भाकपा माअोवादी ने 29 मार्च को झारखंड बंद बुलाया

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 03/20/2018 - 10:18

Ranchi: भाकपा माअोवादी ने 29 मार्च को झारखंड बंद का आह्वान किया है. भाकपा माअोवादी के झारखंड रीजनल कमेटी के प्रवक्ता अमन ने प्रेस बयान जारी कर लोगों से अपील किया है कि वह झारखंड बंद को सफल बनायें.  अमन के बयान के मुताबिक एंबुलेंस, प्रेस, दूध, अग्निशमन, स्कूल और अस्पताल को बंद से मुक्त रखा गया है. जारी बयान में नक्सलियों ने पुलिस पर कई आरोप भी लगाये हैं. 

वहीं  प्रवक्ता अमन की ओर से  जारी किये गये बयान में  कहा गया है कि झारखंड के ग्रामीण इलाकों के बर्बर पुलिसिया दमन, अर्द्धसैनिक बलोंं द्वारा छापामारी के दौरान ग्रामीण लड़कियों के साथ यौन उत्पीड़न किया जा रहा है. पांच मार्च को गिरफ्तार माअोवादी नेताओं व ग्रामीण महिला, पुरुषों के साथ पुलिस द्वारा शारीरिक यातना के खिलाफ बंद का आह्वान किया गया है. उल्लेखनीय है कि पांच मार्च को गिरिडीह जिला के डुमरी में पुलिस ने तीन इनामी सहित 15 नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया. 

इसे भी पढ़ें - एसपी थानेदार पर बना रहे हैं दबाव, सरेंडर करनेवाले नक्सली नकुल यादव के खिलाफ कोर्ट में बयान देने से कर रहे हैं मना

naxal release
नक्सलियों द्वारा जारी प्रेस बयान का अंश.

आम लोगों की जान ना जाये, इसलिए सिविल ड्रेस ने निकले सभी नक्सली

प्रेस बयान में कहा गया है कि पांच मार्च को नक्सलियों का दस्ता डुमरी के बनपुरा गांव में था. इसकी सूचना मिलने पर सीआरपीएफ, कोबरा, झारखंड जगुआर और जिला बल के जवानोंं ने गांव को घेर लिया. नक्सलियों को भी इसकी जानकारी मिल गयी. दस्ते के सदस्यों ने सोचा कि अगर गांव में गोली चली, तो कई ग्रामीण मारे जा सकते हैं. इसलिए दस्ता के सदस्यों ने हथियार व सामान छिपाकर सिविल ड्रेस में छिप कर निकलने का फैसला लिया. इस क्रम में दस्ता के तीन सदस्य पुलिस की गिरफ्त में आ गये. जिसके बाद गांव में छिपाकर रखे गये करीब 25 लाख रुपया, हथियार व अन्य सामानों को पुलिस ने बरामद किया. 

इसे भी पढ़ें - चार माह बाद रघुवर ने फिर अलापा 2015-16 का राग, पिछले साल भी कहा था 2017 में खत्म होगा उग्रवाद, अब कहा 2018

पुलिस पर आरोप, पांच महिला समेत 12 ग्रामीण को पकड़ा गया

नक्सलियों द्वारा जारी प्रेस बयान में आरोप लगाया गया है कि संगठन के सिर्फ तीन साथी पकड़े गये. लेकिन पुलिस ने 15 बताया. पुलिस ने पांच महिला समेत 12 ग्रामीणों को पकड़ लिया, जो अगल-बगल के गांव के थे और रिश्तेदार के घर आये थे. बयान में आरोप लगाया गया है कि इस दौरान पुलिस के जवानों ने बनपुरा चर्च के फादर व प्रचारक के साथ भी मारपीट की. 

इसे भी पढ़ें - अवैध कमेटी की अनुशंसा पर डीजीपी ने एसपी आवास में महिला सिपाही का यौन शोषण करने वाले सार्जेंट व रीडर को किया निलंबन मुक्त !

पुलिस ने जिन चीजों की बरामदगी की जानकारी मीडिया को दी थी

 7.62 बोर का एसएलआर-05 

7.62 बोर का मैग्जीन- 10

7.62 बोर की गोली- 369

 5.56 एमएम का इंसास- 02,  इसकी 3 मैगजीन व 15 गोली

.303 की रायफल- 04, इसकी 2 मैगजीन व 200गोली

एके-47- 01,  इसकी 03 मैगजीन व 53 गोली

कंट्रीमेंट गन व इसकी 2 गोली

01 टैबलेट

03 मोबाइल

34 इलेक्ट्रॉनिक डेटोनेटर

01 हैंड ग्रेनेड

04 मोटोरोला सेट

02 एफएम रेडियो

01 हैंडमेड पिस्टल

300 आधार कार्ड

02 लाख 48 हजार रुपये नगद

50 एटीएम व पासबुक

एक हैंडमेड ग्रेनेड

01 बैट्री

नक्सल साहित्य, दवा, नक्सली बर्दी, विस्फोटक, 6 कोडेक्स, 1 सेफ्टी फ्यूज

इसे भी पढ़ें - राव की शिकायत पर गृह विभाग ने डीजीपी से मांगी प्रतिक्रिया

नक्सली के प्रेस बयान में जिन चीजों की बरामदगी दिखायी गयी है

एके 47-01

एसएलआर-05

इंसास - 02

.303 रायफल -03 

सेमी रायफल-01

पिस्तौल-01

एसएलआर की गोली-956 पीस

इंसास की गोली- 256 पीस

एके-47 की गोली- 153 पीस

.303 रायफल की गोली -400

सेमी रायफल की गोली- 87 पीस

टेबलेट-03 पीस

किंडल-01 पीस

लैपटॉप-01

नकद करीब 25 लाख रुपया

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमेंफ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Main Top Slide
City List of Jharkhand
loading...
Loading...