कुर्मी को आदिवासी में शामिल करने की अनुशंसा के विरोध में आदिवासी विधायकों के जलाये गये पुतले

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/17/2018 - 21:22
कुर्मी को आदिवासी में शामिल करने की अनुशंसा के विरोध में आदिवासी विधायकों की शव यात्रा निकाली गयी

Ranchi : कुर्मियों को आदिवासी जनजाति में शामिल किये जाने की अनुशंसा करने वाले सांसदों और विधायकों के प्रति आदिवासी संगठनो में आक्रोश बढ़ता जा रहा है. एक ओर कुर्मी समाज के नेता आदिवासी सूची में शामिल करने के लिए सरकार और विधायकों पर दबाव बनाने में सफल हो रहे हैं, वहीं आदिवासी समाज के धार्मिक संगठनों के निशाने पर सरकार के साथ साथ विपक्षी दल के नेता रहे हैं. विधायकों और सांसदों द़वारा की गयी अनुशंसा के विरोध में केन्द्रीय सरना समिति के बैनर तले आदिवासी विधायकों की शव यात्रा निकाली गयी. समिति के द्वारा झामुमो नेता हेमंत सोरेन,  ताला मरांडी , दशरथ गगरई,  विकास मुंडा,  शशि भूषण समड, नियल पूर्ति की आदिवासी परंपरा के अनुसार शव यात्रा निकाली गयी. शव यात्रा लाइन टैंक रोड , नगर निगम होते हुए अल्बर्ट एक्का  चौक तक पहुंची जहां इन आदिवासी विधायकों का पुतला दहन किया गया.

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड का सच-03: 6400 करोड़ का एमओयू ऐसी कंपनी के साथ जिसका कहीं नामोनिशान नहीं

अनुसूचित जाति में कुरमी और तेली समाज को नहीं होने दिया जाएगा शामिल


 शव यात्रा में शामिल समिति के केंद्रीय अध्यक्ष फूलचंद तिर्की ने कहा कि  आदिवासी अनुसूचित जाति का लाभ लेने के लिए कुरमी और तेली समाज आज आदिवासी बनना चाहता हैं. यह आदिवासी समाज के धर्म को समाप्त करने की साजिश है, जिसे आदिवासी समाज किसी भी कीमत पर पूरी नहीं होने देगा. केंद्रीय सरना समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बबलू मुंडा ने कहा  कि अनुसूचित जाति में कुरमी और तेली समाज को  शामिल नहीं होने दिया जाएगा . राज्य में इस तरह की कोशिश आरक्षण का लाभ लेने के लिए की जा रही है.  जगलाल पहान ने कहा कि कुर्मी और तेली आदिवासी का लाभ लेने के लिए अनुसूचित जाति में शामिल होना चाहते हैं,  जबकि कुर्मियों की धार्मिक परंपरा आदिवासियों से अलग है. आदिवासी समाज में रूढ़िवादी परंपरा के अनुरूप नियम के तहत पूजा पाठ किया जाता है. वहीं कुर्मी और तेली समाज पुरोहित के  द़वारा  जन्म से लेकर मृत्यु संस्कार तक अनुष्ठान कराते हैं.  उऩ्ंहोंने आरेाप लगाया कि कुर्मी और तेली समाज आदिवासियों का आरक्षण एवं जमीन हथियाना चाहते है. जिसे किसी भी कीमत पर सफल नहीं होने दिया जायेगा. शव यात्रा कार्यक्रम में केंद्रीय सरना समिति के केंद्रीय अध्यक्ष फूलचंद तिर्की, कार्यकारी अध्यक्ष बबलू मुंडा,  महासचिव संजय तिर्की ,जगलाल पहान, शोभा कच्छप, मेधा उरांव,संजय गाड़ी, रवि उरावं मुख्य रूप से शामिल थे.

इसे भी पढ़ें- मोमेंटम झारखंड का सच-अंतिम : बिना टेंडर के सरकार ने तीन कंपनियों को दिया आयोजन का जिम्मा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप