नवम्बर-दिसम्बर के बीच दुमका डीटीओ के लॉगइन को हैक कर 38 वाहनों का कर दिया नाम ट्रांसफर और कर्ज मुक्त, आठ मार्च को लॉगइन में प्रवेश का आया नोटिफिकेशन

Publisher NEWSWING DatePublished Sun, 03/18/2018 - 15:30

Dumka : साइबर एक्सपर्ट किस कदर अपने हुनर का गलत प्रयोग कर अपराध कर रहे हैं, इसका अंदाजा दुमका के जिला परिवहन पदाधिकारी के लॉगइन को हैक कर हुये फर्जीवाड़े से लगाया जा सकता है. प्रशासन को भी ये साइबर एक्सपर्ट अपना निशाना बनाने में लगे हुये हैं. दुमका के जिला परिवहन पदाधिकारी के लॉगइन को हैक कर बड़े पैमाने पर फर्जी कार्य किये गये. इस फर्जीवाड़े से परिवहन विभाग के राजस्व को भी नुकसान पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें - गुमला : भाजपा प्रखंड अध्यक्ष विक्की साहू की हत्या, अपराधियों ने पहले मारी गोली, फिर भुजाली से काट डाला

इसे भी पढ़ें - दुस्साहस : पिस्का में दिन दहाड़े लोहरदगा जिला कोषाध्यक्ष पंकज गुप्ता की गोली मार कर हत्या

इसे भी पढ़ें - वीडियो में देखिये कैसे अपराधियों ने भाजपा नेता पंकज गुप्ता को मारी गोली

डीटीओ के ईमेल आइडी पर विभागीय एप्लीकेशन में फोर्सली प्रवेश का मैसेज आने पर हुआ खुलासा

मामला उस समय पकड़ में आया, जब डीटीओ विद्याभूषण कुमार के इमेल आइडी पर उनके विभागीय एप्लीकेशन के लॉग इन में प्रवेश की फोर्स इंट्री के नोटिफिकेशंस सात व आठ मार्च 2018 को लगातार मिलने लगी. इस नोटिफिकेशंस पर उन्हें शक हुआ, जिसके बाद उन्होंने मामले की जांच करायी. शुरुआती जांच में पाया गया कि महीने भर में ही इस लॉग इन को हैक कर किसी अनाधिकृत्त व्यक्ति ने 38 बार वाहनों के स्वामित्व का स्थानांतरण (ट्रांसफर ऑफ ऑनरशिप) तथा दृष्टिबंधक समाप्ति (हाइपोथिकेशन टर्मिनेशन) जैसी कार्रवाई फर्जी तरीके से कर दी है. इस लॉग इन में एक्सेस कर इन कार्यों को अनुमोदित किया गया. यह 38 फर्जी कार्रवाई 11 नवंबर 2017 से लेकर 16 दिसंबर 2017 के बीच हुई है. 

इसे भी पढ़ें - बीजेपी लीडर के मर्डर को लेकर एसएसपी ने बनायी स्पेशल टास्क फोर्स, टीम में ATS और CID भी शामिल

इसे भी पढ़ें - भाजपा नेता की हत्या के 24 घंटे के बाद भी पुलिस के हाथ खाली

बारीकी से हुई जांच तो हो सकते हैं कई बड़े खुलासे

परिवहन विभाग में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गयी है. अगर इस गड़बड़ी को उजागर करने के लिए बारीकी से मामले की जांच की गयी तो कई बड़े खुलासे होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है. इतनी बड़ी गड़बड़ी की घटना उजागर होने के बाद आशंका जतायी जा रही है कि इस मामले में विभाग से जुड़े रहे कुछ पुराने लोगों की भी संलिप्तता हो सकती है, वे लोग आइटी के जानकार रहे होंगे या इस विभाग के ऑपरेटर रह चुके हों. परिवहन विभाग को चूना लगाने के मामले में विभागीय स्तर पर दुमका डीटीओ के लॉग इन को एक्सेस करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी चल रही है. कार्रवाई के लिए कई तरह के साक्ष्य जमा किये गये हैं.

एसडीओ राकेश कुमार ने जांच के लिए मुख्यालय को लिखा

एसडीओ राकेश कुमार ने जिला परिवहन पदाधिकारी के लॉग इन में साइबर सेंधमारी होने की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि मार्च के पहले सप्ताह में डीटीओ के लॉग इन को हैक करने को लेकर नोटिफिकेशंस आया था. जिसके बाद उन्होंने इसे ब्लॉक किया था. यह नोटिफिकेशंस लॉग इन में फोर्सफुली इंटर करने से संबंधित था. तब इस मामले में डिस्ट्रिक्ट इन्फॉर्मेटिक सेंटर के टेक्निकल सेल की मदद ली गयी थी. 

नवम्बर दिसम्बर के बीच मामले की जांच करायी गयी थी

नवंबर-दिसंबर के बीच के मामले की जांच जांच करायी गयी थी. जांच में अनधिकृत्त तरीके से किसी अन्य आइपी से फर्जीवाड़े का काम किया गया था. एसडीओ ने मामले में बताया कि अभी इस मामले में आवश्यक दस्तावेज और साक्ष्य एकत्रित कर विस्तृत जांच के लिए एनआइसी के पदाधिकारी को लिखा गया है तथा विभागीय प्रधान और परिवहन विभाग के तकनीकी पदाधिकारी को सूचना दी गयी है. उन्होंने कहा कि मामले में जो भी दोषी हैं, उनतक पहुंचकर कड़ी कार्रवाई की जायेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
loading...
Loading...