PNB के बाद अब कानपुर में 5,000 करोड़ का घोटाला

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/17/2018 - 20:56

Kanpur : पीएनबी के लगभग 11300 करोड़ के घोटाले से बैंकिंग सेक्टर उबर भी नहीं पाया कि कानपुर में लगभग 5000 करोड़ का एक और बैंकिंग घोटाला सामने आ गया है. इस बैंकिंग घोटाले के तार कानपुर के उद्योगपति विक्रम कोठारी से जुड़े हैं. रोटोमैक ग्लोबल कंपनी के मालिक विक्रम कोठरी इस समय कहां हैं, किसी को इसकी जानकारी नहीं है. नियमों को ताक पर रखकर कोठारी की कंपनियों को लोन देने वाली राष्ट्रीयकृत बैंकों में हड़कंप मच गया है.

इसे भी पढ़ें : प्रधानमंत्री बतायें कि नीरव से जुड़ा इतना बड़ा घोटाला क्यों और कैसे हुआ : राहुल

रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी ने बैंक को लगाया चूना

राष्ट्रीयकृत बैंकों द्वारा देश की जनता की गाढ़ी कमाई घोटालेबाज पूजीपतियों पर लुटाने की करतूतें एक एक करके सामने आने लगी हैं. ताजा खुलासा कानपुर के एक प्रतिष्ठित उद्योगपति परिवार का हिस्सा रहे विक्रम कोठारी से जुड़ा है. पान पराग समूह में पारिवारिक बंटवारे के बाद विक्रम कोठारी के हिस्से में रोटोमैक कम्पनी आई थी और इसके विस्तार के लिए उसने सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों से 5 हजार करोड़ से अधिक के ऋण लिए. विक्रम के रसूख के चलते बैंकों ने उसे खैरात की तरह लोन बांटे.

इसे भी पढ़ें : अरविंद केजरीवाल ने पीएनबी घोटाले पर कहा-पहले कांग्रेस कमाती थी, अब बीजेपी

कंपनी पर लग चुका है ताला

कागजों में विक्रम की संपत्तियों का अधिमूल्यन किया गया. सर्वे में दिवगंत पिता मनसुख भाई कोठारी की साख को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी गयी. देश के बड़े राजनेताओं के साथ रिश्तों और बॉलीवुड की मशहूर हस्तियों के ब्रांड एम्बेसडर होने से बैंक प्रबंधन ने भी आंखें मूंद ली और कंपनी के घाटे को नजरअन्दाज करके ऋण की रकम को हजारों करोड़ में पहुंचने दिया. अब विक्रम की कंपनी में ताला लग चुका है और उनका कहीं कोई अता-पता नहीं है.

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड का सचः एक माह पुरानी, एक लाख की कंपनी से सरकार ने किया 1500 करोड़ का करार

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड का सच- 2: तीन कंपनियों की कुल पूंजी तीन लाख, एमओयू 2800 करोड़ का

5 बैंकों से करोड़ों का घोटाला

अब तक विक्रम कोठारी को ऋण देने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के 5 बैंकों के नाम सामने आ चुके हैं. इंडियन ओवरसीज बैंक ने 1400 करोड़, बैंक ऑफ इंडिया ने 1395 करोड़, बैंक ऑफ बड़ौदा ने 600 करोड़, यूनियन बैंक ने 485 करोड़ और इलाहाबाद बैंक ने 352 करोड़ का लोन दिया था.

कौन है विक्रम कोठारी?

बैंकिंग सेक्टर का नंगा सच सामने लाने वाले इस महाघोटाले पर आगे बढ़ने से पहले बता दें कि कौन है ये विक्रम कोठारी और क्या है उसका रसूख. विक्रम कोठारी का नाता पान पराग समूह से रहा है. पान मसालों का सरताज रहा यह ब्रांड गुजराती परिवार से ताल्लुक रखने वाले मनसुख भाई कोठरी ने 18 अगस्त 1973 को शुरू किया था. सन् 1983 से 1987 के बीच ‘‘पान पराग’’ विज्ञापन देने वाली सबसे बड़ी कंपनी बन गयी. मनसुख भाई के निधन के बाद उनके बेटों दीपक और विक्रम ने बिजनेस को आपस में बांट लिया गया. विक्रम के हिस्से में पेन बनाने वाली कंपनी रोटोमैक आयी. एक समय ऐसा भी था जब कंपनी अपना सुनहरा समय बिता रही थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप