कर्नाटक के सीएम सिद्धरमैया का आरोप, भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल में भी हैं आतंकवादी

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 01/11/2018 - 13:56

Bengaluru : कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने बुधवार को आरोप लगाया कि भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल में भी आतंकवादी हैं. उनके इस आरोप को भाजपा ने खारिज कर दिया. इस साल कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले सत्तारूढ़ कांग्रेस की मुख्य प्रतिद्वंद्वी भाजपा पर हमले तेज करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे खुद एक तरह से आतंकवादियों जैसे हैं. भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल में भी आतंकवादी हैं. प्रदेश भाजपा ने आरोप लगाया कि सिद्धरमैया द्वारा भाजपा-आरएसएस को आतंकी संगठन कहना सांप्रदायिक आधार पर चुनावों का ध्रुवीकरण करने की उनकी हताशापूर्ण कोशिश है. चामराजनगर जिले में संवाददाताओं से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि आतंकी गतिविधियों में जो भी संलिप्त हो, सरकार उसे नहीं बख्शेगी.

इसे भी पढ़ें- 17 साल के झारखंड में पहली बार राजनीतिक नहीं बल्कि प्रशासनिक अस्थिरता

समाज में सौहार्द और भाईचारा बिगाड़ने की गतिविधियों में शामिल लोगों को छोड़ा जायेगा

उन्होंने कहा कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) हो, सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) हो, बजरंग दल हो, विश्व हिंदू परिषद हो या अन्य कोई संगठन. अगर वे समाज में सौहार्द और भाईचारा बिगाड़ने की गतिविधियों में शामिल रहते हैं और सांप्रदायिकता फैलाते हैं तो उन्हें छोड़ा नहीं जायेगा. इस तरह के संगठनों पर प्रतिबंध के लिए केंद्र को कोई रिपोर्ट भेजने की संभावना के सवाल पर सिद्धरमैया ने कहा कि हमें इसके लिए दस्तावेज हासिल करने होंगे कि वे इस तरह की गतिविधियों में शामिल हैं. प्रदेश भाजपा ने एक ट्वीट में आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री सिद्धरमैया हताशापूर्ण तरीके से भाजपा-संघ को आतंकी संगठन कहकर सांप्रदायिक आधार पर चुनावों का ध्रुवीकरण करने का प्रयास कर रहे हैं. इसमें कहा गया कि वे यह क्यों नहीं समझते कि भारत 1975 में नहीं है और इंदिरा गांधी आज प्रधानमंत्री नहीं हैं. मुख्यमंत्री पर पलटवार करते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता और एमएलसी वी सोमन्ना ने कहा कि सिद्धरमैया अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं.

इसे भी पढ़ें- ...तो इस वजह से युवाओं ने लगाये रघुवर दास मुर्दाबाद के नारे, दूसरे राज्य जाकर 5 हजार की नौकरी तो नहीं करेंगे ना !

कुछ दिन पूर्व हुआ था योगी और सिद्धारमैया के बीच ट्विटर वार

गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के बीच विकास और शासन के मुद्दे पर ट्विटर पर छिड़ी जंग इंटरनेट पर वायरल हो गयी थी. योगी ने सात जनवरी को भाजपा की कर्नाटक इकाई द्वारा आयोजित ‘नव कर्नाटक परिवर्तन यात्रे’ में भाग लिया था. यह आयोजन पार्टी द्वारा राज्यभर में चलाए जा रहे अभियान का हिस्सा था. जिसका मकसद सिद्धरमैया सरकार की “कमियों का खुलासा” करना था. जिसके बाद यह वार शुरू हुआ था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

loading...
Loading...