जामताड़ा में स्वास्थ्य विभाग की मेहरबानी से झोलाछाप डॉक्टरों की चांदी

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 01/12/2018 - 10:22

Jamtara : सरकार जिस स्वास्थ्य व्यवस्था पर करोड़ो रूपये खर्च करती है उसका लाभ जिले के लोगों को ठीक से नहीं मिल पाता है. जिसके कई कारण है. जिले में डाक्टर की कमी से लेकर एएनएम तक की कमी इन कारणों में शामिल है. समय पर स्वास्थ्य उपकेंद्र का नहीं खुलना, केंद्र में एएनएम का आवासन नहीं करना, दवा की समूचित व्यवस्था नहीं होने की वजह से जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से दम तोड़ चुकी है.

झोलाछाप डॉक्टरों की चांदी 

जिले में दम तोड़ चुकी स्वास्थ्य व्यवस्था का लाभ आम लोगों को भले ही नहीं मिल रही हो, लेकिन इसका पूरा लाभ झोलाछाप डॉक्टरों को जरूर मिल रहा है. कारण ये है कि स्वास्थ्य विभाग में ना तो डॉक्टर साहब आते हैं और ना ही एएनएम आती हैं. ऐसी स्थिति में लोग झोलाछाप डॉक्टर के पास जाने को मजबूर हैं. कई बार झोलाछाप डॉक्टर के चक्कर में पड़ कर लोग अपनी जान भी खो बैठते हैं. सबसे बड़ी बात तो यह है कि झोलाछाप डॉक्टर खुद का जेब तो गर्म करते ही हैं साथ में शहर में अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम को भी इसका लाभ पहुंचाने का काम करते हैं.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांड : एडीजी एमवी राव ने सरकार को लिखा पत्र, डीजीपी डीके पांडेय ने फर्जी मुठभेड़ की जांच धीमी करने के लिए डाला था दबाव

शहर के हर इलाके में संचालित है अवैध नर्सिंग होम

शहर के इलाके में अवैध नर्सिंग होम का संचालन किया जा रहा है. स्वास्थ्य विभाग से बिना रजिस्ट्रेशन कराये अवैध नर्सिंग होम का संचालन होता है. ये नर्सिंग होम क्षेत्र में बिचौलियों को पैसे देकर रखते हैं, और ये बिचौलियों के द्वारा मरीजों को बरगला कर वैसे नर्सिंग होम में भर्ति करवाया जाता है. इलाज के क्रम में कई मरीजों की जाम भी चली जाती है. लेकिन नर्सिंग होम के संचालक उसके परिजनों और विवाद करने वाले लोगों को पैसा खिला कर मुंह बंद करा देते हैं. इतना ही नहीं बहुत से ऐसे नर्सिंग होम है जो दवा दुकान के लाइसेंस पर नर्सिंग होम का संचालन कर रहे हैं.

स्वास्थ्य विभाग के द्वारा नहीं उठाया गया कोई ठोस कदम

जिले में धड़ल्ले से अवैध नर्सिंग होम का संचालन किया जा रहा है. लेकिन इसके बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग के द्वारा इसे रोकने के लिए किसी भी तरह का कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है. कई बार कार्रवाई की भी जाती है लेकिन वैसे नर्सिंग होम पर की जाती है जो नियम-कानून को मानकर चलते हैं. और यह भी मात्र एक खानापूर्ति के लिये किया जाता है.

इसे भी पढ़ें- ...तो इस वजह से युवाओं ने लगाये रघुवर दास मुर्दाबाद के नारे, दूसरे राज्य जाकर 5 हजार की नौकरी तो नहीं करेंगे ना !

क्या है जिले में अस्पतालों और स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या

सरकारी अस्पतालों की संख्या -  सदर अस्पताल एक, स्वास्थ्य  केंद्र 132, पीएससी 15, सीएचसी 4.
सरकारी डॉक्टरों की संख्या - स्वीकृत पद 89, कार्यरत 25
नर्सिंग स्टाफ की संख्या - रेगुलर स्वीकृत पद 165, कार्यरत 105, एनआरएचएम के तहत स्वीकृत पद 203 कार्यरत 143
जिले में एंबुलेंस की संख्या - सदर अस्पताल में एक ,कुडहित में 3,नाला में 2, जामताड़ा 2,
शिशु मृत्यु दर - 1000 में तीन

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब