मक्का मस्जिद विस्फोट केस: 11 साल बाद आया फैसला, स्वामी असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 04/16/2018 - 13:51

Hydrabad: एनआईए की एक विशेष अदालत ने 2007 मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में स्‍वामी असीमानंद सहित सभी पांच आरोपियों को सोमवार को बरी कर दिया. करीब ग्यारह साल पहले हुये इस विस्फोट में नौ लोगों की मौत हो गई थी और 58 अन्य लोग घायल हुए थे. मामले में 10 लोगों को आरोपी बनाया गया था. बहरहाल, उनमें से केवल पांच लोगों देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद उर्फ नब कुमार सरकार, भरत मोहनलाल रतेश्वर उर्फ भारत भाई और राजेंद्र चौधरी को गिरफ्तार कर उनपर मुकदमा चलाया गया. मामले के दो अन्य आरोपी संदीप वी डांगे और रामचंद्र कलसांगरा फरार हैं और एक अन्य आरोपी सुनील जोशी की मौत हो चुकी है. अन्य दो आरोपियों के खिलाफ जांच जारी है. पिछले 11 साल में इस मामले में कई तरह के नाटकीय मोड़ आए. कई गवाह अपने बयान से पलटे जिसके कारण आज का ये फैसला आया है.

इसे भी पढ़ेंकठुआ केस: CJM कोर्ट में आरोपियों के पेशी, सर्वोच्च न्यायालय में दोपहर दो बजे दो अलग-अलग याचिकाओं पर सुनवाई

सुनवाई के दौरान 226 चश्मदीदों से पूछताछ की गई और करीब 411 दस्तावेज पेश किए गए. सीबीआई अधिकारियों ने ने 68 चश्मदीद की गवाही दर्ज की थी. इनमें से 54 गवाह अब गवाही से मुकर गए. सीबीआई ने आरोपपत्र भी दाखिल किया. 11 साल पुराने इस केस जब कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया तो दो मिनट में ही फैसला सुना दिया गया. जो सबूत रखे गए थे उनसे यह साबित नहीं हो पाया कि ये पांच लोग ही आरोपी हैं. इधर एनआईए सूत्रों की मानें, तो अभी हम कोर्ट के फैसले का अध्ययन करेंगे. इसके बाद देखेंगे कि इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में अपील करेंगे या नहीं. बता दें कि स्वामी असीमानंद और भारत मोहनलाल रातेश्वर जमानत पर हैं जबकि तीन अन्य इस समय न्यायिक हिरासत में केन्द्रीय जेल में हैं.

इसे भी पढ़ें:नगर निकाय चुनाव:राजधानी रांची में मतदान की सबसे धीमी रफ्तार, चाकुलिया में बंपर वोटिंग

क्या था मामला

हैदराबाद की ऐतिहासिक मक्का मस्जिद में 18 मई 2007 को बम ब्लास्ट हुआ था जिसमें करीब 9 लोगों की मौत हुई थी, वहीं 58 लोग घायल हुए थे. दरअसल, जब ये मामला हुआ तो सबसे पहले इसकी जांच हैदराबाद पुलिस ने की. पुलिस ने अपनी जांच में किसी मुस्लिम संगठन का नाम लिया था लेकिन जब बाद में सीबीआई को जांच सौंपी गई. सीबीआई की जांच में हिंदूवादी संगठन अभिनव भारत का नाम आया. जिसके बाद 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Top Story
loading...
Loading...