पाकुड़ : गुप्त सूचना के आधार पर वन विभाग ने की कार्रवाई, लाखों की लकड़ी जब्त, तस्कर फरार

Publisher ADMIN DatePublished Sun, 04/22/2018 - 18:46

Pakur : वन विभाग की टीम ने जिले के अलग-अलग इलाकों में छापेमारी कर लाखों रुपये की कीमती लकड़ी बरामद की. डीएफओ ने गुप्त सूचना पर लिट्टीपाड़ा एवं सिलकुट्टी में अलग-अलग छापेमारी कर 60 बोटा लकड़ी जब्त किया है. जब्त किए गए लकड़ी को वन प्रमंडल कार्यालय परिसर एवं हिरणपुर रेंज कार्यालय में रखा गया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार वन विभाग को गुप्त सूचना मिली थी कि लिट्टीपाड़ा और अमड़ापाड़ा की ओर से कीमती लकड़ी लायी जा रही है. इसके बाद डीएफओ के नेतृत्व में जवानों ने छापेमारी की. छापेमारी में लिट्टीपाड़ा एवं सिलकुट्टी के समीप अमड़ापाड़ा की ओर से आ रही कीमती लकड़ी को जब्त की गयी, जबकि लकड़ी माफिया गाड़ी छोड़ फरार हो गये. चोनडरा, साल, सिमल, जामुन एवं अंकर के कुल 60 बोटा लकड़ी जब्त की गई. जिसकी कीमत बाजार में लाखों रुपये बताए जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : पाकुड़ : जिंदगी और मौत से जूझ रही मारपीट पीड़िता, पुलिस ने केस दर्ज करने से किया मना, पीड़िता के बेटे को जेल में डालने की दी धमकी

धड़ल्ले से होती है अवैध रूप से पेड़ की कटाई

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिले के लिट्टीपाड़ा, अमड़ापाडा, महेशपुर में लकड़ी माफिया प्रतिदिन दर्जनों पेड़ों की कटाई कर पश्चिम बंगाल के विभिन्न लकड़ी मीलों में भेजते हैं. खासकर बंगाल के मुराराई, राजग्राम, चांदपुर, इंग्लिश पाडा आदि मीलों में प्रतिदिन झारखंड के विभिन्न इलाकों से सैकड़ों पेड़ काटकर पहुंचाए जाते हैं. वन विभाग की टीम ने कई बार छापेमारी कर वाहन सहित लकड़ी को जब्त की है. बावजूद लकड़ी तस्करी का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड : सुरक्षाकर्मियों में किस तनाव के कारण बढ़ रही है हत्या, आत्महत्या की प्रवृत्ति ?

जब्त अवैध लकड़ी
जब्त अवैध लकड़ी

स्थानीय माफिया की मिलीभगत से होताा है लकड़ी का अवैध कारोबार

जानकारों की मानें तो लकड़ी माफिया रोज नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं. लकड़ी माफिया पुलिस से बचने के लिए दुकान खोलकर बैठ जाते हैं और वैसे दुकान में पलंग, दरवाजा सहित लकड़ी के सामान बनाने का काम करते हैं. दुकान की आड़ में रात के अंधेरे में ट्रक, जुगाड़ गाड़ी के माध्यम से प्रतिदिन लकड़ी बंगाल भेजा जाता है.

क्या कहते हैं डीएफओ

वन प्रमंडल पदाधिकारी प्रेमजीत आनंद ने कहा कि गुप्त सूचना पर लिट्टीपाड़ा क्षेत्र और सिलकुट्टी से लकड़ी पकड़ी गई है. उन्होंने कहा कि लकड़ी माफियाओं के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जाएगा, जो भी लोग इसमें संलिप्त होंगे, उनके खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई होगी. बंगाल पुलिस से भी सहयोग ली जाएगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.