लोहरदगा : भीमराव अंबेडकर जयंती पर कार्यक्रम का आयोजन, डीसी ने कहा- बाबा साहेब के बताये मार्ग पर चलने की आवश्यकता

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 04/14/2018 - 18:38

Lohardaga : भारत रत्न बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर के 127 वें जयंती समारोह के अवसर पर सामाजिक न्याय दिवस का आयोजन समाहरणालय मैदान में किया गया. इस अवसर पर अतिथियों द्वारा  अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उपायुक्त विनोद कुमार ने विचार व्यक्त करते हुए बतलाया कि भारत रत्न डॉ भीमराव अंबेडकर हम सबके लिए प्रेरणा स्रोत हैं, उनके बताए मार्ग पर चलने की आवश्यकता है. डॉ अंबेडकर उस कालखंड के महापुरुष थे, जिस समय भारत में छुआछूत, जाति प्रथा चरम पर था, परंतु डॉक्टर साहब ने अपनी शिक्षा को हथियार बनाया और संघर्ष करते हुए आगे बढ़ते रहें और शिक्षा की बदौलत ही भारत का संविधान लिखकर अखंड भारत के निर्माण में  महत्वपूर्ण भूमिका निभायी. डॉ अंबेडकर समतावादी विचार को प्राथमिकता देते हुए तत्कालीन व्यवस्था के खिलाफ आजीवन आंदोलन करते रहे. वे हमेशा कहते थे कि शिक्षित बनो, संगठित रहो और संघर्ष करो. हम सभी को भी अपने कार्यों की बदौलत जो दुखी पीड़ित व्यक्ति हैं, दबे कुचले वर्ग हैं, उनके लिए निरंतर प्रयास करने की आवश्यकता है, ताकि उनका समग्र विकास हो सके. 

सभी को मान-सम्मान के साथ जीने का अधिकार : एसपी

पुलिस अधीक्षक राजकुमार
पुलिस अधीक्षक राजकुमार

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित पुलिस अधीक्षक राजकुमार ने बतलाया कि संविधान में सभी के लिए समान अधिकार के तहत समान न्याय की व्यवस्था की गई है. सभी को मान-सम्मान के साथ जीने का अधिकार, सभी को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार, सभी को अपना धर्म मानने का अधिकार है. भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, जिसके निर्माण में देशरत्न डॉक्टर भीमराव महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है.

पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करना हमारी प्राथमिकता : राकेश प्रसाद

20 सूत्री के उपाध्यक्ष राकेश प्रसाद ने विचार व्यक्त करते हुए बतलाया कि भारत सरकार ने सामाजिक सद्भाव को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सामाजिक न्याय दिवस का आयोजन करने का निर्णय लिया है, जिसके अंतर्गत कृषकों के आय को दोगुना करना, जीविका के अवसरों में वृद्धि करना, ग्रामीण गरीब परिवारों तक पहुंच स्थापित करना एवं राष्ट्रीय प्राथमिकताओं में स्वच्छता एवं पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करना हमारी प्राथमिकता में है और यह कार्यक्रम आज के इस सामाजिक न्याय दिवस से प्रारंभ होकर 5 मई 2018 तक ग्राम स्वराज अभियान तक आयोजित किया जाएगा. इसके बाद भी सरकार की योजनाएं जन-जन तक पहुंचाने में हम सदैव लगे रहेंगे.

इसे भी देखें- सुदेश सिर्फ सिल्ली तक सिमटे, ज्यादातर नगर निकाय चुनाव के प्रत्याशी हैं नाराज, पार्टी की मदद के बिना लड़ रहे हैं चुनाव

डॉ भीमराव अंबेडकर जन्म से ही कुशाग्र बुद्धि के थे : डीडीसी

उप विकास आयुक्त शशिधर मंडल ने विचार व्यक्त करते हुए बतलाया कि डॉ भीमराव अंबेडकर जन्म से ही कुशाग्र बुद्धि के थे. तत्कालीन बाधाओं के बावजूद डॉ अम्बेडकर पढ़ाई-लिखाई निरंतर जारी रखा. फलतः हाईस्कूल की परीक्षा पास करने वाले भारत के प्रथम दलित व्यक्ति के रूप में जाने जाते हैं. वे अपनी पढ़ाई की बदौलत अच्छी नौकरी कर सकते थे, लेकिन उन्होंने धन कमाने के बजाय समाजसेवा को प्राथमिकता दिया और आधुनिक राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी.

अनुसूचित जाति-जनजाति पदाधिकारी कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष ने भी बाबा साहेब की जीवनी पर प्रकाश डालेे

अनुसूचित जाति-जनजाति पदाधिकारी कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष अरुण राम ने बतलाया कि डॉ भीमराव अंबेडकर का जीवन संघर्ष से भरा रहा, वे निरंतर संघर्ष करते रहे और शिक्षा ग्रहण करते रहे. समाज में व्याप्त कुरीतियों के खिलाफ लड़कर समाज के दबे कुचले लोगों को सम्मान पूर्वक जीने का अधिकार दिलाया, उनका मानना था कि जीवन लंबा होने के बजाय महान होना चाहिए, न्याय हमेशा समानता के विचारों को फायदा करता है, भाग्य में नहीं अपनी शक्ति में विश्वास करने की सीख दिये. डॉ अंबेडकर राजनीति में सुख भोगने नहीं, बल्कि अपने दबे-कुचले भाईयों को उनके अधिकार दिलाने गए थे. मजदूरों के लिए अधिकतम 8 घंटे का कार्य समय निर्धारित कराये, महिलाओं के लिए विशेष अवकाश दिलाये. हम सभी को उनके बतलाए मार्ग पर चलना चाहिए और राष्ट्र की समृद्धि और खुशहाली में सहयोग करना चाहिए. कार्यक्रम में स्वागत भाषण सचिव लखन राम ने किया एवं धन्यवाद ज्ञापन जिला पंचायती राज पदाधिकारी मनीषा तिर्की ने किया. 

इसे भी देखें- झारखंड में सुरक्षित नहीं बेटियां: गुमला में बंदूक की नोंक पर नाबालिग छात्रा का अपहरण कर गैंगरेप

मौके पर से लोग थे मौजूद

इस अवसर पर अनुमंडल पदाधिकारी राज महेश्वरम, नजारत उपसमाहर्ता राजीव नीरज, जिला शिक्षा अधीक्षक रेणुका तिग्गा, जिला कल्याण पदाधिकारी मधुमती कुमारी, जिला खनन पदाधिकारी, DIO वीरेंद्र प्रसाद, स्टेनो बाल किशोर नाथ शाहदेव, अजय कुमार मधुर, सुरेश राम मोची, राजदीप कुमार, नवल राम, पुनई  उरांव, दसई उरांव, धनंजय भगत, बिफई उरांव, बिहारी उरांव, पीतांबर प्रजापति, नवरत्न शर्मा, लालदेव भगत, भगवान प्रसाद, संतन राम रघुवीर राम, नीरु देवी, अजय रविदास, किशोर कुमार वर्मा संजीव कुमार, दुबराज यादव, महेश सांवरिया, चुनी राम, राम चरण राम, बुधन राम साहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे. इस अवसर पर रा. मध्य विद्यालय लोहरदगा की छात्राओं द्वारा स्वागत गीत एवं आदिवासी जय चाला समिति के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

City List of Jharkhand
loading...
Loading...