गढ़वा : डेमा सुरक्षित वन क्षेत्र में लगी आग, जल गये हजारों पौधे

Publisher NEWSWING DatePublished Sun, 03/04/2018 - 18:51

Garhwa : जिले के कांडी प्रखंड के सरकोनी पंचायत क्षेत्र के भवनाथपुर रेंज  के अंतर्गत डेमा सुरक्षित वन क्षेत्र में आग लगने से हजारों पौधे जल गये. घटना शनिवार दो बजे दिन की है. गार्ड देवानंद के अनुसार लगभग दो बजे दिन में वन क्षेत्र के पश्चिमी भाग से आग की लपटे निकलते देख डेमा गांव के लोगों को सूचना दी. गांव से पहुंचे ग्रामीणों व बच्चों ने लाठी-डंडे से पीटकर आग पर काबू पाया. आग कैसे लगी इसका पता नहीं चल सका है.

इसे भी पढ़ें - न्यूज विंग के खबर की हुई पुष्टि, पत्थलगड़ी वास्तविक लड़ाई नहीं, मामला अफीम का है : सीएम

विभाग ने लगाये थे 50 हजार विभिन्न प्रजाति के पौधै

इस वन क्षेत्र में विभाग ने वर्ष 2014-15 में 50 हेक्टेयर में 50 हजार विभिन्न प्रजाति के पौधै लगाये थे. जिसमें खैर, एकइसी, चकौंधी, शीशम, आंवला आदि लगाया गया था. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि जिस समय आग लगी थी उस समय बड़ी संख्या में छोटे जानवर खरगोश व सियार को इधर-उधर भागते देखा गया था. घटना की सूचना पाकर सरकोनी पंचायत की मुखिया मीना देवी, मुखिया प्रतिनिधि अरूण साह  व विधायक प्रतिनिधि अजय साह ने रविवार को वन क्षेत्र का जायजा लिया. उन्होंने बताया कि आग लगने से बहुत अधिक नुकसान हुआ है. नुकसान का सही आकलन वन विभाग ही कर सकता है. लगभग 80 प्रतिशत पेड़-पौधे जल गये व कुछ झुलस गये हैं. उन्होंने कहा कि विभाग घटना की जांच कर दोषी व्यक्तियों पर कार्रवाई करे. यह पेड़-पौधे पंचायत के धरोहर थे.

इसे भी पढ़ें - जेवीएम विधायक प्रदीप यादव ने मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखा, राज्यसभा चुनाव में पहले की तरह इस बार भी सरकार करा सकती है गड़बड़ी, कार्रवाई करें

अगलगी की घटना में पौधे झुलसे हैं, जड़ नहीं जला - रेंजर

जंगल में आग लगने की सूचना पर रेंजर मुन्ना पासवान ने दलबल के साथ घटना स्थल पहुंच कर वस्तु स्थिति का जायजा लिया. उन्होंने कहा कि अगलगी की घटना में पौधे झुलसे हैं. इनका जड़ नहीं जला है. ऐसे में पटवनकर काफी हद तक इन पौधों को फिर से हराभरा किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें - गढ़वा : होली के दिन घर में लगी आग, सबकुछ जलकर खाक

ये थे मौजूद

मौके पर अखिलेश साह, नंदू राम, डोमन राम, कमेश्वर यादव, धनेश यादव, बिगु राम, मंदीस रजवार, मिथिलेश साह, टेनिसन साह  सहित कई लोग उपस्थित थे. आग बुझाने में बच्चों व ग्रामीणों ने हिम्मत दिखाते हुए महत्वपूर्ण भूमिका निभायी.

इसे भी पढ़ें - गढ़वा : नाबालिग अपहरण मामले में शिक्षक मोहम्मद मुस्तफा खान को जेल

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

City List of Jharkhand
loading...
Loading...