एसोटेक कंपनी के विज्ञापन में नाम छापने पर सांसद महेश पोद्दार ने भेजा नोटिस , मांगा कंपनी से स्पष्टीकरण 

जब बैंक में संपत्ति सुरक्षित नहीं तो घर में कैसे होगी सुरक्षित

घटना को तीन दिन बीतने को हैं लेकिन बोकारो पुलिस के हाथ कोई ठोस सुराग नहीं लग पाया है. लोगों का कहना है कि जब बैंक में उनकी संपत्ति सुरक्षित नहीं है तब वह अपनी संपत्ति को घर में कैसे रखेंगे. लोगों का कहना है कि जब दिन भर बैंक खुली रहती है तो काफी संख्या में पुलिस के जवान बैंक के आसपास घूमते रहते हैं लेकिन जब बैंक बंद रहता है तो वे कभी नजर नहीं आते हैं जिसके कारण चोरों ने इसका फायदा उठाया और उन्हें कंगाल कर गए.

इसे भी पढ़ेंः स्मार्ट सिटी की स्मार्ट सड़क : रोड के बीचों बीच गड़े हैं बिजली के पोल, दो साल के बाद भी पुंदाग-नया सराय सड़क का निर्माण नहीं हो पाया पूरा

इसे भी पढ़ेंः बिल्डर के विज्ञापन में सरकार का LOGO छापने और सांसद को अतिथि बताने के मामले में सांसद महेश पोद्दार ने उठाये सवाल, सचिव को लिखा पत्र

पीड़ितों ने की उच्चस्तरीय जांच की मांग

बैंक के सामने कलावती कुमारी, विनय कुमार सिंह, एस के श्रीवास्तव, आरआर मिश्रा, गोरखनाथ सिंह आदि ने बताया कि उनकी तो पूरी जीवन भर की कमाई चली गई. अब बैंक की ओर से भी किसी तरह का कोई भरोसा नहीं दिया जा रहा है, जिसके कारण उनके परिवारों की स्थिति काफी खराब हो गई है, जबकि जिस तरह से लॉकरों को तोड़ा गया है उससे संदेह होता है. लॉकर कोई स्क्रूड्राइवर से खोलने का काम किया गया है. पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग मुख्यमंत्री से करेंगे.

इसे भी पढ़ेंः राहुल ने बीजेपी पर लगाया संविधान पर हमला करने और झूठ बोलने का आरोप

इसे भी पढ़ेंः संविधान और धर्मनिरपेक्षता के बारे में दिये गये बयान पर केंद्रीय मंत्री हेगड़े ने मांगी माफी

नावाडीह में भी आयरन चेस्ट को तोड़ने का हुआ था प्रयास

एक महीने पहले भी नावाडीह के बैंक ऑफ इंडिया में चोरों ने इसी तरह से दीवार को काटकर अंदर चोरी करने का प्रयास किया था, लेकिन सुबह हो जाने के कारण सभी चोर गैस कटर को वहीं छोड़ कर चले गए थे. उनकी योजना आयरन चेस्ट को तोड़ने की थी. जानकारों की मानें तो एक बड़ा रैकेट इस घटना को अंजाम देने में लगा हुआ था, जिसने इस घटना को अंजाम देकर काफी बड़ा झटका बोकारो के लोगों को दिया है.

इसे भी पढ़ेंः बाली की खूबसूरती पर दाग लगा रहा समुद्री तटों पर फैला कचड़ा, आपात की घोषणा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
loading...
Loading...