बक्सर हमले को देखते हुए नीतीश को मिली ‘जेड प्‍लस’ श्रेणी की सुरक्षा

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 01/20/2018 - 16:04

Patna : बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को केंद्र सरकार की ओर से ‘जेड प्‍लस’ श्रेणी का सुरक्षा घेरा मुहैया करायी गयी है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने खुफिया एजेंसियों द्वारा मिले इनपुट्स की समीक्षा के बाद यह फैसला किया. इकॉनमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में मंत्रालय की निजी सुरक्षा समीक्षा बैठक में इस पर अंतिम फैसला हुआ. माना जा रहा है कि पिछले दिनों बक्‍सर में नीतीश पर हुए हमले को देखते हुए यह फैसला किया गया.

इसे भी पढ़ें- सीएस राजबाला के हंसने पर सदन में बरपा हंगामा, विपक्ष ने हाथ में जूते लेकर कहाः सदन का उड़ाया मजाक या रघुवर पर हंसीं राजबाला

क्या है जेड प्लस सुरक्षा

गौरतलब है कि बिहार सीएम के पाास पहले से ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा थी. इसके अलावा उनकी सुरक्षा के लिए राज्‍य के पुलिस कमांडो का एक अतिरिक्‍त घेरा भी साथ रहता है. ‘जेड प्‍लस’ श्रेणी के सुरक्षा घेरे वाले व्‍यक्ति को हर समय पैरामिलिट्री फोर्सेज के कम से कम 40 जवान घेरे रहते हैं. इस घेरे में नेशनल सिक्‍योरिटी गार्ड, सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स, इंडो तिब्‍बतन बॉर्डर पुलिस फोर्स और सेंट्रल इंडस्ट्रिल सिक्‍योरिटी फोर्स के जवान होते हैं. ‘जेड प्‍लस’ में सुरक्षा के पहले घेरे की जिम्मेदारी एनएसजी की होती है, दूसरी पंक्ति में एसपीजी के अधिकारी होते हैं.

इसे भी पढ़ें- मोदी के खिलाफ मुंह खोलने वाले तोगड़िया समेत तीन को बाहर का रास्ता दिखायेगा आरएसएस

क्या था नीतीश के काफिले पर हमला मामला

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर गत  12 को हमला हुआ था. यह हमला उनपर तब हुआ जब वह अपनी समीक्षा यात्रा पर बक्सर जिले के डुमरांव प्रखंड के नंदन गांव गये थे. जहां ग्रामीणों ने उनके काफिले पर पत्थरबाजी की थी. हांलाकि इस घटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चोट नहीं लगी थी, लेकिन एक दर्जन से ज्यादा सुरक्षाकर्मियों के घायल होने की बात सामने आयी थी. वहीं इस पूरे मामले में जांच के आदेश दिये गये थे.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांड का सच-11 : जब्त हथियार से फायरिंग कर सार्जेंट मेजर ने मुठभेड़ का साक्ष्य बनाया, फिर जांच के लिए एफएसएल भेजा

इस मामले में 10 महिला समेत 28 लोग गिरफ्तार

उल्लेखनीय है कि हमले के सिलसिले में बक्सर पुलिस ने 10 महिलाओं सहित 28 लोगों को गिरफ्तार किया था. बक्सर के पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया था कि मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव मामले में 28 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें 18 पुरुष और 10 महिलाएं शामिल हैं. उन्होंने बताया था कि इस सिलसिले में 99 नामजद और 500-700 अज्ञात लोगों के खिलाफ डुमराव थाने में कुल पांच प्राथमिकी दर्ज की गयी हैं जिनमें से 28 लोग गिरफ्तार कर लिए गए थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.