Skip to content Skip to navigation

राजकोषीय घाटा बजट अनुमान का 96.1 प्रतिशत हुआ, CAG ने जारी किये आंकड़े

News Wing

New Delhi, 29 September : व्यय में बढ़ोतरी के चलते भारत का राजकोषीय घाटा अगस्त महीने के आखिर में 2017-18 के बजट अनुमान का 96.1 प्रतिशत तक पहुंच गया. महालेखा नियंत्रक (सीजीए) के आंकड़ों के अनुसार शुद्ध आधार पर राजकोषीय घाटा 2017-18 की अप्रैल -अगस्त अवधि में 5.25 लाख करोड़ रुपये रहा. राजकोषीय घाटे से आशय सरकारी व्यय व आय के अंतर से है.

CAG ने जारी किये आंकड़े

बीते वित्त वर्ष 2016-17 की इसी अवधि में राजकोषीय घाटा बजटीय लक्ष्य का 76.4 प्रतिशत रहा था. 

सरकार 2017-18 के दौरान राजकोषीय घाटे को जीडीपी के 3.2 प्रतिशत पर सीमित रखने का लक्ष्य लेकर चल रही है. बीते वित्त वर्ष में सरकार ने 3.5 प्रतिशत के राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को हासिल कर लिया था.



सीजीए आंकड़ों के अनुसार अप्रैल-अगस्त की अवधि में सरकार की राजस्व प्राप्तियां 4.09 लाख करोड़ रहीं जो कि समूचे वित्त वर्ष के लिए 15.15 लाख करोड़ रुपये के बजटीय अनुमान का 27 प्रतिशत है. बीते वित्त वर्ष की समान अवधि में यह लक्ष्य का 28 प्रतिशत रही थी.



गत वर्ष की तुलना में गिरावट 

सीजीए के अनुसार आलोच्य अवधि में सरकार का व्यय बढ़कर 9.5 लाख करोड़ रुपये हो गया जो कि बजटीय अनुमान का 44.3 प्रतिशत है. अप्रैल -अगस्त 2017- 18 की अवधि में पूंजीगत व्यय बजटीय अनुमान का 35.5 प्रतिशत रहा. एक साल पहले इसी अवधि में यह 37 प्रतिशत रहा था.

Share

Add new comment

loading...