प्राकृतिक संसाधनों पर आदिवासी समुदाय के स्वामित्व का अधिकार है या नहीं प्रश्न पर सुप्रीम कोर्ट और सरकार की राय विरोधाभासी

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 01/23/2018 - 11:36

जानें आदिवासी होने और नक्सली होने के बीच के संबंध और इन्हें लेकर सरकार की नीतियों के साथ ही कुछ खास मामलों में सुप्रीम कोर्ट के जवाब

Ranchi: 'प्राकृतिक संसाधनों पर आदिवासी समुदाय के स्वामित्व का अधिकार है' वर्तमान समय में यह प्रश्न अपने आप में जितना पेचीदा है कोर्ट और सरकार की राय उतनी ही अधिक विपरित. मामले में जहां सर्वोच्च न्यायालय का जवाब हां है वहीं सरकार इस बात से साफ इंकार करती नजर आती है. झारखंड में नक्सलियों से निपटने के झारखंड सरकार के तरीके और सुप्रीम कोर्ट में विभिन्न नक्सली मामलों पर कोर्ट के फैसले से संबधित कुछ आंकड़े हमने पेश किये हैं. जानें आदिवासी होने और नक्सली होने के बीच के संबंध को. इन्हें लेकर सरकार की नीतियों को. आदिवासियों को कैसे उनके अपने प्राकृतिक संसाधनों के हकों से दूर कर सरकार कैसे उसपर अपना अधिपत्य स्थापित कर आदिवासियों को लगातर गरीबी और बेबसी के रास्ते पर ढकेल रही है.

जानें झारखंड सरकार इन तथाकथित 'नक्सलियों' से कैसे निपटता है?

2 अप्रैल 2015 के रानिया, झारखंड में पुलिस / अर्धसैनिक बलों के लिए आंतरिक सुरक्षा एडवाइजरी के आदेश के अनुसार- इन नक्सलियों से या तो आत्मसमर्पण करवाएं या उनको मुठभेड़ों में मार डालें.

गौरतलब है कि इस आदेश का पालन करते हुए, झारखंड पुलिस और अर्धसैनिक बल दावा करते हैं कि

2017 के दौरान उन्होंने 608 माओवादियों को गिरफ्तार कर लिया है.

47 ने अपने हथियार समेत आत्मसमर्पण किये हैं और 12 माओवादी गिरफ्तार किए गए हैं.

उन्होंने यह भी घोषणा की है कि वे शीर्ष 40 माओवादी नेताओं के स्वामित्व वाली संपत्ति को जब्त कर चुके हैं.

डीजीपी ने 20 झारखंड जगुआर कर्मियों को 10,000 रुपये के साथ पुरस्कृत किया और कुछ दिन पहले एक माओवादी स्प्लिटर ग्रुप एरिया कमांडर को मारने के लिए उन्हें बधाई भी दी.

(स्रोतः हिंदुस्तान टाइम्स, रांची एड., 20 जनवरी .2018 में छपी रिपोर्ट के अनुसार)

जानें सुप्रीम कोर्ट 'नक्सल' प्रश्न का विश्लेषण कैसे करता है?

यदि आदिवासियों की भूमि बेची गयी तो वे नक्सली बन जायेंगेः सुप्रीम कोर्ट

sc

झारखंड में सीएनटी अधिनियम के उल्लंघन में आदिवासी भूमि की खरीद के खिलाफ एक रिट के संदर्भ में एससी ने कहा, "अगर आदिवासियों की भूमि बेची जा रही है, तो वे (आदिवासी) नक्सली बनेंगे ..." (एससी का यह फैसला जनजातीय भूमि के अवैध हस्तांतरण पर दायर 25 मार्च 2014 के जनहित याचिका पर है)

