बीजेपी की मांग- रामनवमी के बाद हो झारखंड में निकाय चुनाव, उम्मीदवारों पर सस्पेंस अब भी बरकरार

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 01/10/2018 - 13:33

Ranchi : बीजेपी ने राज्य निर्वाचन आयोग को एक ज्ञापन सौंप कर मार्च में होने वाले निकाय चुनाव को आगे बढ़ाने की मांग की है. बीजेपी का कहना है कि मार्च महीने में बोर्ड और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं होने वाली हैं. ऐसे में अभिभावक और बड़ी संख्या में युवा वर्ग काफी व्यस्त रहेंगे. व्यस्तता के कारण निकाय चुनाव से इन्हें दूर रहना पड़ सकता है. ऐसे में लोकतंत्र के इस महापर्व में शामिल होने से ये लोग वंचित हो जाएंगे. बीजेपी ने अपने ज्ञापन में लिखा है कि चुनाव रामनवमी के बाद करायी जाये. यानि अप्रैल माह में हो. बताते चलें कि इस बार रामनवमी 25 मार्च को संभावित है. ऐसे में बीजेपी की मांग है कि चुनाव अप्रैल महीने में हो. राज्य निर्वाचन आयोग को ज्ञापन सौंपते वक्त प्रतिनिधिमंडल में महामंत्री दीपक प्रकाश, उपाध्यक्ष आदित्य साहू, मंत्री सुबोध सिंह गुड्डू, प्रवक्ता दीनदयाल बर्णवाल और मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने और सेना व पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर एजेंट व अफसरों ने वसूले रुपयेः एनएचआरसी

बीजेपी की तरफ से नहीं आया है कोई दावेदार

मीडिया में मेयर की सीट एसटी के लिए आरक्षित होने की खबर आने के बाद भी फिलवक्त कोई दावेदार सामने नहीं आया है. ना ही किसी की तरफ से कोई

EC Jharkhand
EC of Jharkhand

सुगबुगाहट है. वहीं उपमहापौर के लिए बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता दीनदयाल बर्णवाल ने अपनी दावेदारी जरूर पेश की है. लेकिन पार्टी की तरफ से पूरी तरह से हरी झंडी उन्हें नहीं मिली है. किसी भी तरह का बदलाव संभव है. वहीं बीजेपी के बड़े नेता इस सवाल का कोई जवाब नहीं दे रहे हैं.

शहरों में हालत अच्छी लेकिन संथाल में हालत खराब

राजनीति के जानकारों का कहना है कि झारखंड के बड़े शहरों में भले ही बीजेपी की पकड़ अच्छी हो. लेकिन, संथाल और दूसरे छोटे शहरों में बीजेपी की हालत अच्छी नहीं बतायी जा रही है. इस बार के निकाय चुनाव इसलिए भी महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं क्योंकि 2019 विधानसभा की स्क्रिप्ट इसी निकाय चुनाव के आधार पर लिखी जानी है. पहली बार झारखंड में मेयर और डिप्टी मेयर का चुनाव दलगत होने जा रहा है. ऐसे में पावर, पैसा और पकड़ किसी भी उम्मीदवार के लिए बेहद जरूरी चीज मानी जा रही है.

इसे भी पढ़ें : आवास बनाने का झांसा देकर ठेकेदार ने लाभुकों से ठगे 48 लाख, पार्षद ने ठेकेदार के साथ करायी थी लाभुकों की मीटिंग

City List of Jharkhand
Top Story
loading...
Loading...