भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मियों ने नगरपालिका को "नरकपालिका" बनाकर रख दिया है : सुखदेव भगत

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 06/11/2018 - 14:22

Lohardaga :  शहर में कचरे की सफाई के लिए करोड़ों रुपए की जमीन खरीदी गई. साथ ही करोड़ों रुपये लगाकर मशीन खरीदे गए. फिर भी शहर में कचरे का ढेर पड़ा है. जिसे लेकर विधायक सुखदेव भगत से शिकायत की गयी थी. शिकायत के बाद विधायक व पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं ने नगर परिषद के पुराने कार्यालय भवन और मशीनों के स्टोर रूम का निरीक्षण किया. इस दौरान उन्होंने देखा कि परिसर में करोड़ों रुपए लगाकर खरीदी गयी नई-नई गाड़ियां बेकार पड़ी हुई थी. जिसका ना तो कोई उपयोग हो रहा है और ना ही इसका फायदा लोगों को मिल पा रहा है. अधिकारियों ने लूट के लिए करोड़ों रुपए की मशीनरी तो खरीद ली पर इसका उपयोग कहां किया जाए उन्हें समझ में नहीं आया.

इसे भी पढ़ें- मेन रोड में दुकानदारों और भाजयुमो कार्यकर्ताओं में विवाद के बाद भगदड़, दुकानें बंद, पुलिस बल तैनात

सामान भी हो रहे हैं चोरी

कई ट्रॉली, मिनी ट्रक, ट्रैक्टर, लोडर सहित अन्य उपकरण यूं ही जहां-तहां पड़े हुए हैं. कई वाहनों के तो बैटरी व अन्य सामान चोरी भी हो चुके हैं. टैंकर बेकार पड़े हुए हैं जबकि उन्हें लोगों को पानी पहुंचाने के लिए इस्तेमाल करना था. अब स्थिति यह है कि करोड़ों के उपकरण और करोड़ों की जमीन होने के बावजूद लोग सफाई की समस्या से जूझ रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में कैसे सुधरेगा शिक्षा का स्तर, जब शिक्षकों को मानदेय देने में ही छूट रहे हैं सरकार के पसीने

नगरपालिका को नरकपालिका बनाकर रख दिया है : विधायक

वहीं विधायक सुखदेव भगत ने मामले को गंभीरता से लिया है. उन्होंने कहा है कि नगर परिषद को भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मियों ने नगरपालिका को  नरकपालिका बनाकर रख दिया है. सिर्फ लूट के लिए योजनाओं का क्रियान्वयन किया गया है. उन्हें कई शिकायतें मिली है जिसे लेकर उन्होंने नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव के साथ-साथ स्थानीय उपायुक्त से भी मुलाकात की है. साथ ही इस मामले में जांच कर दोषियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा कि जनता के पैसे का इस प्रकार से दुरुपयोग बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. विधायक ने कहा कि यदि करोड़ों रुपए की जमीन खरीदी गई है तो आखिर जमीन कहां है. जमीन है तो फिर शहर का कचरा शहर में ही क्यों डंप हो रहा है. लोग नरक के समान जीवन जीने को विवश क्यों है. इन तमाम सवालों का भ्रष्ट अधिकारियों को जवाब देना होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.  

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

डीबीटी की सोशल ऑडिट रिपोर्ट जारी, नगड़ी में 38 में से 36 ग्राम सभाओं ने डीबीटी को नकारा

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

मैं नरेंद्र मोदी की पत्नी वो मेरे रामः जशोदाबेन

दुनिया को 'रोग से निरोग' की राह दिखा रहा योग: मोदी

स्मार्ट मीटर खरीद के टेंडर को लेकर जेबीवीएनएल चेयरमैन से शिकायत, 40 फीसदी के बदले 700 फीसदी टेंडर वैल्यू तय किया

मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने निजी कारणों से दिया इस्तीफा

बीसीसीआई अधिकारियों को सीओए की दो टूकः अपने खर्चे पर देखें मैच

टीटीपीएस गाथा : शीर्ष अधिकारी टीटीपीएस को चढ़ा रहे हैं सूली पर, प्लांट की परवाह नहीं, सबको है बस रिटायरमेंट का इंतजार (2)

धोनी की पत्नी को आखिर किससे है खतरा, मांग डाला आर्म्स लाइसेंस

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म