गुमला : अपने ही विभाग के कर्मी से विभागीय कार्य के लिए ले रहे थे घूस, ACB ने रंगेहाथ पकड़ा

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 06/05/2018 - 22:23

Gumla : पैसे के लोग इतने दिवाने हो गये हैं कि रिश्ते-नातों को भी भूल जा रहे हैं. पैसे की खातिर कभी भाई-भाई की हत्या कर दे रहा है तो कभी बेटा-बाप की. गुमला में रिश्वत के मामले में गिरफ्तार श्रम निरीक्षण के मामले में भी पैसे ने सहकर्मी के बीच के रिश्ते का तार-तार कर दिया. अपने भी विभाग के कर्मी से विभागीय कार्य करने के एवज में रिश्वत की मांग की गई थी. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि ऐसे लोगों के लिए सबकुछ पैसा ही है.

जिले के श्रम निरीक्षक रंजीत कुमार को रांची से आये एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने 3000 रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया. बताया जाता है कि श्रम निरीक्षक रंजीत कुमार ने अपने ही विभाग के श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी विक्टोरिया बाड़ा से विभागीय कार्य करने के एवज में 3000 रुपये की मांग की थी. श्रम निरीक्षक ने जैसे ही श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी से रिश्वत की रकम ली, तभी कार्यालय में एसीबी रांची की टीम ने धावा बोल दिया और श्रम निरीक्षक को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया.

इसे भी पढ़ें : प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन जेजेएमपी का सेकेंड इन चीफ मुनेश्वर उरांव हथियार सहित दो सहयोगियों के साथ गिरफ्तार

इस वर्ष रिश्वतखोरी के मामले में हुई कुछ गिरफ्तारियां

12 हजार घूस लेते जूनियर इंजीनियर हुआ था गिरफ्तार

9 मार्च को धनबाद ACB की टीम ने पंचायती राज विभाग के जूनियर इंजीनियर पीयूष राणा को बारह हजार रुपये घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था. गिरफ्तार जूनियर इंजीनियर तोपचांची प्रखंड में तैनात था. उन्होंने ठेकेदार का मास्टर बुक भरने के बदले में घूस की मांग की थी.
ठेकेदार ने इसकी शिकायत एसीबी से की. शिकायत के बाद ACB ने जाल बिछाया और बारह हजार रुपये रिश्वत लेते जूनियर इंजीनियर को दबोचा लिया. धनबाद एंटी करप्शन ब्यूरो की इस वर्ष में यह दूसरी सफलता है. जबकि पिछले साल ब्यूरो ने 24 लोगों को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेजा था.  

इसे भी पढ़ें : पंचायत का तालिबानी फरमान, अवैध संबंध का आरोप लगाकर दो महिलाओं और एक युवक को सरेआम लाठी से पीटा

 आठ हजार घूस लेते औषधि निरीक्षक हुआ था गिरफ्तार

11 फरवरी को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने पूर्वी सिंहभूम के औषधि निरीक्षक राम कुमार झा को 8 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था. टीम गिरफ्तारी के बाद आरोपी को अपने साथ सोनारी स्थित कार्यालय ले गई. कार्यालय में आरोपी के विरुद्ध एक मामला दर्ज किया गया था. बागबेड़ा सीपी टोला शीतला मंदिर निवासी काशी प्रसाद ने आरोपी के विरुद्ध भ्रष्टाचार निरोधक कार्यालय में रिश्वत मांगने की लिखित शिकायत की थी. शिकायतकर्ता ने कहा था कि दुकान का लाइसेंस नवीकरण करने के लिए ई-चालान के माध्यम से 3000 जमा किए, जब औषधि निरीक्षक रामकुमार झा से लाइसेंस नवीकरण कर देने की बात कही तब आरोपी के द्वारा 8 हजार रुपए रिश्वत की मांग की गई थी. जो वे देना नहीं चाहते थे. यह जमशेदपुर प्रमंडल कार्यालय का वर्ष 2018 में तीसरा ट्रैप था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब