रांची के गर्ल्स स्कूल की पूर्व छात्राओं को टार्गेट कर रहे हैं साइबर अपराधी, चैटिंग में अश्लील मैसेज कर करते हैं ब्लैकमेल

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 03/12/2018 - 14:10

Manjusha Bhardwaj
Ranchi
: दौड़ भाग की जिंदगी में लोगों के पास इतना वक्त नहीं होता कि वो एक दूसरे से मिल सकें. ऐसे में लोग सोशल मीडिया का सहारा लेते हैं. एक तरफ जहां सोशल मीडिया आपको लोगों से जोड़ता है, वहीं दूसरी ओर  इससे कई तरह की परेशानियां भी होने लगी है. आपकी यह परेशानियां कब साइबर क्राईम का रुप ले लेता है, पता भी नहीं चलता.  फेसबुक पर फेक आईडी चलाना, आजकल आम बात हो गयी है, और उससे सही और गलत आदमी का पता लगा पाना मुश्किल हो जाता है. फेक आईडी के जरिये अश्लील मैसेज भेजे जाते हैं. या फिर बहुत खराब भाषा का इस्तेमाल करते हुये धमकी दी जाती है.

रांची में महिलाओं से साइबर क्राइम के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. इसी क्रम में एक मामला उजागर हुआ है. जिसमें शहर की लड़कियों के ग्रूप को टार्गेट किया जा रहा है. उनके फेक फेसबुक अकाउंट बनाये जा रहे है. साथ ही इसके जरिये ग्रूप की दूसरी लड़कियों को ब्लैकमेल किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें - अवैध कमेटी की अनुशंसा पर डीजीपी ने एसपी आवास में महिला सिपाही का यौन शोषण करने वाले सार्जेंट व रीडर को किया निलंबन मुक्त !

ranchi
प्रतीकात्मक तस्वीर

एेसे फेक फेसबुक अकाउंट बनाकर किया जा रहा है ब्लैकमेल

•    रांची के पुरुलिया रोड़ स्थित एक गर्ल्स स्कूल की पूर्व छात्राओं के ग्रुप को टार्गेट किया गया है. और इसमें से छह से सात लड़कियों का फेक फेसबुक अकाउंट बनाया गया है. इनमें से एक लड़की एक बॉलीवुड फिल्म में साइड एक्ट्रेस का काम भी कर चुकी हैं. 

•    पहले एक लड़की के असली नाम और फोटो से साइबर क्रिमिनल ने फेक फेसबुक अकाउंट बनाया और उसकी फ्रेंड यानी की दूसरी लड़की को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा. जब दूसरी लड़की ने रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर लिया तो उसे अश्लील मैसेज और फोटो भेजने लगा. साथ ही धमकी भी देने लगा. 

•    रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करते ही फेक अकाउंट बनाने वाला व्यक्ति सबसे पहले लड़की की फोटो निकाल लेता था. ताकि वह उसकी भी फेक अकाउंट बना सके. इसी प्रकार उसने छह से सात लड़कियों को टार्गेट कर उनका फेक फेसबुक अकाउंट बनाया.

इसे भी पढ़ें -जामताड़ा एसपी का रीडर महिला सिपाहियों से कहता था - खुद को मुझे सौंप दो, अच्छी पोस्टिंग करवा दूंगा


 

