पलामू: गंदगी के बीच सुहागिनों ने की वट-सावित्री पूजा, जिम्मेवार प्रतिनिधि रहें मौन 

Publisher NEWSWING DatePublished Tue, 05/15/2018 - 14:05

Daltongunj: पति की लम्बी उम्र की कामना के साथ मंगलवार को बड़ी संख्या में सुहागिनों ने व्रत रखा और वट-सावित्री की पूजा की. लेकिन पहली बारिश के बाद कई क्षेत्रों में गंदगी होने के कारण महिलाओं को पूजा करने में भारी परेशानी हुई. नाले का गंदा पानी और कचरे को लांघकर महिलाएं किसी तरह से पूजा स्थल तक पहुंची. 

इसे भी  पढ़ेंः लोहरदगा: अखंड सौभाग्य के लिए वट सावित्री पूजा, पति की लम्बी उम्र की कामना

सुबह से दोपहर तक चला पूजा का दौर

जिले के शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में वट वृक्षों के पास वट-सावित्री पूजा का आयोजन किया गया. जिले के प्रखंड क्षेत्रों में ही वट सावित्री पूजा की गयी. सुबह से लेकर दोपहर तक वट सावित्री पूजा का दौर चला. बड़ी संख्या में महिलाएं सज-धज कर वट वृक्षों के पास पहुंची और पूजा अनुष्ठान किया. महिलाओं ने इस दौरान पुराहितों से सावित्री और सत्यवान की कथा भी सुनी.

गंदगी के बीच हुई पूजा

जिला मुख्यालय से महज आधे किलोमीटर दूर पर चैनपुर प्रखंड क्षेत्र के शाहपुर कोयल नदी तट स्थित प्राचीन शिव मंदिर परिसर में गंदगी के बीच वट सावित्री की पूजा की गयी. शाहपुर का यह पूजा स्थल काफी पुराना व चर्चित है. दूर-दूर से लोग यहां वट-सावित्री की पूजा करने के लिए पहुंचते हैं. लेकिन यहां फैली गंदगी को साफ करने की जिम्मेवारी ना तो जन प्रतिनिधियों ने निभाई, ना ही समाज के किसी शख्स ने सक्रियता नहीं दिखायी. नतीजा नालियों के ऊपर से बह रहे गंदे पानी के बीच महिलाओं ने किसी तरह अनुष्ठान किया. दो दिन पहले हुई बारिश के कारण यहां बह रही नाली ओवरफ्लो हो गयी है. नाले के सारे कचरे सड़क पर आ गए हैं और गंदा पानी आस-पास के परिसर में फैल गया है.

वट की पूजा क्यों

jn
वट सावित्री की पूजा करतीं महिलाएं

आदि काल से ही हमारे पूर्वज प्रकृति की पूजा-आराधना करते रहे हैं. सनातन धर्म में मनाए जाने वाले त्योहार और व्रत में प्रकृति पूजन का अलग महत्व है. मान्यता है कि बरगद के वृक्ष की लंबी आयु होने के कारण सुहागिनों ने अपने पति की लंबी आयु के लिए वट वृक्ष की पूजा करती हैं. यह व्रत जेष्ठ मास के त्रयोदशी से अमावस्या तक मनाया जाता है. बरगद वृक्ष की लटकती शाखाओं को सावित्री के रूप का स्वरूप माना जाता है. इस व्रत को करने से वैवाहिक जीवन में आने वाले सभी कष्ट दूर हो जाते हैं. दांपत्य जीवन में सुख और शांति बनी रहती है.

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na