पाकुड़ : भाजपा नेत्री ने थाना प्रभारी की कार्यशैली पर उठाए सवाल, सीएम को लिखा पत्र, एजेंट बहाल कर वाहनों से अवैध वसूली का आरोप

Publisher ADMIN DatePublished Mon, 04/23/2018 - 19:41

Pakur : इलामी की मुखिया और भाजपा की कद्दावर नेत्री ने मुख्यमंत्री झारखंड सरकार को पत्र लिखकर पाकुड़ मुफ्फसिल थाना क्षेत्र में थाना प्रभारी के सह पर चल रहे गोरख धंधों के विषय में कार्रवाई करने का अनुरोध किया है. भाजपा नेत्री ने लिखा है कि मुफ्फसिल थाना प्रभारी संतोष कुमार द्वारा चेक नाका, इशाकपुर फाटक, पाली मोड़, झिकरहट्टी, बहिरग्राम, कुशमाफाटक, चांचकी आदि स्थानों पर अपना वसूली एजेंट बहाल कर वाहनों से अवैध वसूली कराते हैं. उन्होंने लिखा है कि व्यवसायी वाहन, पत्थर और बालू ढोने वाले ट्रक एवं ट्रैक्टर, बारह चक्का डंपर आदि वाहनों से अलग-अलग रेट पर वसूली एजेंट के द्वारा अवैध वसूली करायी जाती है. हर स्थान पर थाना प्रभारी ने उस इलाके के दबंग लोगों को अपना एजेंट बना रखा है. ऐसे में कोई भी वाहन चालक उस दबंग की दबंगई को अनदेखी कर बिना चढ़ावा चढ़ाए गुजरने की हिमाकत नहीं कर सकता. भाजपा नेत्री सह मुखिया ने मुख्यमंत्री को यह भी लिखा है कि इस अवैध वसूली में थाना प्रभारी को वरीय पुलिस पदाधिकारी का सह भी प्राप्त है.

इसे भी पढ़ें : पाकुड़ : जिंदगी और मौत से जूझ रही मारपीट पीड़िता, पुलिस ने केस दर्ज करने से किया मना, पीड़िता के बेटे को जेल में डालने की दी धमकी

मुफ्फसिल थाना प्रभारी पर हमेशा इस तरह के आरोप लगते हैं

उल्लेखनीय है कि मुफ्फसिल थाना प्रभारी पर इस तरह का आरोप कोई नयी बात नहीं है. कुछ दिनों पहले चौकीदारों ने लिखित शिकायत करते हुए एसपी और डीसी से थाना प्रभारी पर गंभीर आरोप लगाते हुए शिकायत की थी. यह बताना भी लाजमी होगा कि वर्तमान मुफ्फसिल थाना प्रभारी संतोष कुमार जब पाकुड़िया में पदस्थापित थे, तो वहां भी इनपर इसी तरह वसूली के गंभीर आरोप लगे थे. हालांकि थाना प्रभारी संतोष कुमार इन सभी आरोपों को मनगढंत बताते हैं, लेकिन सवाल उठता है कि हमेशा इन्हीं पर ऐसे आरोप क्यों लगते रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :  पाकुड़ : न्यूज विंग की खबर का असर : मुफ्फसिल थानेदार ने मारपीट पीड़िता का एफआईआर दर्ज किया, दूसरे पक्ष की ओर से भी प्राथमिकी दर्ज कराई गई

आश्चर्य की बात यह है कि जिस पदाधिकारी पर थाना प्रभारी को सह देने का आरोप है. पुलिस विभाग उसी पदाधिकारी से थाना प्रभारी पर लगे आरोपों की जांच कराते हैं. ऐसे आरोपों से पुलिस विभाग की साख पर सवाल उठने लगा है. एक ओर पाकुड़ एसपी सामुदायिक पुलिसिंग, कॉफी विद कोप आदि जैसे कार्यक्रम चलाकर पुलिस की छवि को सुधारने का प्रयास कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर ऐसे पुलिस पदाधिकारी पुलिस की छवि को बदनाम करने में लगे हुए हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.