Skip to content Skip to navigation

न्यूज विंग के जागरूक पाठक अपनी समस्या, अपने आस-पास हो रही अनियमितता की तस्वीर या कोई अन्य खबर फोटो के साथ वाहट्सएप नंबर - 8709221039 पर भेजे. हम उसे यहां प्रकाशित करेंगे.

साहिबगंजः गोली मारकर वृद्ध की हत्या कर तीन लाख रुपये लूटे

News Wing

Sahebgunj, 15 November: जिले के उधवा प्रखंड अंतर्गत राधानगर थाना क्षेत्र के नाकिरटोला के पास कुछ हथियारबंद अपराधियों ने अब्दुल कादिर नाम के एक वृद्ध व्यक्ति की देर रात गोली मारकर हत्या कर दी. साथ ही उसके तीन लाख रुपये लेकर फरार हो गये. मृतक पश्चिमी उधवा दियारा के जहुर अहमद टोला का निवासी है. वह अपने समधी बरकत शेख के साथ किसी काम को लेकर नाकिरटोला गया था.

हवा में फायरिंग करते अपराधी फरार

घटना के बारे में बता दें कि लगभग एक दर्जन से भी अधिक हथियारबंद अपराधियों ने अब्दुल कादिर को पेट में गोली मार दी और उसके बाइक की डिक्की में रखें तीन लाख रुपये लेकर फरार हो गए. साथ ही दहशत फैलाने के लिए अपराधियों ने हवा में फायरिंग की और भाग गए. घटना के वक्त साथ में मौजूद मृतक के समधी को अपराधियों ने कुछ नहीं किया. इधर घटना की सूचना मिलते ही राधानगर थाना प्रभारी संजय प्रसाद अपने दल-बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. पुलिस घटना के बाद अज्ञात अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन में जुट गयी है.

पुरानी रंजिश के कारण हुई हत्या

अब्दुल कादिर के समधी बरकत शेख की मानें तो हत्या की वजह पुरानी रंजिश हो सकती है. मृतक की मालदा जिला के पंचानंदपुर थानाक्षेत्र के कुछ लोगों के साथ पुरानी रंजिश थी. जिसमें से एक व्यक्ति को उसने अपराधियों के साथ देखा था.

हत्या के पीछे कहीं अफीम तस्करी का कारोबार तो नहीं

ऐसे तो उधवा प्रखंड के दियारा क्षेत्र का गंगातट अपराधियों के लिए सुरक्षित जोन माना जाता है. जहां से वे पश्चिम बंगाल के अपराधियों के साथ तालमेल कर चोरी, अफीम तस्करी, पशु तस्करी व जालीनोट के कारोबार को आसानी अंजाम देते हैं. अब्दुल कादिर की हत्या मामले को भी अफीम तस्करों के साथ जोड़कर देखा जा रहा है. राधानगर और पश्चिम बंगाल के मालदा जिले के गंगबरार जमीन पर चोरी छुपे अफीम की खेती की जाती है. उक्त खेती के लिए सौदेबाजी होती है. संभावना है कि साजिश के तहत अब्दुल कादिर व उसके समधी को टारगेट कर घटना को अंजाम दिया गया होगा.

क्या कहते हैं थाना प्रभारी

थाना प्रभारी संजय प्रसाद का कहना है कि गंगा नदी के किनारे देर रात सुनसान जगह पर दोनों ही व्यक्तियों के जाने की वजह स्पष्ट नहीं है. वहीं पुलिस यह भी जाँच कर रही है कि आखिरकार देर रात अब्दुल कादिर गंगातट पर 3 लाख रुपए लेकर क्यों गया था. इसके पीछे छिपी वजह हासिल करने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने यह भी कहा कि मृतक के कॉल डिटेल से यह पता लगाया जा सकता है कि किसने मृतक को देर रात गंगा नदी के किनारे मिलने के लिए बुलाया था.

मृतक के खिलाफ कई थानों में है मामला दर्ज

वही सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह भी पता चला है कि अब्दुल कादिर एक जमाने मे अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सरगना प्रमुख भी था. इसके ऊपर भी अन्य राज्यों में कई बड़ी घटनाओं को अंजाम देने का मामला दर्ज है. वैसे भी यह क्षेत्र देश के सबसे बड़े चोर गिरोह के नाम से अन्य सभी राज्यों में विख्यात है. यहां आए दिन किसी न किसी राज्य की पुलिस चोरी के मामलें को लेकर पहुंचती रहती है.

Lead
City List: 
Share

Add new comment

loading...