Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

JAP IT टेंडर मामलाः जिस कंपनी को विभाग ने ब्लैक लिस्टेड किया था, उसी को कोर्ट और जेल में सीसीटीवी लगाने का ठेका देने की तैयारी

Akshay Kumar Jha

Ranchi:
रांची, हजारीबाग, दुमका, जमशेदपुर और पलामू के सेंट्रल जेल के अलावा रांची और धनबाद में सीसीटीवी लगाने का काम जिस कंपनी को JAP IT (Jharkhand Agency for Promotion of Information Technology) देने की तैयारी में है, उसमें बहुत बड़ा गड़बड़झाला सामने आया है. रेट कॉन्ट्रैक्ट की प्रक्रिया में BOQ के साथ छेड़छाड़ कर जिस दो कंपनियों को JAP IT काम देने जा रही है. उनमें एक कंपनी Sigma E Solution Pvt Ltd को झारखंड सरकार ने ब्लैक लिस्ट किया था. इतना ही नहीं जिस कंपनी का कैमरा Sigma E Solution लगाने जा रही है, वो कंपनी ही फर्जी है. इस बात की जानकारी विभाग को होने के बाद भी काम ऐसी कंपनी को दिया जा रहा है. 

कंपनी ने हाईकोर्ट में स्टे के लिए दिया था आवेदन

Sigma E Solution Pvt Ltd कंपनी को झारखंड सरकार ने 2 जुलाई 2013 को ब्लैक लिस्ट कर दिया था. ब्लैक लिस्ट होने के बाद कंपनी ने स्टे के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. इस कंपनी को ब्लैक लिस्ट की सूची से बाहर किया गया है कि नहीं इस बात की जानकारी उपलब्ध नहीं है. 24 जुलाई 2013 को कंपनी ने हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल कर ब्लैक लिस्ट पर स्टे लगाने की गुहार लगायी थी. सबसे खास बात यह कि कंपनी को JAP IT में किसी भी तरह के टेंडर भरने के लिए ब्लैक लिस्ट किया गया था. बावजूद इसके कंपनी ने सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए रेट कॉन्ट्रैक्ट में हिस्सा लिया. हिस्सा लेने के बाद सारी प्रक्रिया को पूरी करते हुए अब वर्क ऑर्डर लेने की तैयारी में है.

इसे भी पढ़ेंः जेल और कोर्ट में सीसीटीवी लगाने का टेंडर, L1 कंपनी ने 10.54 करोड़ की बोली लगायी, 13.98 और 95.27 करोड़ की बोली लगाने वाली कंपनी को काम देने की तैयारी-1

जिस कंपनी का कैमरा लगेगा उसका पता ही फर्जी है

Sigma E Solution Pvt Ltd ने अपने रेट कॉन्ट्रैक्ट में समृद्धि ऑटोमेशन का कैमरा लगाने की बात कही है. टेंडर की शर्तों के मुताबिक, जिस कंपनी का कैमरा लगेगा उसका कार्यालय झारखंड में होना अनिवार्य है. कंपनी ने अपने रेट कॉन्टैक्ट में समृद्धि ऑटोमेशन का जो पता दिया है वो फर्जी है. कंपनी के मुताबिक कैमरा कंपनी का कार्यालय 48/23, राणा प्रताप नगर, चास, बोकारो है. लेकिन newswing.com की टीम जब उस पते पर गयी तो वहां ऐसा कोई भी कार्यालय नहीं था. इस पते पर एक निजी लोन देने वाली कंपनी मिली. जिसका समृद्धि ऑटोमेशन से कोई लेना-देना नहीं है.

JAP IT को गलत पते की है जानकारी

विभाग को जब इस बात की जानकारी दी गयी तो विभाग का कहना था कि, उसके पास इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. कहा गया अगर कोई कंपनी इस बाबत लिखित शिकायत करती है, तो कार्रवाई निश्चित होगी. लेकिन, सच यह है कि जिन सात कंपनियों ने रेट कॉन्ट्रैक्ट के लिए आवेदन किया था. उसमें से एक कंपनी Planet M ने विभाग को मेल कर इस बात की जानकारी दी है. कंपनी ने लिखा है कि, समृद्धि ऑटोमेशन का पता जो चास बताया जा रहा है, वहां ऐसी कोई कंपनी है ही नहीं. बावजूद इसके कैमरा लगाने का काम JAP IT इस कंपनी को देने की तैयारी में है. 



गलत पते की कोई शिकायत करे, तो होगी कार्रवाईः सर्वेश सिंघल (CEO, JAP IT)

अभी तक किसी ने भी समृद्धि ऑटोमेशन के गलत पते की जानकारी मुझे नहीं दी है. मैं अपनी तरफ से बिना किसी शिकायत के जांच नहीं करा सकता. अगर कोई भी मुझे लिखित शिकायत करता है तो निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी. रेट कोट करने वाली कंपनी ब्लैक लिस्ट है कि नहीं इसकी भी जानकारी नहीं है. विभाग निश्चित रूप से सभी पहलुओं की जांच करेगा.   



कहां-कहां लगना है सीसीटीवी कैमरा

रांची सेंट्रल जेल, होटवार- 135 कैमरा

हजारीबाग सेंट्रल जेल- 242 कैमरा

दुमका सेंट्रल जेल- 94 कैमरा

जमशेदपुर सेंट्रल जेल- 146 कैमरा

पलामू सेंट्रल जेल- 125 कैमरा

रांची सिविल कोर्ट- 121 कैमरा

धनबाद सिविल कोर्ट- 209 कैमरा

Slide
City List: 
special news: 
Share

Add new comment

loading...