न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नीति आयोग के सीईओ ने कहा- बिहार, यूपी, एमपी जैसे राज्यों की वजह से पिछड़ा है भारत

43

New Delhi : नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने ने कहा है कि देश के दक्षिणी और पश्चिमी राज्य तेजी से तरक्की कर रहे हैं, लेकिन बिहार, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान जैसे राज्यों की वजह से देश पिछड़ा हुआ है. वह जामिया इस्मालिया विश्वविद्यालय में प्रथम अब्दुल गफ्फार खान स्मारक व्याख्यान कार्यक्रम में बोल रहें थे.

New Delhi : नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने ने कहा है कि देश के दक्षिणी और पश्चिमी राज्य तेजी से तरक्की कर रहे हैं, लेकिन बिहार, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान जैसे राज्यों की वजह से देश पिछड़ा हुआ है. वह जामिया इस्मालिया विश्वविद्यालय में प्रथम अब्दुल गफ्फार खान स्मारक व्याख्यान कार्यक्रम में बोल रहें थे.

JMM

इसे भी पढ़ें: NEWS WING IMPACT: खबर छपने के बाद हरकत में आया IPRD

मानव विकास सूचकांक में भारत अब भी 133 नंबर पर 

कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा कि बिहार, उत्तर प्रदेशछत्तीसगढ़मध्य प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों के कारण भारत पिछड़ा बना हुआ है. खासकर सामाजिक संकेतकों के मानक पर. जहां व्यापार में आसानी के मामले में हमने तेजी से सुधार किया है, वहीं मानव विकास सूचकांक में हम अब भी पिछड़े हैं, उन्होंने कहा कि मानव विकास सूचकांक में हम अब भी 188 देशों में 133 वें पायदान पर हैं. 

Related Posts

demo

इसे भी पढ़ें: झारखंड हाईकोर्ट : 2017-18 में दर्ज हुए 6273 पीआईएल, पेंडिंग 6276, सिविल और क्रिमिनल मिलाकर 90778 केस लंबित

Bharat Electronics 10 Dec 2019

तेजी से आगे बढ़ रहे है दक्षिणी और पश्चिमी राज्य

चैलेंजेज ऑफ ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया‘  के मुद्दे पर कांत ने कहा कि देश के दक्षिणी और पश्चिमी राज्य बहुत अच्छा कर रहे हैं और तेजी से आगे बढ़ रहे हैं. मानव विकास सूचकांक में बेहतर करने के लिए हमें सामाजिक संकेतकों पर गौर करना होगा. हम आकांक्षा जिला कार्यक्रम के जरिए इस पर काम कर रहे हैं. दक्षिणी राज्यों की तारीफ करते हुए कांत ने कहा कि भारत को बदलने की चुनौतियों को देखें तो देश के दक्षिणी और पश्चिमी राज्य बहुत अच्छा काम कर रहे हैं. वे तेजी से आगे बढ़ रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like