गोमिया उपचुनाव में बीजेपी ने झोंकी ताकत, विपक्ष के गठबंधन को बताया अवसरवादी

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 05/11/2018 - 18:10

Bokaro : गोमिया विधानसभा उपचुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी का कसमार प्रखंड के खैरा चातर गांव में पंचायत स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन संपन्न हुआ. इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि भाजपा के प्रदेश संगठन मंत्री श्री धर्मपाल ने कार्यकर्ताओं से पूरी लगन से कार्य करके गोमिया विधानसभा के भाजपा प्रत्याशी माधव लाल सिंह को जीत दिलाने का आह्वान किया. उन्होंने कहा, भाजपा कार्यकर्ताओं पर ही आधारित दल है और कार्यकर्ता ही इसकी सबसे बड़ी पूंजी हैं. केंद्र सरकार और राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के कारण पूरे देश में और झारखंड प्रदेश में विकास अब दिखने लगा है. भाजपा के शासनकाल में अब भारत एक विश्व शक्ति के रूप में उभर कर आया है.” सभा को संबोधित करते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष आदित्य साहू ने कहा कि आज गोमिया विधानसभा चुनाव को पूरा देश देख रहा है. विपक्ष सिर्फ सत्ता में आने के लिए गठबंधन करके लड़ रहा है. विपक्ष का कोई नीति सिद्धांत नहीं है. उन्होंने कहा कि भाजपा ने गठबंधन धर्म के तहत सिल्ली छोड़ कर गोमिया में अपना उम्मीदवार उतारा है.

इसे भी पढ़ें- गोमिया उपचुनाव : वोटरों का गणित जेएमएम के पक्ष में, पर उम्मीदवार बदलने से बदल सकते हैं परिणाम 

बीजेपी ने गिनाई उपलब्धियां, किया जीत का दावा

इस मौके पर पूर्व मंत्री श्री छत्रु राम महतो ने कहा कि गोमिया में पूरी भाजपा एक होकर लड़ रही है और माधव लाल सिंह भारी मतों से अवश्य चुनाव जीतेंगे. उन्होंने कहा कि प्रदेश में विकास की गंगा बह रही है और इसका असर सुदूर क्षेत्रों में भी देखा जा सकता है. सम्मेलन में प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि भाजपा में विपक्षी दलों की तरह वंशवाद नहीं है और यहां साधारण से साधारण कार्यकर्ता भी बड़े पदों पर बैठ सकता है. उन्होंने कहा कि यह चुनाव विकासशील शक्तियों और विनाशकारी शक्तियों के बीच है. सभा को गुणानंद महतो, लक्ष्मण नायक, आदि ने भी संबोधित किया. सभा की अध्यक्षता मंडल अध्यक्ष बानेश्वर महतो ने की. इस अवसर पर बड़ी संख्या में पंचायत स्तरीय कार्यकर्ता भी उपस्थित थे.

रघुवर सरकार ने गोमिया में 750 करोड़ की योजनाओं को जमीन पर उतारा : प्रतुल शाहदेव

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव में ने कहा कि भाजपा गोमिया चुनाव में विकास के मुद्दे पर चुनाव मैदान में उतरेगी. रघुवर सरकार ने इस क्षेत्र में अपने कार्यकाल में रिकॉर्ड 750 करोड़ की योजनाओं को जमीन पर उतारा है. संथालों के आराध्य देव लुगु बाबा के समारोह को राजकीय समारोह का दर्जा देकर सरकार ने अनुसूचित जनजाति के पारंपरिक रीति रिवाजों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दिखाई है. इसके अतिरिक्त झुमरा पहाड़ी एक्शन प्लान के अंतर्गत सौर ऊर्जा से गांव रोशन हो रहे हैं और सोलर पंप के ज़रिये सिंचाई की भी बेहतर व्यवस्था हुई है. शाहदेव ने झामुमो पर प्रहार करते हुए कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा आदिवासी और मूलवासियों की हितैषी होने का दम्भ भरती है, मगर जब रघुवर सरकार ने 11 गैर अधिसूचित क्षेत्रों में स्थानीय को नौकरी देने का प्रावधान किया तो झामुमो के नेता चुनाव आयोग जाकर इस पर रोक लगाने की मांग क्यों करने लगे ?

इसे भी पढ़ें- पांकी विधायक बिटुट सिंह के खिलाफ एफआईआर, बीडीओ से कहा - तोरा गाड़ देबो हिंये बाउंडरी में, नखो मालूम तोरा हमर औकात 

स्क्रूटनी में दो उम्मीदवारों का नामांकन रद्द

गोमिया उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों की उम्मीदवारी की समीक्षा निर्वाची पदाधिकारी प्रेम रंजन ने की, जिसमें 16 नामांकन पत्रों में से 2 नामांकन पत्र क्रमशः गुलाम रब्बानी तथा अजय रंजन का नामांकन रद्द कर दिया गया. जबकि शेष प्रत्याशी उमेश महतो, बबीता देवी, लंबोदर महतो, माधव लाल सिंह, निखिल कुमार सोरेन, खेमलाल महतो, देवनारायण मुर्मू, धनंजय कुमार प्रजापति, जूली देवी, खुदीराम महतो तथा मोहम्मद सुल्तान का नामांकन स्वीकृत किया गया जिन दो उम्मीदवारों का नामांकन रद्द हुआ उन्होंने शपथ पत्र के प्रत्येक पृष्ठ पर हस्ताक्षर नहीं किया था, जबकि निर्वाचन आयोग के पत्र दिनांक 16-10-2017 में स्पष्ट निर्देश है कि शपथ पत्र के प्रत्येक पृष्ठ पर शपथकर्ता का हस्ताक्षर होना अनिवार्य है. निर्वाची पदाधिकारी ने दोनों प्रत्याशियों को व्यक्तिगत रूप से तथा पत्र लिखकर उपरोक्त त्रुटियों को दूर करने का निर्देश दिया था. इसके बावजूद गुलाम रब्बानी और अजय रंजन ने त्रुटियों को ससमय दूर नहीं किया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na