जामताड़ा : गलत एफिडेविट देकर ठेकेदार ने कराया कार्य आवंटित

Submitted by NEWSWING on Tue, 01/09/2018 - 17:39

Jamtara: जिस ठेकेदार को सरकार ने ब्लैक लिस्ट कर दिया उसी संवेदक से करोड़ों की लागत का सड़क निर्माण कार्य कराया जा रहा है. विभाग के कार्यपालक अभियंता, सहायक अभियंता, कनीय अभियंता की मिलीभगत से ब्लैक लिस्ट संवेदक से ताबड़तोड़ काम कराकर अधिक से अधिक सरकारी राशि की निकासी की कोशिश की जा रही है. गौरतलब है कि जामताड़ा ग्रामीण विकास विभाग द्वारा करीब तीन किमी सड़क (तांबाजोर, गुहियाजोरी मोड़ से डुमरिया पथ) का निर्माण कार्य मेसर्स प्रदीप मंडल कंस्ट्रक्शन लिमिटेड से करवाया जा रहा है. करीब 1.89 करोड़ की लागत का यह काम विभाग के पदाधिकारियों की मिलीभगत से राज्य संपोषिथ योजना के तहत आवंटित किया गया है. एकरारनामा भी कर दिया गया.

इसे भी पढ़ेंः फर्जी नक्सल सरेंडर मामले में सरकार ने कहा गृह मंत्रालय के निर्देश पर कराया जा रहा था सरेंडर, कोर्ट ने 29 जनवरी तक मांगा दस्तावेज

इसे भी पढ़ेंः 17 साल के झारखंड में पहली बार राजनीतिक नहीं बल्कि प्रशासनिक अस्थिरता

ठेकेदार को किया गया है ब्लैक लिस्ट

कार्यपालक अभियंता, सहायक अभियंता, कनीय अभियंता ने गलत कागजात (फर्जी शपथ पत्र) पर ही संवेदक को कार्य आवंटित कर दिया. बताया जाता है कि विभाग द्वारा जांच के बाद संवेदक के कार्य में गड़बड़ी पाये जाने पर उसे डिबार कर दिया गया था. इसके बाद भी उससे लगातार काम लिया जाता रहा है. डिबार करने के बाद संवेदक को काली सूची में डाल दिया गया है. सरकार ने काली सूची में डाल संवेदक द्वारा किये गये सभी कार्यो की अंतिम मापी की तारीख रखा था.

इसे भी पढ़ेंः लालू के बहाने जेल की पड़तालः झारखंड के जेलों में कैदियों की मौज, रसूखदार अंदर भी कर लेते हैं सेवकों का इंतजाम, 4G का भी खूब लुत्फ उठा रहे कैदी

इसे भी पढ़ेंः मधु की मौत पर मुआवजा और संवेदनाओं की लीपापोती में लगा कोडरमा प्रशासन, जिले को ODF साबित करने के लिए बनाये जा रहे कागजी रिकॉर्ड

अधिकारियों ने साध रखी है चुप्पी

संबंधित विभाग के पदाधिकारी की मिलीभगत से करोड़ों का सड़क निर्माण का कार्य कराया जा रहा है. सरकारी अधिकारी अधिक से अधिक कार्य दिखाकर सरकारी पैसे का निकासी कर संवेदक को लाभ पहुंचाने की फिराक में है. यह सारा खेल जिला प्रशासन और सरकार के सामने हो रहा है लेकिन सब चुप हैं.

इसे भी पढ़ेंः पलामू: बालू के अवैध खनन से नदियों के अस्तित्व पर खतरा, बालू में 40 प्रतिशत मिट्टी निकलने के बाद भी हो रहा उठाव (देखें वीडियो)

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमेंफ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
loading...
Loading...