गुमला : पांच दिन से बिजली-पानी सप्लाई बंद, कांग्रेस निकालेगी पेयजल व बिजली विभाग की शवयात्रा

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 05/03/2018 - 09:26

Gumla: गुमला जिला कई मामलों में महत्वपूर्ण है. केंद्रीय मंत्री सुदर्शन भगत और झारखंड विधानसभा के स्पीकर दिनेश उरांव गुमला के हैं. भाजपा के विधायक शिव शंकर उरांव भी गुमला से ही आते हैं. मुख्यमंत्री रघुवर दास का भी सबसे अधिक दौरा गुमला जिला में ही होता है. इन सबके बावजूद गुमला शहर में पिछले चार दिनों से पानी की सप्लाई बंद है. वहां चार दिनों से बिजली की सप्लाई भी न के बराबर हो रहा है. बिजली व पानी की दिक्कतों के बीच गुमला कांग्रेस के नेताओं ने पांच मई को पेयजल व बिजली विभाग की शवयात्रा निकालने का फैसला लिया है. शवयात्रा पूरे शहर में घूमेगी. कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष रमेश कुमार चीनी ने बताया कि चार दिनों से गुमला में पानी व बिजली आपूर्ति बाधित है. प्रशासन को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया गया है. अगर इन 24 घंटे में पानी व बिजली की समस्या दूर नहीं होती है, तो मजबूरन शवयात्रा निकालनी पड़ेगी. 

इसे भी पढ़ें - बिजली की बढ़ी दरों में सब्सिडी : ऊर्जा विभाग ने प्रपोजल वित्त विभाग को बढ़ाया, कैबिनेट में प्रस्ताव लाने की तैयारी पूरी

लोगों को  पानी खरीदना पड़ रहा है

पानी व बिजली की सप्लाई नहीं होने के कारण गुमला के लोग परेशान हैं. और शहरी इलाके में त्राहिमाम मचा हुआ है. स्थिति इतनी खराब हो गयी है कि जिन इलाकों के लोग सप्लाई की पानी पर निर्भर हैं, उन्हें पानी खरीदना पड़ रहा है. पानी की सप्लाई कब होगी, इसका जवाब देने वाला कोई अधिकारी नहीं है. 

गुमला शहर की आबादी 51 हजार से अधिक है. अधिकांश लोग सप्लाई की पानी पर निर्भर हैं. पानी की सप्लाई नहीं होने के बाबत पूछे जाने पर  पेयजल विभाग के तकनीकी पदाधिकारी रामसागर सिंह ने कहा कि  बिजली नहीं है. इस कारण पानी की सप्लाई नहीं हो रही है. विभाग ने बिजली विभाग से बात की है. बिजली की सप्लाई शुरु होते ही पानी की सप्लाई शुरु कर दी जायेगी. जब तक बिजली नहीं मिलती, पानी सप्लाई कर नहीं सकते. इधर बिजली विभाग के कार्यपालक पदाधिकारी सत्यनारायण पातर ने कहा कि गुमला को सही मात्रा में बिजली मिल रही है. लेकिन मौसम के कारण कहीं पोल, तो कहीं तार टूट गया है. कई जगह फॉल्ट हो गया है, जिसे ठीक किया जा रहा है. फॉल्ट ठीक होते ही बिजली की समस्या दूर हो जायेगी. 

इसे भी पढ़ें - थैंक्स टू कर्नाटक चुनाव, नहीं बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दाम : चिदंबर

इस बीच पानी व बिजली की समस्या को लेकर मिशन बदलाव के सदस्य डीसी श्रवण साय से मिले. डीसी को ज्ञापन सौंपकर 24 घंटे के अंदर पानी व बिजली की समस्या को दूर करने की मांग की है. समस्या दूर नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

top story (position)