नक्सली हिंसा के खिलाफ लड़ाई पूरी तरह से कानून के तौर पर नहीं की जा सकती

छत्तीसगढ़ राज्य के खिलाफ एक और फैसले में कुछ आदिवासी युवाओं को सलवा जुडूम के टैग के तहत अपने साथी आदिवासी भाइयों से लड़ने के लिए विशेष पुलिस अधिकारियों के रूप में बहाल किये जाने पर एससी ने कहा, "माओवादी / नक्सली हिंसा के खिलाफ लड़ाई पूरी तरह से कानून के तौर पर नहीं की जा सकती और समस्या का मुकाबला किसी भी तरह से हो सकता है जिसका मतलब है कि राज्य को मुहैया करवाया जा सकता है ... माओवादियों / नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई हमारे लोगों के दिमागों और दिलों पर नैतिक, संवैधानिक और कानूनी प्राधिकार के लिए कम नहीं है. "(नंदिनी सुंदर और ओआरएस बनाम छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जाति / 0724/2011)

भारत में सबसे अधिक वंचित और हाशिए पर आदिवासी है

महाराष्ट्र में एक गांव के शक्तिशाली वर्ग द्वारा एक युवा जनजातीय महिला को नग्न करने के मामले में, निचली अदालतों ने उसे न्याय नहीं दिलाया, अंत में एससी बचाव में आई और आरोपी को कठोर सजा का आदेश दिया. सर्वोच्च न्यायालय ने कहा: "भारत में सबसे अधिक वंचित और हाशिए परित्यक्त आदिवासी (एसटी) हैं, जो भारत के मूल निवासियों के वंशज हैं और वे सबसे अधिक हाशिए पर हैं और भयानक गरीबी में रह रहे हैं ... बड़ी संख्या में बचे लोगों की हत्या कर दी गई थी और उनके वंश सदियों से अपमानित थे. वे अपनी भूमि से वंचित थे, और जंगलों और पहाड़ियों में धकेल दिये गये जहां वे गरीबी, निरक्षरता, बीमारी, आदि के एक दुखी जीवन का सामना कर रहे थे. और अब कुछ लोगों ने उन्हें अपने वन और पहाड़ी भूमि से वंचित होने के प्रयास किए हैं, जहां वे जी रहे हैं, और जंगल का उत्पादन जिस पर वे जीवित रहते हैं. "(एससी: कैलास एंड ओआरएस बनाम स्टेट ऑफ महाराष्ट्र, आपराधिक अपील नंबर 11/2011)

कुछ खास तथ्य:

(1) केन्द्रीय भारतीय राज्यों एमपी, छत्तीसगढ़, झारखंड, ओडिशा, बंगाल में भारी मात्रा में खनिज, जल स्रोत और वन हैं.

(2) आदिवासी समुदायों ने सदियों तक इन प्राकृतिक संसाधनों का स्वामित्व और उपयोग किया है.

(3) राज्य और निजी कंपनियों द्वारा आदिवासी जमीन से भारी धन निकाला जाता है, लोगों को अपने प्राकृतिक संसाधनों पर अपने अधिकारों से वंचित किया जा रहा है.

(4) कई जनजातीय लोगों को अपने संवैधानिक और मानवाधिकारों के उल्लंघन के विरोध में विरोध करने के लिए झूठे तौर पर फंसाया और गिरफ्तार किया गया है जैसे कि उनकी जमीन और आजीविका संसाधनों का अधिकार और संरक्षण. ऐसा करने के बाद उन्हें 'नक्सल' / 'माओवादियों' का लेबल दे दिया गया.

(5) तथाकथित नक्सलियों में 90% आदिवासी हैं लेकिन 90% आदिवासी नक्सली नहीं हैं.

(6) वर्तमान में हजारों आदिवासी युवाओं को झारखंड की जेलों में निलंबित कर दिया गया है.

(7) नकली मुठभेड़ों और नकली समर्पण एक आदर्श बन गए हैं.

(8) अंडर-ट्रायल के कैदियों का परीक्षण जानबूझकर लंबे समय तक चलाया जाता है, क्योंकि अगर उन पर आंशिक मुकदमा चलाया जाता है, तो अधिकांश को बरी करना पड़ेगा.

(9) लंबे समय तक, अंडर-परीक्षण कैदियों पर एक जनहित याचिका को स्वीकार करते हुए, झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को सभी जन-जेलों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करने के निर्देश दिये हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप