विवादों में घिरे रहने वाले कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने मुखिया के साथ की गाली-गलौज, धमकाया, जातिसूचक गालियां दी, प्राथमिकी दर्ज 

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 12/27/2017 - 11:31

Devghar: कृषि मंत्री रणधीर सिंह और विवादों का रिश्ता नया नहीं है. वह लगातार किसी न किसी वजह से विवादों में घिरते रहते हैं. कभी प्रशिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज के साथ दुर्व्यवहार करने के मामले में तो कभी रणधीर सेना को लेकर. ताजा मामला उनके खिलाफ एससी-एसटी की धाराअों के तहत प्राथमिकी दर्ज किए जाने का है. देवघर के सारठ थाना की पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर मंत्री रणधीर सिंह और दो अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है. कोर्ट ने सारठ प्रखंड के अलुवारा पंचायत के मुखिया जयदेव मेहरा ने की शिकायतवाद (पीसीआर संख्या 413/17 ) की सुनवाई के बाद प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है. एडीजे प्रथम, देवघर के आदेश पर कांड संख्या 214/2017 धारा 323,341,380,452,454,506/34 एवं हरिजन उत्पीड़न एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ है.      

इसे भी पढ़ें -  कृषि मंत्री रणधीर सिंह के खिलाफ कोर्ट कंप्लेन, मुखिया ने कहाः मंत्री ने दी जातिसूचक गाली और जान से मारने की धमकी

मुखिया ने यह लगाये हैं आरोप

मंत्री के खिलाफ दायर शिकायतवाद में मुखिया ने आरोप लगाया है कि 13 अक्टबूर 2017 को प्रखंड प्रमुख के घर पर चाय नाश्ते का कार्यक्रम था. इसमें कृषि मंत्री रणधीर सिंह भी शामिल थे. उन्होंने मुझे ( मुखिया ) को देखते जाति सूचक गालियां दी. इस दौरान अमित राय, विमल राय, महेंद्र सिंह , गुलाब सिंह संजय कुमार व रूपेश वर्मा आदि मौजूद थे. मंत्री ने उनसे कहा कि मेरे आदमी का काम क्यों नहीं करता है. साथ ही भद्दी गालियां दी.  मुखिया ने  एफआईआर में यह भी जिक्र किया है कि जब मैंने कृषि मंत्री के गाली देने का विरोध किया तो अपने अंगरक्षक के साथ उन्होंने मिलकर धक्का-मुक्की की. जब इस घटना की जानकारी देने थाना गया तो थाना प्रभारी ने केस लेने से साफ इंकार कर दिया. इसके बाद मैंने इसकी लिखित शिकायत पुलिस अधीक्षक को दिया.

इसे भी पढ़ें - जामताड़ाः कृषि मंत्री के क्षेत्र में रणधीर सेना का आतंक, सेनापति का पता नहीं, लेकिन सैनिक कर रहे उत्पात

प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि इस घटना के बाद 15 अक्टूबर की रात के 10 बजे रणधीर सिंह अपने अंगरक्षक और कुछ अज्ञात लोगों के साथ मुखिया के डुमरिया स्थित घर में दरवाजे का ताला तोड़कर घुस आये और उनके साथ गाली – गलौज करने लगे. जातिसूचक गालियां दीं. इसके बाद रणधीर सिंह ने उनसे कहा कि तू थाना गया था. शिकायत लेकर. तू जानता नहीं है कि मैं झारखंड सरकार हूं. थाना – प्रशासन सब कुछ मेरे पॉकेट में रहता है. इससे मेरा कुछ नहीं बिगड़ेगा. मुखिया ने आरोप लगाया है कि इसके बाद चंदन सिंह ने मुझे पकड़ा और मंत्री के सुरक्षाकर्मी ने राइफल तान दी. मुखिया ने यह भी आरोप लगाया है कि  मंत्री रणधीर सिंह अपने साथ पांच सादा कागज लेकर आये थे और सब पर उनसे जबरन हस्ताक्षर करवा लिया. जाते – जाते मंत्री बोल गये कि इस घटना की सूचना किसी दी तो तुम्हें और पूरे परिवार को जान से मरवा देंगे. इतने केस लदवा देंगे कि जेल में सड़ जाओगे और मुखिया पद से भी हटवा देंगे. इसकी सूचना जब थाने में देने गये तो थाना ने केस लेने से इंकार कर दिया.

इसे भी पढ़ें - ज्यां द्रेज के साथ मंत्री रणधीर सिंह समेत भाजपा नेताओं ने की बदसलूकी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

Main Top Slide
City List of Jharkhand
loading...
Loading...