सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में अधिवक्ता संघ ने शाह को बरी करने के फैसले के खिलाफ दायर की याचिका

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 01/19/2018 - 16:24

Mumbai : मुम्बई के एक अधिवक्ता संघ ने सोहराबुद्दीन शेख फर्जी मुठभेड़ मामले में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को बरी करने के निचली अदालत के फैसले को चुनौती नहीं देने के सीबीआई के फैसले के खिलाफ आज शुक्रवार को बम्बई उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका दायर की. बम्बई अधिवक्ता संघ ने जनहित याचिका में उच्च न्यायालय से सीबीआई को निर्देश देने का आग्रह किया है कि वह शाह को बरी करने के सत्र अदालत के फैसले को चुनौती देते हुए एक समीक्षा याचिका दायर करे.

इसे भी पढ़ें- भगत सिंह को पाकिस्तान का सर्वोच्च वीरता पदक ‘निशान-ए-हैदर’ देने की मांग

22 जनवरी को उल्लेखित की जायेगी अर्जी

अधिवक्ताओं के वकील अहमद अबिदी ने अर्जी में कहा कि अर्जी न्यायमूर्ति एस सी धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति भारती डांगरे की खंडपीठ के समक्ष 22 जनवरी को उल्लेखित की जायेगी. अर्जी में कहा गया है कि सीबीआई एक प्रमुख जांच एजेंसी है. उसका सार्वजनिक कर्तव्य है कि वह अपने कार्यों से कानून के शासन का पालन करे जिसमें वह असफल हुई है. इसमें कहा गया है कि निचली अदालत ने इसी तरह से राजस्थान के दो पुलिस उपनिरीक्षकों हिमांशु सिंह और श्याम सिंह चरण और गुजरात पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी एन के अमीन को भी बरी किया था.

इसे भी पढ़ें- बोकारो एसपी ने कनीय अफसरों से कहा, बेटे को नौकरी देने के लिए शहीद होते हैं पदाधिकारीः एसोसिएशन

क्या लगाया गया आरोप

इसमें आरोप लगाया गया है कि याचिकाकर्ताओं को जानकारी हुई है कि सीबीआई ने उन्हें बरी करने के फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी है. आरोपी व्यक्तियों को बरी करने को चुनिंदा आधार पर चुनौती देने का सीबीआई का कृत्य दुर्भावनापूर्ण होने के साथ ही मनमाना एवं अनुचित है. याचिका में दावा किया गया है कि उच्चतम न्यायालय ने मामले की सुनवायी गुजरात से मुम्बई स्थानांतरित करते हुए आदेश दिया था कि इसे तेजी से पूरा किया जाए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Top Story
loading...
Loading...

NEWSWING VIDEO PLAYLIST (YOUTUBE VIDEO CHANNEL)