Skip to content Skip to navigation

अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष ने भी घटाया भारत का वृद्धि दर अनुमान, नोटबंदी, जीएसटी का असर

News Wing

Washington, 10 October : अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने 2017 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 6.7 प्रतिशत रहने का नया अनुमान व्यक्त किया है. आईएमएफ का भारत के लिए यह अनुमान उसके पहले लगाये गये अनुमानों की तुलना में 0.5 प्रतिशत कम है. उसने इस कटौती के लिए नोटबंदी व जीएसटी के कार्यान्वयन का हवाला दिया है. आईएमएफ ने हालांकि, चीन के लिये 6.8 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान व्यक्त किया है.

IMF का अनुमान अनिश्चित

इसके साथ ही आईएमएफ ने 2018 में भारत की वृद्धि दर का अनुमान भी अपने पहले के अनुमान से 0.3 प्रतिशत कम कर 7.4 प्रतिशत कर दिया है. कोष ने इससे पहले जुलाई और अप्रैल में आर्थिक वृद्धि के अनुमान जारी किये थे.

भारत की वृद्धि दर 2016 में 7.1 प्रतिशत रही थी. हालांकि, यह वृद्धि आईएमएफ के अप्रैल के 6.8 प्रतिशत के अनुमान से अधिक रही.

आईएमएफ ने अपनी नवीनतम विश्व आर्थिक परिदृश्य रपट में कहा है, भारत में वृद्धि की गति नरम पड़ी है जो कि मुद्रा अदला बदली तथा साल के बीच में ही देश भर में माल व सेवा कर के कार्यान्वयन को लेकर अनिश्चिततता के चलते हुआ. इसमें कहा गया है, ‘अच्छे सरकारी परिव्यय तथा आंकड़ों में संशोधन के चलते 2016 में भारत की वृद्धि दर बढ़कर संशोधित 7.1 प्रतिशत हो गई. ’ इसके साथ ही आईएमएफ ने 2017 में वृद्धि दर के लिहाज से चीन को भारत से कुछ आगे रखा है. 2017 में चीन की वृद्धि दर 6.8 प्रतिशत रहना अनुमानित है.



वृद्धि दर बढ़ाने हेतु कई कई कदम उठाने होंगे

हालांकि, रपट के अनुसार 2018 में भारत दुनिया में सबसे तेज वृद्धि करने वाली उदीयमान अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर हासिल कर सकता है जबकि उस साल चीन की वृद्धि दर 6.5 प्रतिशत रहना अनुमानित है.

रपट में कहा गया है कि जीएसटी उन कुछ प्रमुख ढांचागत सुधारों में से एक है जिनसे मध्यम अवधि में वृद्धि दर बढ़कर आठ प्रतिशत करने में मददगार होंगें. इसके अनुसार, ‘भारत में श्रम बाजार नियमों तथा भूमि अधिग्रहण प्र​क्रिया के सरलीकरण की व्यापारिक माहौल को और बेहतर बनाने के लिये लंबे समय से प्रतीक्षा की जा रही है.’

आईएमएफ का कहना है कि 1999 और 2008 के बीच भारत की औसत वृद्धि दर 6.9 प्रतिशत रही उसके बाद 2009 में यह 8.5 प्रतिशत, 2010 में 10.3 प्रतिशत व 2011 में 6.6 प्रतिशत रही. इसी तरह 2012, 2013 व 2014 में वृद्धि दर क्रमश: 5.5 प्रतिशत, 6.4 प्रतिशत व 7.5 प्रतिशत रही. वहीं वैश्विक स्तर पर आईएमएफ ने वृद्धि दर 2017 व 2018 में क्रमश: 3.6 प्रतिशत व 3.7 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है.

Top Story
Share

Add new comment

UTTAR PRADESH

News WingGajipur, 21 October : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मोटरसाइकिल पर आए हमलावरों ने राष्ट्रीय स्...
News Wing Uttar Pradesh, 20 October: धनारी थानाक्षेत्र में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक इनामी बदमाश औ...
Website Designed Developed & Maintained by   © NEWSWING | Contact Us