ranchi
प्रतीकात्मक तस्वीर

लड़कियों से किस तरह की बातें करता था फेक अकाउंट बनाने वाला व्यक्ति

फेक अकाउंट के द्वारा रिक्वेस्ट एक्सेप्ट किये जाने के बाद वह दूसरी लड़की को बता दिया करता था कि वह फेक अकाउंट है. और साथ ही उसकी भी फेक अकाउंट बनाने की धमकी दिया करता था. इस तरह की धमकी देता था वह व्यक्ति...
-   एक लड़की को उसने रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने पर जो मैसेज किया वह यह था कि “ हैलो, तुमको पता है यह एक फेक आईडी है. जिसके नाम से यह आईडी है मैंने उस लड़की को बहुत बदनाम कर दिया है और अब तुम्हारी बारी है. तुम्हारे अकाउंट से  मैंने तुम्हारी सारी फोटो चुरा ली है. अब तुम्हारा फेक आईडी बना लूंगा और तुमको रिक्वेस्ट भेजूंगा देख लेना. ब्लॉक करने से और किसी को कुछ भी बताने से कुछ नहीं होगा. अगर चाहती हो मैं ऐसा कुछ ना करूं तो मैसेज करो. यह मत सोचना कि ब्लॉक कर देने से सब कुछ सही हो जायेगा. मैं और ज्यादा तुमको बदनाम करूंगा. एक बात याद रखना, अगर ब्लॉक करोगी तो कल ही तुम्हारा फेक अकाउंट बनाकर तुमको रिक्वेस्ट भेजूंगा और जो कुछ तुम्हारी फोटो में लिखूंगा तुम देख लेना तुम्हे कैसे बदनाम करूंगा. हैलो...बोलो...बोलो... मैं तुम्हारा फेक अकाउंट बनाने जा रहा हूं... ओके. तुमको लग रहा होगा कि मैं धमकी दे रहा हूं. तुमको मैं करके दिखाऊंगा, याद रखना मेरा वादा है तुमसे बहुत जल्दी. तुमको जो करना है कर लो. अब मैं तुमको नहीं छोड़ने वाला, तुम यह मत सोचना कि तुम मुझे पकड़ लोगी. 
- उसके बाद उसने कुछ फोटो भेजे और लिखा कि यह सब इसी लेडी के फोटो हैं इन सबको मैंने बहुत गंदे तरीके से यूज किया है, जैसे कि तुम्हारे करूंगा. अभी भी तुम्हारे पास टाइम है, एक बार रिप्लाई करो. 
- तुमको मैंने बोला था, तुमने रिप्लाई नहीं किया तो अब तुमको अच्छे से पता चलेगा.
- रांची झारखंड में तुमको इतना बदनाम कर दूंगा, तुमने कभी सोचा भी नहीं होगा. तुम्हारा एक-एक फोटो है मेरे पास. अब तुम मुझे ब्लॉक भी कर दोगी तो कोई प्रॉब्लम नहीं है. क्योंकि तुम मुझे रिप्लाई नहीं कर रही हो इसलिये मुझे ब्लॉक कर दो. तुम कभी मुझसे बात नहीं कर पाओगी और ना ही कभी तुम्हारा फेक अकाउंट बंद होगा.
- रिप्लाई नहीं करने पर कहा कि ओके कल मिलते हैं तुम्हारे फेक अकाउंट के साथ .तुम्हें रिक्वेस्ट भेजूंगा. देख लेना जो कुछ तुम्हारी फोटो में लिखा होगा... बाय.

ranchi
प्रतीकात्मक तस्वीर

अकाउंट बनाकर डाल देता था अश्लील फोटो, लिखता था गंदी बातें...

जिसने फेक अकाउंट बनाया था, वह लड़कियों की अश्लील फोटो भी लगाया करता था. उनके कवर फोटो पर या फिर पोस्ट किया करता था उनके वाल पर. इन अश्लील फोटो के साथ वह अश्लील बातें भी लिखा करता है. ताकि वो उसे बदनाम कर सके. फेक अकाउंट बनाने वाला लड़की की असली फोटो लगाने के बाद उसमें जो पोस्ट लिखा था वो इस प्रकार था “ मैं रांची में रहती हूं. मेरे साथ ... करोगे. मुझे मैसेज करो अपना नंबर और अपना एड्रेस दूंगी. फुल टाइम मस्ती नाइट में मुझे मस्ती करना बहुत अच्छा लगता है...

