हज यात्रियों के लिए स्वतंत्र संस्था की मांग पर कोर्ट का आदेश, केंद्र शीघ्र स्पष्ट करे अपना नजरिया

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 02/12/2018 - 16:00

New Delhi: दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को केन्द्र से उस जनहित याचिका की चिंताओं पर गौर करने के लिए कहा है. जिसमें हज यात्रियों के लिए इंतजाम पर ध्यान देने के लिए, एक स्वतंत्र मुस्लिम संस्था गठित करने का अनुरोध किया गया है. अदालत ने कहा कि यह महत्वपूर्ण विषय है जिस पर सही ढंग से विचार करने की जरूरत है. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने कहा कि, अधिकारियों को इस मामले में गौर करना चाहिए और शीघ्रता से अपना दृष्टिकोण पेश करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें - गिरिडीह : ओडीएफ की हकीकत, खुले में शौच मुक्त घोषित सिकदारडीह पंचायत का सच (देखें वीडियो)

पीठ ने कहा कि, प्रतिवादियों :केन्द्र और संबंधित मंत्रालय: को इस पर गौर करके शीघ्रता से अपना नजरिया पेश करना चाहिए. फैसला याचिकाकर्ता :अधिवक्ता: को बताया जाना चाहिए. पीठ ने कहा कि हमारा नजरिया है कि इस पर गौर किया जाना चाहिए क्योंकि यह एक महत्वपूर्ण मामला है. इसके बाद अदालत ने याचिका का निस्तारण करते हुये सरकार को इस जनहित याचिका को एक ज्ञापन के तौर पर मानने और इस पर उचित ढंग से विचार करने का निर्देश दिया. यह याचिका दिल्ली के अधिवक्ता शाहिद अली ने दायर की थी.

इसे भी पढ़ें -पहले जूते पर थूका और कहा चाटो, अपमानित शख्स ने दे दी जान

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.