कहीं आपका भी लोकेशन तो नहीं हो रहा ट्रेस

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/10/2018 - 13:39

Prem  Anand

NW Desk : जी हां कहीं ऐसा तो नहीं कि कोई आपके लोकेशन को ट्रेस कर रहा हो और आपको पता भी नहीं. क्या ऐसा संभव है? अगर आप स्मार्ट फोन यूजर है तो आपके लिए यह जानना बेहद जरुरी है क्योंकि ऐसा बिलकुल संभव है, अगर आप किसी दूसरे का G-Mail  अपने Android फोन में लॉगिन किये हुये हैं या फिर आपका G-Mail कोई और अपने एंड्राइड मोबाइल में लॉगिन किया हुआ है तो समझ लीजिये शत प्रतिशत संभावना है कि आपका लोकेशन ट्रेस किया जा सकता है, सिर्फ लोकेशन ही नहीं आपके मोबाइल का सारा डाटा जैसे कि Contacts,  Images  भी निकाला जा सकता है और इतना ही नहीं आपके एंड्राइड फोन में क्या-क्या एप्प इनस्टॉल है वो भी देखा जा सकता है साथ की किसी नई एप्प को आपके मोबाइल में इनस्टॉल भी किया जा सकता है या यु कह ले की आपके मोबाइल को लगभग पूरी तरह से Control  किया जा सकता है, जिसे आप हैकिंग (Hacking) भी कह सकते है

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा की यह होता कैसे है, लेकिन इससे ज्यादा जरुरी है की इससे बचा कैसे जा सकता है तो आइये सबसे पहले इससे बचने के तरीके के बारे में जानते है-

1.  अपने मोबाइल फोन का लोकेशन हमेशा ऑफ रखेबहुत जरुरत हो तभी लोकेशन ऑन करें, जैसे की जब रूट नेविगेशन का इस्तेमाल कर रहे हो तभी लोकेशन ऑन करें.

2.  कोई भी एप्प इनस्टॉल करते ही हमें बहुत तरह के परमिशन ऑन करने का ऑप्शन आता है जिसमें लोकेशन ऑप्शन भी आता है उसे कभी भी ऑन ना करें.

इसे भी पढ़ें:-राजस्थान के बांसवाड़ा में मिला 11.48 करोड़ टन सोने का भंडार

3.  कभी भी किसी और का ईमेल अपने मोबाइल में लॉगिन नहीं करें और न अपना ईमेल किसी और के मोबाइल में लॉगिन करें, अगर अपने ऐसा किया है तो उसे जल्द से जल्द रिमूव कर दें.

4.  अपने मोबाइल का इंटरनेट हमेशा ऑन नहीं रखें, जरूरत होने पर ही ऑन करें. यह आपके फोन को हैक (Hack ) होने से भी बचता है.

5.  अगर आपका फोन अनायास ही रिंग होने लगे या फिर सबसे ऊपर बार में लोकेशन लोगो ब्लिंक करने लगे तोये तो सतर्क हो जाये क्योंकि हो सकता है कि कोई आपको ट्रेस कर रहा हो, जब ऐसा हो तो सबसे पहले डाटा ऑफ करें और फिर लोकेशन ऑफ कर दें. फिर मोबाइल में अगर ऐसा कुछ नजर आये तो किसी एक्सपर्ट से सलाह लें.

इसे भी पढ़ें: Hydrogel क्या है? यह जलसंकट से कैसे बचा सकता है.

ये तो थे बचने के तरीके अब आइये जानते हे की ऐसा होता कैसे है, यहां हम आपको ये जानकारी इसलिए दे रहे है ताकि आप सुरक्षित रहे. आपसे अनुरोध है कि इस जानकारी का आप गलत इस्तेमाल ना करें.

गूगल ने बहुत सारी सुविधाएं दी है जिसमें से एक सुविधा यह भी है कि अगर हमारा फोन खो गया है तो क्या करें. एफ. एम. डी. एक एंड्राइड एप्प है जो आपको आपके खोये हुये फोन का लोकेशन जानने में मदद करता है मान लिया आपका फोन खो गया और उसमें आपका ईमेल लॉगिन है, साथ ही आपका डाटा भी ऑन है तो आप किसी कंप्यूटर में कोई भी ब्राउजर खोल कर उसमे एफ. एम. डी. लिख कर लॉगिन करके अपने मोबाइल का करंट लोकेशन देख सकते है. यहां से आप अपने मोबाइल पर रिंग भी कर सकते है. आपका मोबाइल 5 मिनट तक रिंग होता रहेगा, अगर आपका मोबाइल साइलेंट मोड में भी है, तो भी रिंग होगा. यहां से आप मोबाइल को लॉक भी कर सकते है. आपका मोबाइल का बैटरी कितना चार्ज है यह भी देख सकते हैमोबाइल को रिसेट या डाटा भी वाइप कर सकते हैं, जिससे आपका सारा डाटा आपके फोन डिलीट हो जायेगा, गूगल ने यह सुविधा हमारे खोये हुये मोबाइल को खोजने के लिए दिया है, लेकिन कुछ लोग इसका गलत इस्तेमाल करके दूसरे को लोकेट करने में और दूसरे का डाटा चुराने में या गलत काम में इस्तेमाल करते हैं.

ऐसे और भी बहुत सी जानकारियां है जिसे हम समय-समय पर आप तक पहुंचते रहेंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...