लातेहार : घघरी सिंचाई परियोजना पूरी होने से ग्रामीणों में खुशी की लहर

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 06/13/2018 - 19:15

Latehar : लातेहार जिले के चंदवा प्रखंड अन्तर्गत सासंग ग्राम पंचायत में पिछले पांच वर्षों से रिपेयर के अभाव में घघरी सिंचाई परियोजना अधर में लटकी हुई थी. ग्रामीणों ने कई बार जिला के उपायुक्त को समस्या की जानकारी दी थी, मगर कोई सार्थक पहल नहीं हो पा रही थी. कारण था कि माइनर एरिगेशन लातेहार के अभियंता ने योजना के लिए लगभग 43 लाख रुपये का प्राक़् कलन बना रखा था. लोकिन इतनी राशि उपलब्ध नहीं हो पा रही थी.  इस मामले में संज्ञान लेते हुए उपायुक्त राजीव कुमार एवं उप विकास आयुक्त अनिल कुमार सिंह ने पंचायत के मुखिया राजेन्द्र सिंह को कार्यालय बुलाया और 14 वें वित्ते की राशि का इस्तेमाल करने के बारे में बताया. इसके बाद मुखिया राजेन्द्र सिंह ने पंचायत में पड़ी 14 वें वित्त  की राशि का इस्तेमाल करते हुए घघरी सिंचाई परियोजना में एक लाख 83 हज़ार रुपये खर्च किये.  वही जिला प्रशासन ने मनरेगा अन्तर्गत तेरह सौ मानव दिवस मजदूरों को दिये, जिसमें कुल एक लाख चौदह हजार रुपये खर्च हुए और पांच वर्षों से ठप घघरी सिंचाई परियोजना पुनः जी उठी और नहर का पानी खेतों तक पहुंच गया.

इसे भी पढ़ें - सरकारी शराब सिंडिकेटः कैबिनेट के फैसले को पलट कर सहायक उत्पाद आयुक्त को बनाया पपेट, जिला में आयुक्त सिर्फ ओके बटन दबाते हैं (3)

परियोजना के ठप रहने से  हर वर्ष दो हजारर एकड़ जमीन परती रह जाती थी

मुखिया राजेन्द्र सिंह ने बताया कि घघरी सिंचाई परियोजना के ठप रहने के कारण हर वर्ष लगभग दो हज़ार एकड़ जमीन परती रह जाती थी, कारण कि वर्षा आधारित खेती होती थी. इसका कोई भरोसा नहीं रहता था. इस संबंध में किसान कौलेस्वर यादव व संदीप उरांव ने बताया कि नहर पांच वर्षों बंद थी.  हम छोटे किसान हैं. डीजल पंप के सहारे करना खेती करना हमारे लिए संभव नहीं था. कहा कि नहर बन जाने से इस वर्ष खेती बेहतर होगी. घघरी सिंचाई परियोजना योजना का निरीक्षण करने पहुंचे लातेहार उप विकास आयुक्त अनिल कुमार सिंह ने बताया कि इस परियोजना को लेकर लंबे समय से ग्रामीण्‍ प्रयासरत थे. माइनर एरिगेशन ने रिपेयर की राशि 43 लाख रुपये बतायी थी और राशि उपलब्ध नहीं हो पा रही थी. यह परियोजना को अविलंब शुरू करना जरूरी था. कहा कि सिंचाई परियोजना के लिए मुखिया ने 14 वें वित्ती की राशि 1,83,000 रुपये का प्रयोग किया गया. जानकारी दी कि 1300 मनरेगा मानव दिवस में यह परियोजना पूरी हो गयी.

इसे भी पढ़ें - सिर्फ कागजों में है 50 लाख के सिल्ली पॉलिटेक्निक का महिला छात्रावास, जमीन पर नींव तक नहीं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब