प्लॉटिंग मैप के बिना नहीं हो सकेगी जमीन की रजिस्ट्री, आरआरडीए निबंधन विभाग को लिखेगा चिट्ठी

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 02/13/2018 - 17:21

नियम को सख्‍ती से लागू कराने से पहले आरआरडीए करेगा बायलॉज की समीक्षा

Ranchi : अब आपको अपना घर बनाने के लिए मकान का नक्‍शा पास कराने के साथ-साथ जमीन की प्‍लॉटिंग मैप भी अनिवार्य रूप से करानी होगी. इसको सख्‍ती के साथ सुनिश्चित करने के लिए रांची क्षेत्रीय विकास प्राधिकार निबंधन विभाग को पत्र लिखने की तैयारी कर रहा है. आरआरडीए के उपाध्‍यक्ष अरविंद कुमार ने बताया है कि यह नियम बायलॉज में पहले से है, लेकिन अब आरआरडीए इसे सख्‍ती के साथ लागू करने के लिए गंभीर है. बायलॉज के प्रस्‍तावों को 20 फरवरी को बोर्ड की बैठक में समीक्षा की जायेगी. उसके बाद इस संबंध में निबंधन विभाग को चिट्ठी लिखी जायेगी, ताकि बिना प्लॉटिंग मैप के जमीन की रजिस्‍ट्री नहीं हो. यह नियम सख्‍ती के साथ लागू होने के बाद यदि कोई ब्रोकर जमीन की प्लॉटिंग करके उसे बेचता है तो, उसे भी आरआरडीए से प्लॉटिंग मैप स्वीकृत करानी होगी. ब्रोकर को 10 हजार वर्गमीटर के भू-खंड की प्लॉटिंग के लिए 10 हजार रुपये आरआरडीए में जमा करना होगा.

इसे भी पढ़ेंः पांच साल बाद व्यक्ति की मौत का खुलासा, जमीन के लिए बेटे ने की थी पिता की हत्या

आरआरडीए ने बिना तैयारी जेडीए की तर्ज पर तय किया विकास शुल्क

साथ ही साथ अब रांची क्षेत्रीय विकास प्राधिकार (आरआरडीए) क्षेत्र में घर बनाना महंगा होगा. प्राधिकार क्षेत्र में निजी घर या सोसाइटी बनाने वालों को हजार रु. प्रति डिसमिल की दर से इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फीस प्राधिकार में जमा कराना होगा.

इसे भी पढ़ेंः हत्या के एक वर्ष बाद हुआ मामले का खुलासा, निर्दोष खा रहे थे जेल की हवा, हत्यारे घूम रहे थे बाहर

ये शहरी क्षेत्र डेवलपमेंट फीस से होंगे मुक्त

नगर निगम क्षेत्र में जमीन या मकान बनाने वालों को इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फीस का भार नहीं उठाना पड़ेगा. इसमें पंडरा बाजार समिति के आगे पंडरा नदी पुलआईटीआई बस स्टैंड के आगे बजरापुंदागखूंटी रोडनामकुम में सदाबहार चौकओरमांझी रोड में जुमार नदी पुलकांके रोड में बोड़ेया और पोटपोटो नदी पुल तक का क्षेत्र आरआरडीए के तय डेवलपमेंट फीस से मुक्त होंगे.

इसे भी पढ़ें - IMPACT: झारखंड के पहले चारा घोटाला में गव्य निदेशालय के अफसरों व सप्लायर पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश

डेवलपमेंट फीस लेकर आरआरडीए देगा यह फायदा

डेवलपमेंट फीस लेने के बाद आरआरडीए 99 साल तक भू-स्वामी के स्वामित्व की सुरक्षा करेगा. आरआरडीए का निगरानी दल जमीन की समय-समय पर जांच करेगी, ताकि कोई दूसरा कब्जा न करे. जेडीए उस प्लॉट तक बिजलीपानी लाइन पहुंचाने की अनुशंसा संबंधित विभाग से करेगा.

इसे भी पढ़ें - दस दिनों में एक लाख शौचालय बनाने का सरकारी दावा झूठा, जानिए शौचालय बनाने का सच ग्रामीणों की जुबानी

ऐसे तय होगी फीस

शहरी क्षेत्र के बाहर कांकेरातूओरमांझीनामकुमनगड़ी में 10 डिसमिल जमीन में घर बनाने पर प्राधिकार से घर का नक्शा पास कराना होगा. नक्शा फीस के अलावा 10 डिसमिल जमीन पर 80 हजार रु. इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फीस देनी होगी. फीस का भुगतान से 10 किस्त में किया जा सकता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.