दुमका : असम निवासी अशरफुल भटककर पहुंचा दुमका, CWC लगा रही है घर का पता

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 05/08/2018 - 20:53

Dumka : बाल कल्याण समिति बेंच ऑफ मजिस्ट्रेट के समक्ष असम से भटककर दुमका पहुंचे 17 वर्षीय अशरफुल को प्रस्तुत किया गया. चेयरपर्सन अमरेंद्र कुमार यादव ने बताया कि असम का अशरफुल हक जरमुंडी प्रखंड के सहारा पंचायत के कुशमाहा गांव के पारा लीगल वोलेंटियर मुकेश कुमार को जोगियामोड़ के पास भटकते हुए मिला था. मुकेश ने बालक को स्थानीय होटल में खाना खिलाकर रात में वहीं पर अपने साथ रखकर मंगलवार की सुबह को बालक को जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव निशांत कुमार के समक्ष प्रस्तुत किया.

सचिव ने बालक को प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश ओमप्रकाश सिंह के चेम्बर में उपायुक्त मुकेश कुमार एवं पुलिस अधीक्षक किशोर कौशल के साथ चल रहे बैठक में बालक को प्रस्तुत करते हुए मामले की जानकारी दी. तत्पश्चात सचिव डीएलएसए ने मामले को सीडब्लूसी को स्थानांतरित कर दिया. सीडब्लूसी सदस्य धर्मेन्द्र नारायण प्रसाद ने बताया कि अशरफुल ने समिति के समक्ष अपने बयान में जानकारी दी कि उनके पिता का नाम नजरुल हक, घर सीलघाघरी, तहसील विजनी, जिला बोगाईगांव, राज्य असम है.

इसे भी पढ़ें- राजा पीटर मामले में बाबूलाल ने राजनाथ सिंह को लिखा पत्र, जांच की पुनर्समीक्षा करने की मांग 

अशरफुल अपने दोस्तों के साथ काम करने के लिए पंजाब गया था

अपने गांव के दोस्त गूफीदुल हक और गाविल के साथ एक महीना पहले काम करने के लिए पंजाब गया था, जहां किसी गांव के खटाल में गायों को खाना खिलाना एवं उनकी सेवा करने का काम करता था. कुछ दिनों बाद जब घर आने की इच्छा हुई तो उन्होंने खटाल वाले से कहा मुझे घर जाना है जिस पर खटाल वाले ने 1 साल से पहले घर नहीं जाने देने की बात कही थी. एक दिन अशरफुल खटाल मालिक को बोला कि मैं घर जा रहा हूं और बिना पैसे लिए वहां से निकल कर नजदीकी स्टेशन में ट्रेन में सवार होकर घर जाने के लिए कोलकाता पहुंच गया. कोलकाता से अज्ञानवश पटना जाने वाली ट्रेन में बैठकर पटना पहुंच गया. पटना से पुनः एक ट्रेन में सवार होकर जसीडीह स्टेशन उतर गया और भटकते हुए जरमुंडी के जोगिया मोड़ पहुंच गया था, जहां बालक मिला. सीडब्लूसी तत्काल बालक को ऑफ्टर केयर होम में रखकर इसके घर का पता लगाने का प्रयास कर रही है. होम वेरिफिकेशन होने पर इसे घर पहुंचवाया जाएगा. सुनवाई में सदस्य धर्मेन्द्र नारायण प्रसाद, रंजन कुमार सिंह व शकुंतला दुबे मौजूद थे.

 इसे भी पढ़ें- कैबिनेट का फैसला : ग्रेड 3 और 4 में स्‍थानीय को ही मिलेगी सरकारी नौकरी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na