ज्यादा पैसों से घटने लगती हैं जीवन की खुशियां : शोध

Publisher NEWSWING DatePublished Wed, 02/14/2018 - 14:10

Washington : हमारे आस-पास दो तरह के लोग होतें हैं जिनमें से एक का मानना है कि पैसे से खुशियां खरीदी जा सकती है और दूसरे का है कि पैसे से सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता. लेकिन एक अध्ययन से पता चला है कि किसी व्यक्ति को खुश रहने के लिए कितनी धनराशि की आवश्यकता होती है और यह राशि हर देश के लिए अलग है.

इसकी कोई सीमा नहीं होती है कि आपको कितने पैसों की जरूरत है

शोधकर्ताओं ने पाया कि जब धन एक सीमा से अधिक हो जाता है तो जीवन में संतुष्टि घटने लगती है. अमेरिका में परड्यू विश्वविद्यालय के एंड्रू टी जेब ने कहा कि हम जो टीवी पर देखते हैं या विज्ञापनकर्ता जो हमें बताते हैं कि इसकी कोई सीमा नहीं होती है कि आपको खुशियों के लिए कितने पैसों की जरूरत है. लेकिन अब हम देख रहे हैं कि इसकी कुछ सीमा है.

इसे भी पढ़ें: ड्रोन वन्यजीवों की करते हैं ज्यादा सटीक गणना

गेलअप वर्ल्ड पोल पर आधारित हैं आंकड़ा

जेब ने बताया कि  इस पर बहस हो चुकी है कि किस सीमा पर जाकर पैसा आपके जीवन स्तर में बदलाव करना बंद कर देता है. उन्होंने कहा कि  हमने पाया कि जीवन स्तर आगे बढ़ाने के लिए 95,000 अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 61 लाख रुपये और भावनात्मक रूप से खुश रहने के लिए करीब 60,000 से 75,000 अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 38 लाख रुपये से 48 लाख रुपये. यह राशि एक व्यक्ति के लिए है और परिवार के लिए यह राशि और अधिक हो सकती है. यह अध्ययन नेचर ह्यूमन बिहेवियरजर्नल में छपा है और इसके आंकड़ें गेलअप वर्ल्ड पोल पर आधारित हैं.

इसे भी पढ़ें: दो ग्लास वोदका पीने वाले लोगों से रहें सावधान, ऐसे लोग हो सकते हैं खतरनाक

7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब

सूचना आयोग में अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से होगी सुनवाई, मोबाइल ऐप से पेश कर सकते हैं दस्तावेज

झारखंड को उद्योगपतियों के हाथों में गिरवी रखने की कोशिश है संशोधित बिल  :  हेमंत सोरेन

जम्मू-कश्मीर : रविवार से आतंकियों व अलगाववादियों के खिलाफ शुरु हो सकता है बड़ा अभियान

उरीमारी रोजगार कमिटी की दबंगई, महिला के साथ की मारपीट व छेड़खानी, पांच हजार नगद भी ले गए

विपक्ष सहित छोटे राजनीतिक दलों को समाप्त करना चाहती है केंद्र सरकार : आप