जमशेदपुर : नाबालिग से दुष्कर्म करने के मामले में थानेदार के बाद डीएसपी अजय केरकेट्टा पर भी कार्रवाई

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 02/12/2018 - 11:57

Jamshedpur : मानगो की नाबालिग से दुष्कर्म मामले में थानेदार के बाद डीएसपी अजय केरकेट्टा का नाम आया है. जिसके बाद डीएसपी पर भी इस  मामले में सरकार ने कार्रवाई कर दी है. उन्हें पद से हटाते हुए मुख्यालय क्लोज कर दिया गया है. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि अजय केरकेट्टा को इसलिए हटाया गया है, ताकि दुष्कर्म मामले की निष्पक्ष जांच हो सके.  लड़की ने जिस ‘सर’ का जिक्र अपने बयान में किया है उसमें डीएसपी अजय केरकेट्टा की ही तरफ उसका इशारा था. उसने उन्हें पहचान भी लिया है. गौरतलब है कि पीड़िता ने इस मामले में सिटी एसपी को बताया था कि थाने में थानेदार ने दुष्कर्म के बाद सादे लिबास में आये एक व्यक्ति को सर कहकर बुलाया था. उस व्यक्ति ने भी लड़की के साथ दुष्कर्म किया था. जिसे थानेदार ने सर कह कर बुलाया था. 

इसे भी पढ़ें- रामगढ़ : अवैध कोल स्टॉक में बिजली की चपेट में आने से एक की मौत, मामले को रफा-दफा करने में लगे थे मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के लोग

हटाये जा चुके हैं एमजीएम के थाना प्रभारी

शहर के मानगो के सहारा सिटी डेल्टा में नानक सेठ के घर काम करने वाली नाबालिग लड़की से दुष्कर्म करने और साथ ही उसे ब्लैकमेल कर वेश्यावृति करने के मामले में जांच खत्म होने तक के लिये एमजीएम थाना प्रभारी इमदाद अंसारी को हटा दिया गया है. सिटी एसपी ने थाना प्रभारी को हटने का फैसला लिया. वहीं इमदाद अंसारी के स्थान पर गोलमुरी ट्रैफिक थाना प्रभारी अरविंद कुमार को एमजीएम थाना का प्रभारी बनाया गया है. अरविंद कुमार ने एमजीएम के नये थानेदार के रूप में पदभार ग्रहण कर लिया है.

इसे भी पढ़ें- रिम्स में नर्सों की हड़ताल के कारण मरीज परेशान, मेदांता से मुक्त करा रिम्स लाये गये अयूब अली को दूसरे अस्पताल ले गये परिजन

क्या है मामला

नाबालिग ने पुलिस को इस पूरे मामले के बारे में बताया कि इंद्रपाल सैनी और शिव कुमार महतो नाम के दो युवक उसे डिमना लेक की तरफ ले गये थे. यहां सात-आठ युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया. जिसके बाद वह वापस जमशेदपुल लौट रही थी. लेकिन रास्ते में पुलिस ने वाहन चेकिंग के दौरान कार को रोक लिया. यह देख युवती ने पुलिस को दुष्कर्म की बात बतायी. जिसके बाद पुलिस सभी को लेकर थाने गयी और दो युवकों को जेल में बंद कर दिया. पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बाद जेल में बंद इंद्रपाल सैनी नाम के एक युवक ने उस नाबालिग लड़की को पेशेवर बताया. जबकि नाबालिग ने बताया कि सैनी उससे धंधा कराता था. धंधा कराने की बात सुनकर थानेदार नाबालिग को बयान नोट करने के बहाने ले गया. पहले उसने नाबालिग का बयान लिया फिर उसके बाद एक कमरे में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया.

इसे भी पढ़ें- रांची पुलिस ने डीजीपी डीके पांडेय व अन्य अफसरों को बचाने के लिए 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने वाले केस की फाइल बंद कर दी !

मामले की जांच के लिये चार सदस्यीय टीम का गठन

गौरतलब है कि नाबालिग द्वारा एमजीएम थानेदार पर थाने में दुष्कर्म का आरोप लगाया था. जिसके बाद इस पूरे मामले की जांच के लिये चार सदस्यीय टीम का गठन किया गया है. गठित टीम में मानगो थाना प्रभारी अरुण कुमार माहथा, साकची महिला थाना प्रभारी सीमा कुमारी और जादूगोड़ा थाना प्रभारी प्रियंका कुमारी भी शामिल हैं. सिटी एसपी ने टीम को अलग-अलग बिंदुओं पर जांच का टास्क दिया है.

गिरफ्तार सैनी ने आरोपों से किया इनकार 

इधर गिरफ्तारी के बाद इंद्रपाल सैनी ने मामले में अपनी संलिप्तता से इनकार कर दिया है. साथ ही उसने अपने उपर लगे सभी आरोपों को भी इनकार कर दिया है. सैनी द्वारा इनकार किये जाने के बाद पुलिस पीड़िता को सैनी के सामने ले गयी और पूछताछ की. पूछताछ में पीड़िता ने बताया कि सैनी उससे देह व्यपार कराता था. जिसके बाद पुलिस ने मामले को और भी ज्यादा उलझता देख नानक सेठ जिसके यहां पीड़िता काम करती थी उसे पूछताछ के लिये बुलाया. पुलिस ने बताया कि नानक सेठ के इस पूरी घटना की जानकारी थी लेकिन उन्होंने पुलिस को इसके बारे में किसी भी प्रकार की कोई जानकारी नहीं दी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.