आरक्षण के खिलाफ भारत बंद, आरा में रोकी ट्रेन-एमपी के कई शहरों में धारा 144 लागू

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 04/10/2018 - 09:17

Newswing Desk: SC/ST एक्ट में हुए बदलावों के विरोध में 2 अप्रैल को दलित संगठनों के भारत बंद के जवाब में सवर्णों ने मंगलवार को भारत बंद बुलाया है. इस बंद को लेकर देश के सभी राज्यों की पुलिस हाईअलर्ट पर है, गृहमंत्रालय ने भी सभी राज्यों को सख्ती बरतने के लिए कहा है. कई राज्यों में बंद को देखते हुए धारा 144 लागू की गई है. गौरतलब है कि ये भारत बंद आरक्षण के विरोध में बुलाया गया है.

इसे भी पढ़ें:झारखंड के विकास पर कहां डिबेट करेंगे, रघुवर, बाबूलाल, हेमंत व अजय ? MGM, बकोरिया, संतोषी के गांव, गोड्डा माइंस या पोकरीकला जहां  हुआ  कंबल घोटाला 

बता दें कि गृह मंत्रालय ने सोमवार को ही सभी राज्यों को एडवाइज़री जारी की थी. इसमें राज्यों के डीएम और एसपी को अलर्ट जारी किया गया था और बंद के दौरान सतर्क रहने को कहा गया था. आपको बता दें कि ये बंद किसी संगठन के द्वारा नहीं बुलाया गया है. बल्कि 2 अप्रैल के बाद लगातार सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे संदेशों के जरिए ही बुलाया गया है.

बंद का बिहार में असर

भारत बंद के दौरान आरा में सैकड़ों युवाओं ने पटना पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया. आक्रोशित युवाओं ने रेल पटरी पर उतरकर आरक्षण के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. वही आक्रोशित युवाओं ने आगजनी कर सड़क मार्ग को भी बाधित कर दिया. नवादा थाना क्षेत्र के चंदवा मोड़ के समीप आरक्षण के खिलाफ नारे लगा रहे युवाओं ने 84 आरा बक्सर मुख्य मार्ग को सुबह से ही जाम लगाना शुरू कर दिया. बंद के दौरान सड़क पर उतरे युवा का कहना है कि आरक्षण जाति के हिसाब से नहीं बल्कि आर्थिक रुप से कमजोर लोगों को मिलना चाहिए ताकि हर वर्ग के लोग समाज की मुख्यधारा में आ सके. इसके अलावा बिहार में NH 219 के पास रतवार गांव में लोगों ने सड़क को जाम कर दिया है और नारेबाजी कर रहे हैं. जबकि मुजफ्फरपुर में मंगलवार सुबह पटना रोड के पास टायर जलाकर प्रदर्शन किया गया. इसके अलावा भगवानपुर में मुख्य सड़क पर जाम लगा दिया गया है.  हालांकि बिहार में भी भारत बंद के चलते सुरक्षा बढ़ायी गयी है. ज्ञात हो कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मंगलवार को बिहार में ही हैं, इसलिए सुरक्षा वैसे ही बढ़ाई गई है.

इसे भी पढ़ें:10 अप्रैल की बंदी को लेकर किसी संगठन ने अबतक नहीं की घोषणा, पर सरकार ने जारी किया अलर्ट  

उत्तर प्रदेश में बढ़ी सुरक्षा

आरक्षण के खिलाफ बुलाये गये भारत बंद का सबसे ज्यादा असर उत्तर प्रदेश में दिख रहा है. मेरठ, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर में रविवार से ही सुरक्षा बढ़ा दी गई है. सहारनपुर में अग्रिम आदेशों तक इंटरनेट की सुविधा को बंद कर दिया गया है. इसके अलावा हापुड़ और मुजफ्फरनगर में भी इंटरनेट की सेवा बंद है. वहीं फिरोजाबाद और मुजफ्फरनगर में स्कूलों को भी बंद रखा गया है. रविवार रात से ही कई इलाकों में पुलिस ने मार्च किया. अभी शुरुआत में मेरठ में भारत बंद का कोई असर नहीं दिख रहा है.

मध्य प्रदेश  के कई राज्य में धारा 144 लागू

गौरतलब है कि 2 अप्रैल को बुलाए गए भारत बंद के दौरान सबसे ज्यादा हिंसा मध्यप्रदेश में ही हुई थी. जिससे सबक लेकर शिवराज सरकार ने मंगलवार के बंद को देखते हुए सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था की है. राज्य के कई शहरों में धारा 144 लागू की गई है. भिंड, ग्वालियर, मुरैना, श्योपुर, शिवपुरी, श्योपुर, शिवपुरी में इंटरनेट की सुविधा पर रोक लगा दी गई है. भिंड और मुरैना में कर्फ्यू लगा दिया गया है. पैरामिलिट्री फोर्स की 6 कंपनियों को तैनात किया गया है. ग्वालियर में उपद्रवियों से निपटने के लिए 2 हज़ार से ज्यादा पुलिस बलों को तैनात किया गया है. इसके अलावा सीआरपीएफ को भी तैनात किया गया है. भोपाल, रायसेन, टीकमगढ़ में धारा 144 को लागू है. जबकि सागर में किसी भी तरह के धरने, रैली और जुलूस पर प्रतिबंध लगाया गया है. मध्य प्रदेश के ग्वालियर, मुरैना और भिंड में हुई हिंसा के बाद, उच्च जातियों के संगठनों द्वारा 10 अप्रैल को प्रस्तावित भारत बंद और 14 अप्रैल को संविधान निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर की जयंती के मद्देनजर प्रशासन पूरी तरह सतर्कता बरत रहा है.

इसे भी पढ़ें:राज्य में स्थानीय को ही मिलेगी थर्ड और फोर्थ ग्रेड की सरकारी नौकरी, कमिटी ने बनाई रिपोर्ट, 17 अप्रैल को फैसला

गौरतलब है कि बीते 2 अप्रैल को एससी/एसटी एक्ट में बदलावों के खिलाफ दलित संगठनों ने भारत बंद बुलाया था. इस भारत बंद में काफी हिंसा हुई थी, जिसमें करीब 12  लोगों की मौत हुई थी. इस दौरान उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, बिहार समेत कई राज्यों में काफी हिंसा और तोड़फोड़ हुई थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.