अमन, इंसाफ और सद्भावना का संदेश देता कारवां

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 05/09/2018 - 20:43

Jamshedpur : झारखंड में जनसमाज के बीच अमान, इंसाफ, सद्भावना और भाईचारा का संदेश लेकर यूनाइटेड मिल्ली फोरम के द्वारा निकाला गया कारवां अब तक कई जिलो से होते हुए पांच हजार किलोमीटर की यात्रा पूरी कर चुका है, जिसे आम जन के सहयोग से पूरा किया जा रहा है. यह करवां 22 अप्रैल को पलामू से निकाला गया जिसे समाज के विभिन्न तबकों का भरपूर सहयोग मिल रहा है समाज के अमन को बनाये रखने की बेचैनी आमजनों में भी दिखाई दी.

कुछ लोग समाज को बांटने में लगे हैं : अफजल अनीस

यात्रा के संबंध में यूनाइटेड मिल्ली फोरम के महासचिव अफजल अनीस का कहना है कि यात्रा के दौरान जो अनुभव समाने आये है वह  झारखंडी जन समाज की मार्मिक व्यथा को भी बयान कर रहे हैं. समाज के सभी कौम के लोग आपस में मिल जुलकर भाईचारे के साथ जीना चाहते हैं, लेकिन समाज के बीच से ही कुछ उपद्रवी लोग समाज को बांटने का प्रयास करते है. ऐसे लोगो के प्रयास को नकाम करने की बेचैनी सभी कौमों में स्पष्ट रूप से झलकती है. झारखंड की साझी विरासत और होड़ मितान की परंपरा रही है. जिसे कायम रखने के मकसद से यात्रा निकाली गई है.

ff
जनसभा में उपस्थित लोग

इसे भी पढ़ें- पलामू : परिवहन विभाग की लापरवाही से नहीं हो रहा वाहनों का रजिस्ट्रेशन, सरकार को करोड़ों रुपये के राजस्व का नुकसान 

कब से कब तक के लिए निकाली है यात्रा ?

शांति और न्याय यात्रा की 22 अप्रैल से सुरूआत की गई थी. यह यात्रा झारखंड के विभिन्न जिलों में अमन और न्याय का संदेश देते हुए 13 मई को समाप्त होगी. शांति और न्याय के मकसद से निकाली गई यात्रा अब तक पांच हजार किलोमीटर का सफर तय कर चुकी है. जिसमें झारखण्ड के करीब बीस जिलों में नुक्कड़ सभा, आम सभा और रोड शो किये जा चुके हैं. यात्रा के दैरान दो लाख हैंडबिल वितरण किये जा चुके है, जिसमें शांति सद्भाव, समानता और न्याय का संदेश दिया जा रहा है. इस कारवां को समाज के सभी समुदायों हिन्दू, मुस्लिम, सिख,इसाई के साथ-साथ दलित,आदिवासी भाइयों का भी समर्थन रहा. कारवां को समाज के सभी तबको का समर्थन मिल रहा है. कई स्थानों पर अलग-अलग जन-संघटनों द्वारा अमन के लिए सभा लिए सभा का आयोजन किया जा रहा है.

रर
कार्यक्रम में शिरकत करते ज्यां द्रेज

अब तक की यात्रा में कई हस्तियां शामिल हो चुकी हैं

कारवां में झारखण्ड के सामाजिक कार्यकर्ताओं में बलराम, जाने माने अर्थशास्त्री प्रो.ज्यां द्रेज,गुरजीत सिंह,शैलेन्द्र,जेम्स हेरेंज,धीरज,अशरफी नन्द प्रसाद, अनिल अंशुमन, प्रो.अपूर्वानंद (दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर) शामिल हुए. वहीं, बिहार से रुपेश, सतनारायण मदन, महेंद्र यादव ने भी इस कारवां में शरीक होकर अमन का संदेश दिया.

इसे भी पढ़ें- पानी की चाहत में सूखे कुएं को गहरा करना पड़ गया भारी, मिट्टी में दबकर तीन मजदूरों की मौत 

यात्रा में शामिल लोगों ने किया आह्वान

कारवां में झारखण्ड में हुए मॉब लिंचिंग की घटनाओं, पर्व त्योहार के मौके पर आपस में तनाव, जुलूस ले जाने के क्रम में रस्ते के विवाद को दंगा का रूप दे देना, मुठ्ठी भर लोगों के द्वारा सामाजिक ताना-बाना तोड़कर अपना हित साधना, भूख से मौत, बेरोजगारी, विस्थापन एवं जन सरोकार के अन्य मुद्दे भी उठाये गए व आपसी भेदभाव को मिटाकर जन-संघर्ष करने का आह्वान किया गया.

13 मई को कारवां का समापन  समारोह रांची में होगा

कारवां का समापन 13 मई को रांची में होगा. अंजुमन इस्लामियां के सभागार मेन रोड रांची में सुबह 10 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक कार्यक्रम चलेगा, जिसकी अध्यक्षता प्रो.हसन रजा करेंगे व कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो.अपूर्वानंद होंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na