Skip to content Skip to navigation

रोजगार में कमी के कारण आय असमानता और अपराधों में वृद्धि के आसार : रिपोर्ट

News Wing

Mumbai, 02 October: वित्तीय सेवा प्रदाता एमबिट कैपिटल ने अपने शोध रिपोर्ट में कहा है कि बेरोजगारी और आय असामनता का मेल सामाजिक तनाव का कारण बन सकता है. रिपोर्ट के अनुसार बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में जहां प्रति व्यक्ति आय, राष्ट्रीय औसत की तुलना में कम है और असमानता अधिक है, वहां अन्य राज्यों की तुलना में अपराध की दर ज्यादा है.

बेरोजगारी और असमानता के मेल के कारण अपराधों में तेजी

सरकार द्वारा पर्याप्त नौकरियां सृजित करने में नाकाम रहने के कारण में देश में आय असामनता बढ़ सकती है. एक रपट में इस संबंध में चेतावनी दी गयी है. रपट में चेतावनी दी गयी है कि बेरोजगारी और असमानता के मेल के कारण अपराधों में तेजी जैसे सामाजिक तनाव में वृद्धि हो सकती है. आगे कहा गया है कि मनरेगा योजना के तहत नौकरियों की बढ़ती मांग नौकरियों की संभावना बिगड़ने का संकेत है.

देश की 50 प्रतिशत आबादी की प्रति व्यक्ति आय 400 डॉलर से कम

फ्रांसीसी अर्थशास्त्री के नवीनतम निष्कर्षों में बताया गया है कि वर्ष 1980 से आय असामनता चरणबद्ध तरीके से बढ़ रही है. इस ओर ध्यान दिलाते हुये एमबिट ने कहा कि देश की कुल आबादी के 50 प्रतिशत (निम्न आय स्तर वाले) की राष्ट्रीय आय में हिस्सेदारी केवल 11 प्रतिशत है, जबकि शीर्ष 10 प्रतिशत की हिस्सेदारी 29 प्रतिशत है. इनकी प्रति व्यक्ति आय 1,850 डॉलर है, जबकि निचले तबके के 66 करोड़ लोगों या देश की 50 प्रतिशत आबादी की प्रति व्यक्ति आय 400 डॉलर से कम है, जो कि “हैरान” करने वाला है.

सिंगापुर की प्रति व्यक्ति आय 52,961 डॉलर से ज्यादा

यह आंकड़ा मेडागास्कर के नागरिकों के प्रति व्यक्ति आंकड़ों के समान है और यहां तक कि अफगानिस्तान के नागरिकों की प्रति व्यक्ति आय से भी कम है, जो कि 561 डॉलर है. वहीं, दूसरी ओर देश के शीर्ष एक प्रतिशत आबादी (1.30 करोड़) की प्रतिव्यक्ति आय 53,700 डॉलर है जो कि डेनमार्क की प्रति व्यक्ति आय से तुलना योग्य और सिंगापुर की प्रति व्यक्ति आय 52,961 डॉलर से ज्यादा है.

Share

Add new comment

loading...