कल्याण विभाग में सवा नौ करोड़ का घोटाला, दो डीडब्ल्यूओ समेत 19 के खिलाफ एफआइआर

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 06/08/2018 - 20:19

Chatra :  कल्याण विभाग में सवा नौ करोड़ का घोटाला हुआ है. विभाग के दो जिला कल्याण पदाधिकारियों ने नाजिर की मिली भगत से जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए विभाग को आवंटित 9 करोड़ 33 लाख रुपये की सरकारी राशि का बंदरबांट किया है. मामले का खुलासा डीसी जितेंद्र सिंह की ओर से गठित जांच दल की रिपोर्ट से हुआ है.  समाहरणालय स्थित कार्यालय कक्ष में आयोजित प्रेस वार्ता में डीसी ने बताया कि विभाग में आवंटित छात्रवृत्ति और भवन निर्माण समेत अन्य कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए निर्गत राशि का फर्जी चेक और अकाउंट के माध्यम से घोटाला किया गया है.  डीसी ने बताया कि जिला कल्याण पदाधिकारी भोलानाथ लागुरी और आशुतोष कुमार ने अपने-अपने कार्यकाल में विभाग के नाजिर इंद्रदेव प्रसाद से साठ-गांठ कर फर्जी शिक्षण संस्थानों और एजेंसियों के नाम पर चेक के माध्यम से राशि का भुगतान अवैध तरीके से कर योजना में घोटाला किया है.  मजे की बात तो यह है कि अधिकारियों ने नाजिर के मिलीभगत से जिस एकाउंट में कार्य एजेंसी और शिक्षण संस्थान बताकर पेमेंट किया गया है.  उनमें से ज्यादातर वैसे एनजीओ और एजेंसी के अलावा संस्थान शामिल हैं जो अस्तित्व में है ही नहीं. हां, उन संस्थाओं के नाम के साथ अंकित अकाउंट नम्बर जरूर ओरिजिनल है.  डीसी ने बताया कि अधिकारियों और नाजिर द्वारा जिस एजेंसी और एनजीओ के नाम पर चेक निर्गत कर खाते में राशि का भुगतान किया गया है वो बैंक खाता नाजिर की पत्नी व परिजनों के अलावे खुद नाजिर के नाम से है.  इतना ही नहीं कुछ ऐसे भी एनजीओ और एजेंसी को भुगतान किया गया है जिनका दूर-दूर तक कल्याण विभाग से नाता नहीं है.  डीसी ने पत्रकारों को बताया कि ज्यादातर फर्जी भुगतान जिला कल्याण पदाधिकारी आशुतोष कुमार के एक साल के कार्यकाल के दौरान किया गया है.  उन्होंने करीब साढ़े छह करोड़ का फर्जी भुगतान किया है.  जबकि करीब पौने तीन करोड़ का भुगतान जिला कल्याण पदाधिकारी भोलानाथ लागुरी के कार्यकाल के दौरान हुआ है. कल्याण पदाधिकारियों को मामले की जानकारी होने के बाद भी उनकी ओर से नाजिर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गयी.

 

इसे भी पढ़ें - माओवादियों के निशाने पर मोदी ! एक और राजीव गांधी कांड की है तैयारी-पत्र से हुआ खुलासा

दो डीडब्ल्यूओ समेत 19 पर प्राथमिकी

जांच कमेटी की ओर से प्रस्तुत रिपोर्ट में घोटाले की पुष्टि होने के बाद डीसी के निर्देश पर जिला कल्याण पदाधिकारी साधना जयपुरियार ने सदर थाने में पूर्व जिला कल्याण पदाधिकारी आशुतोष कुमार, भोलानाथ लागुरी, नाजिर इंद्रदेव प्रसाद, प्रधान सहायक काशी प्रसाद गुप्ता समेत नाजिर की पत्नी, पुत्री, पुत्र समेत फर्जी भुगतान प्राप्त करने वाले कुल 19 एजेंसियों और एनजीओ के संचालकों समेत कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है. दर्ज प्राथमिकी में डीडब्ल्यूओ ने सभी पर गलत तरीके से सरकारी राशि का भुगतान कर बंदरबांट करने का आरोप लगाया है.

इसे भी पढ़ें - शिक्षा व्यवस्था का हाल : 90 हजार विद्यार्थियों ने लिखी  इंटर की परीक्षा,  50 हजार हो गये फेल

अगलगी कांड में भी संलिप्तता के संकेत

विकास भवन स्थित कल्याण विभाग में अगलगी कांड में भी इन अधिकारियों व कर्मियों की संलिप्तता का संकेत उपायुक्त ने दिया है. डीसी ने पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि जिस प्रकार महज दो साल के कार्यकाल की जांच में बड़े पैमाने पर घोटाला उजागर हुआ है उससे तो यह स्पष्ट होता है कि घोटालेबाजों द्वारा साक्ष्यों को छुपाने के नियत से योजनाबद्ध तरीके से विकास भवन स्थित कार्यालय कक्ष में आग लगाई या लगवाई गई होगी. क्योंकि जांच में यह सामने आया है कि राशि के बंदरबांट में जिस चेक का प्रयोग किया गया है वह आगजनी से पूर्व का है. जबकि अगलगी की घटना में कार्यालय का लगभग सभी सामान जलकर स्वाहा हो गया था. डीसी ने कहा कि विभाग के ऑडिट को ले महालेखाकार को पत्र लिखा गया है. उम्मीद है कि जल्द ही विभाग का ऑडिट हो जायेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)
na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब