रेलवे होटल टेंडर घोटाला मामले में बढ़ी लालू परिवार की मुश्किल, लालू, तेजस्वी और राबड़ी देवी के खिलाफ चार्जशीट दायर

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 04/16/2018 - 21:35

Patna : रेलवे होटल टेंडर घोटाला मामले में लालू परिवार को राहत मिलती नहीं दिख रही है. मामले में सोमवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी सह बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, उनके पुत्र तेजस्वी यादव के साथ ही 14 लोगों पर चार्जशीट दाखिल किया गया है. गौरतलब है कि इस घोटाले में राबड़ी देवी, लालू प्रसाद यादव, उनके पुत्र तेजस्वी यादव को आरोपी बनाया गया है. मामले में सीबीआइ उनसे भी पूछताछ की है.

10 अप्रैल को सीबीआई की विशेष टीम ने राबड़ी और तेजस्वी से की थी पूछताछ

10 अप्रैल को रेलवे होटल टेंडर घोटाले (आईआरसीटीसी) में सीबीआई ने पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी के पटना स्थित आवास पर छापेमारी की थी. इस दौरान सीबीआई ने लालू के छोटे बेजे तेजस्वी यादव से तकरीबन चार घंटे तक पूछताछ भी की. जांच एजेंसी ने यह कार्रवाई आईआरसीटीसी द्वारा होटलों के रखरखाव को लेकर दिए गए टेंडर में अनियमितता को लेकर की गई है.

क्या है आईआरसीटीसी घोटाला

गौरतलब है कि इससे पहले इसी मामले में सीबीआई ने लालू से भी पिछले साल अक्टूबर महीने में करीब सात घंटे तक पूछताछ की थी. लालू यादव के रेल मंत्री रहते हुए टेंडर घोटाला होने का आरोप है. और इसे लेकर लगातार लालू और उनके परिवार वालों से पूछताछ की जा रही है. उल्लेखनीय है कि राबड़ी देवी लगातार इस पूछताछ से बचती रही थीं. इसे लेकर राबड़ी को कई बार समन भेजा गया था, लेकिन वह जांच अधिकारियों के सामने पेश नहीं हुई थीं. जिसके बाद आखिरकार उनसे पटना में ही पूछताछ की गई थी. सीबीआई के अलावा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी इस मामले की जांच कर रहा है.

क्या आरोप है लालू पर

लालू प्रसाद यादव पर यह आरोप है कि जब वह संवैधानिक पद पर थे, तब उन्होंने कुछ खाल लोगों को फायदा पहुंचाया था. उस वक्त लालू रेल मंत्री थे. लालू ने एक बेनामी कंपनी के जरिए तीन एकड़ की महंगी जमीन की दलाली ली थी. इस होटल का नाम सुजाता होटल है, जिसका मालिकाना हक विनय और विजय कोचर के पास है. ज्ञात हो कि लालू इस वक्त चारा घोटाले में दोषी होने के कारण सजा काट रहे हैं.

मामले में हैं आठ नामजद आरोपी 

लालू प्रसाद के रेल मंत्री के कार्यकाल में रेल होटल टेंडर घोटाला हुआ था, जिसमें आठ लोग तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद, पूर्व सीएम राबड़ी देवी, पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी प्रसाद यादव, सरला गुप्ता (राजद सांसद प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी), पीके गोयल (तत्कालीन एमडी, आइआरसीटीसी), बिनय कोचर और विजय कोचर (सुजाता होटल एवं चाणक्य होटल के मालिक) के अलावा दिल्ली स्थित लारा प्रोजेक्ट एलएलपी एवं डिलाइट मार्केटिंग कंपनी प्राइवेट लिमिटेड से जुड़े अन्य प्रमुखों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है.

Main Top Slide
loading...
Loading...