दो अप्रैल के भारत बंद को लेकर दलित संगठनों ने निकाला मशाल जुलूस, समर्थन की अपील

Publisher NEWSWING DatePublished Sun, 04/01/2018 - 20:31

Jhumritilaiya (Koderma):  सर्वोच्च न्यायालय द्वारा एससी-एसटी अत्याचार निवारण कानून में संशोधन के खिलाफ 2 अप्रैल को भारत बंद के समर्थन में राजधानी रांची समेत पूरे राज्य में बंद की पूर्व संध्या पर विशाल जुलूस और मशाल जुलूस निकाला गया. दलित उत्पीड़न संघर्ष समिति व अन्य दलित संगठनों ने संयुक्त रूप से झुमरीतिलैया में विशाल अपील मार्च निकाला. इससे पहले जिप सदस्य महादेव राम, संजय पासवान, प्रेम प्रकाश, प्रकाश रजक, मीरा देवी, विजय रजक, इन्द्रदेव राम, राम बालक चौधरी, दुर्गा राम, घनश्याम तुरी के नेतृत्व में बाइपास रोड अम्बेडकर चौक से जवाहर टॉकिज, रेलवे स्टेशन, ओवर ब्रिज, झंडा चौक, स्टेशन रोड, सामन्तो पेट्रोल पम्प होते हुए महाराणा प्रताप चौक पहुंचकर मार्च सभा में तब्दील हो गया. इस अवसर पर जय भीम के नारों से झुमरीतिलैया शहर गूंज उठा.

इसे भी पढ़ें : अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम (1989) में संशोधन से दलितों और अनुसूचित जनजातियों पर अत्याचार बढ़ेगा : आजसू

जुलूस में वक्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ दिया विवादित बयान

जुलूस में एससी-एसटी एक्ट में संशोधन वापस लो, दलितों पर हमला बंद करो, आरक्षण में छेड़छाड़ नहीं चलेगा आदि नारे लगाए जा रहे थे. सभा को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट भाजपा सरकार की रखैल हो गई है और मनमानी करते हुए दलितों का अधिकार छीन रहा है. जिसे दलित वर्ग बर्दाश्त नहीं करेगा. जुलूस में वीरेन्द्र पासवान, कैलाश दास, खगेन्द्र राम, राजू पासवान, कैलाश राम, शिव नंदन भुइयां, चन्द्रमोहन चौधरी, टुनु डोम, विजय पासवान, महादेव दास, जयप्रकाश दास, उमेश दास, नीलम पासवान सहित हजारों लोग शामिल थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
loading...
Loading...