पीड़िता ने साइबर सेल में की पूरे मामले की शिकायत, लेकिन निराशा लगी हाथ

सूत्रों ने बताया कि फेक फेसबुक अकाउंट बनाये जाने के बाद पीड़िता ने साइबर सेल में इस बात की शिकायत की. लेकिन शिकायत किये जाने के बाद भी साइबर सेल की ओर से किसी भी प्रकार का कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया. मामले की खोजबीन करने की जगह साइबर सेल ने यह कह दिया कि पहले थाने में मामला दर्ज कराकर केस की कॉपी लेकर आयें. जिसके बाद इसकी शिकायत कांके थाना में की गयी. लेकिन थाना ने भी इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया. ठीक तरीके से पुलिस ने बात तक नहीं की. उनका कहना था कि पीड़िता को लेकर आइये, उसी से बात की जायेगी. वहीं इस तरह की धमकी से पीड़िता बहुत डरी हुयी थी और इसी वजह से वह थाने नहीं गयी थी. पुलिस को बताया गया कि छह से सात लड़कियों के फेक फेसबुक अकाउंट बनाये गये हैं. यह एक गंभीर मामला है, इसपर ध्यान दें. बावजूद इसके अभी तक किसी भी प्रकार की कोई कदम नहीं उठाया गया. पीड़िता के एक करीबी ने न्यूज विंग को बताया कि साइबर सेल और थाने की ओर से निराशा हाथ लगने के बाद इस मामले को लेकर रांची के एसएसपी कुलदीप द्विवेदी से मिलने की कोशिश की जा रही है. लेकिन अब तक उनसे मुलाकात नहीं हो पायी है.

इसे भी पढ़ें - सार्जेंट मेजर व रीडर पर यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद जामताड़ा के पुलिस अफसरों ने महिला सिपाही को चोरी के केस में फंसा कर सस्पेंड किया !

ranchi
प्रतीकात्मक तस्वीर

सोशल मीडिया के जरिये महिलाओं को किया जाता है ब्लैकमेल

रांची में यह कोई पहला मामला नहीं है, जब लड़कियों को इस तरह से टार्गेट किया गया है. इससे पहले भी साइबर क्राइम के मामले आते रहे हैं. हर महीने 10-12 केस आते हैं. कई ऐसे मामले भी आये हैं, जिसमें फ्रेंडशिप में तनाव आने के बाद सोशल मीडिया के जरिये ब्लैकमेल किया गया है. खासकर लड़कियों के अश्लील फोटो और वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी के मामले सबसे ज्यादा है. दरअसल कई बार सोशल साइट्स पर सावधानी नहीं बरतने का खामियाजा महिलाओं को भुगतना पड़ रहा है. वहीं, कई बार किसी पर अधिक भरोसा करना भी मुश्किलें पैदा कर देती है.

ऐसे किया जाता है महिलाओं को सोशल मीडिया से परेशान

साइबर क्राइम की सबसे ज्यादा शिकार महिलायें होती हैं. महिलाओं को निशाना बनाकर सबसे ज्यादा जिस अपराध को अंजाम दिया जाता है, वह साइबर वर्ल्ड में उनका पीछा करना होता है. यह अपराध कई प्रकार के होते हैं. जैसे कि बार-बार मैसेज भेजना, मिस्ड कॉल करना, फ्रेंड रेक्वेस्ट भेजना, फेक अकाउंट बनाना आदि. गौरतलब है कि आईपीसी की धारा 354डी के तहत यह सब करना एक दंडनीय अपराध है. हालांकि कई बार बदनामी के डर से ऐसे मामलों में सामने आने से महिलायें डरती हैं. जिसके कारण दिन प्रतिदिन साइबर अपराधियों का हौसला बढ़ते जा रहा है.

इसे भी पढ़ें -  बीजेपी लीडर के मर्डर को लेकर एसएसपी ने बनायी स्पेशल टास्क फोर्स, टीम में ATS और CID भी शामिल

समय रहते साइबर क्राइम के लिये उठाये कदम
महिलाओं की फोटो लगाकर सोशल साइट्स में अकाउंट बनाने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं.  ऐसे में इसकी जानकारी मिलते ही सही कदम उठाना जरूरी है. पुलिस को खबर कर अकाउंट ब्लॉक करायें. ताकि आगे जाकर किसी और तरह की कोई परेशानी न हो.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप