Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

स्मार्टफोन के नाम पर ग्रामीण महिलाओं को थमा दिया झुनझुना, बताया ही नहीं कैसे करेंगे इस्तेमाल

News Wing Ranchi, 15 October: स्मार्ट फोन के नाम पर थमाया गया झुनझुना राज्य के सखी मंडलों के लिए जी का जंजाल बन गया है. रांची जिले में महिलाओं को मिला स्मार्टफोन कितना कारगर और कितना मददगार साबित हो रहा है, जब इसका रियलिटी चेक किया गया तो पता चला सरकार ने इन्हें मोबाइल नहीं टेंशन पकड़ा दिया है.

बात करते हैं रांची जिला के मनातू पंचायत की. यहां नया सवेरा महिला समिति में 14 सदस्य हैं. इनकी अध्यक्ष मंजू देवी को स्मार्टफोन मिला है. यह पूछने पर की आपको मोबाइल क्यों दिया गया है, तब उन्होंने बताया कि महिला समिति की बैठक, ट्रेनिंग और कैशलेस संबंधित जानकारी के लिए यह स्मार्टफोन दिया गया है. इसके अलावा एक एयरटेल का सिम कार्ड भी दिया गया है. मंजू कहती हैं कि जो फोन मिला है उसकी बैटरी बैकअप काफी कम है. अक्सर लाइट नहीं रहने के कारण बिजली गुल रहती है. ऐसे में मोबाइल को चार्ज करने में काफी दिक्कत होती है. दूसरी बड़ी समस्या यह है कि मोबाइल बहुत जल्द गर्म हो जाता है.

यह भी पढ़ेंः डिजिटल इंडिया के नाम पर ठगी गयी महिलाएं, काम नहीं करता सखी मंडल को दिया गया मोबाइल

मनातू पंचायत में सिर्फ मोबाइल मिला, सिम कार्ड और ट्रेनिंग नहीं

मनातू पंचायत में ही सरस्वती महिला समिति नाम की सखी मंडल है. 13 सदस्यीय समिति की अध्यक्ष गीता देवी हैं. गीता को मोबाइल तो दे दिया गया, लेकिन उन्हें मोबाइल को ऑपरेट करना नहीं सिखाया गया. उन्होंने बताया कि कहा गया था कि ट्रेनिंग दी जायेगी, मोबाइल देते वक्त कहा गया कि इस मोबाइल से महिला समिति की बैठकों का फोटो व्हाट्सएप पर भेजना है.

मनातू पंचायत के 11 सदस्यीय जय लक्ष्मी महिला समूह की सचिव मणि देवी ने कहा कि उन्हें अभी तक सिर्फ मोबाइल मिला है, कोई सिम कार्ड नहीं दिया गया. मोबाइल को चार्ज करने में उन्हें थोड़ी दिक्कत हो रही है. उन्हें स्मार्टफोन का बहुत ज्यादा फंक्शन तो मालूम नहीं, सिर्फ फोटो खींचने का काम उन्हें आता है. फिलहाल सिम कार्ड नहीं होने के कारण वह मोबाइल से न कॉल कर सकती हैं और न किसी तरह की जानकारी दे सकती हैं.

नावा सोसो पंचायत की रीता बारा कविता महिला समिति की सक्रिय सदस्य हैं. इनको मोबाइल तो मिल गया, लेकिन सिम कार्ड नहीं दिया गया. ये मोबाइल से बस बैठकों की तस्वीर खींच कर रखती हैं. कभी-कभार वीडियो भी बना लेती हैं. डाटा नहीं होने के कारण फोटो और वीडियो तो कहीं भेज नहीं सकतीं, लेकिन उन्हें मोबाइल में स्टोर करके जरूर रखती हैं, ताकि सरकारी कर्मियों के मांगने पर उन्हें दिखा सकें.

यह भी पढ़ेंः झारखंड में सखी मंडल स्मार्टफोन योजना फेल, ना चलाने की ट्रेनिंग मिली ना सिम कार्ड

बड़ाम पंचायत की महिलाओं के पास डब्बे की तरह पड़ा है मोबाइल

नामकुम के बड़ाम पंचायत की सूरज महिला समूह की अध्यक्ष सीता देवी ने बताया कि 22 सितम्बर को उन्हें फ़ोन दिया गया. करीब 15 दिन बाद सिम मिला, लेकिन मोबाइल को कैसे चलाया जाये इसकी ट्रेनिंग नहीं दी गयी. फ़ोन डिब्बे की तरह ही पड़ा है. उन्होंने कहा कि फ़ोन देने के साथ हमें बताया गया था कि इसका इस्तेमाल बैठक, बैंक से पैसा ट्रांसफर के लिए किया जायेगा.

यह भी पढ़ेंः अफसरों ने रघुवर के मंसूबों पर पानी फेरा

बड़ाम पंचायत की ही चंदन महिला समूह की अनुराधा देवी ने बताया कि ग्राम संगठन की बैठक में उनकी अध्य्क्ष जग्गन देवी को कार्बन का फ़ोन दिया गया. फ़ोन तो मिल गया पर सिम नहीं मिला. अनुराधा ने कहा कि अब तक फ़ोन ऑपरेट करना न उन्हें आया है और न अध्यक्ष को. उन्होंने यह भी कहा कि जब तक इसका इस्तेमाल नहीं सीखेंगे, यह हमारे किसी काम नहीं आयेगा.

झिरी और सुडील पंचायत में बांटे गये खराब बैट्री वाले मोबाइल

राजधानी रांची के नजदीक ही झिरी और सुडील पंचायत में कई सखी मंडलों की महिलाओं ने बताया कि मोबाईल दो माह पहले दिया गया,लेकिन अब तक सिम नहीं दिया गया है. इसके इस्तेमाल के लिए ट्रेनिंग भी दी जानी थी, जो अब तक नहीं मिली. कविता महिला समिति की रीता ने कहा कि इस स्मार्टफोन से कैसलैस लेनदेन करना है, लेकिन अबतक प्रशिक्षण नहीं दिया गया है. इस कारण मोबाईल का सही इस्तेमाल नही हो रहा है.

नया सबेरा महिला समिति कि मंजू देवी ने कहा कि मोबाईल हैंग करता है, बैटरी भी ठीक नहीं है, जिस कारण जल्द ही मोबाईल डिस्चार्ज हो जाता है.

सरस्वती महिला समिति कि गीता देवी के अनुसार मोबाईल तो समिति के सभी सदस्यों को दिया गया, लेकिन उपयोग कैसे किया जाना है यह अब तक नहीं बताया गया है.

 

Slide
City List: 
special news: 
Share

Add new comment

loading...