रामगढ़ : अवैध कोल स्टॉक में बिजली की चपेट में आने से एक की मौत, मामले को रफा-दफा करने में लगे थे मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी के लोग

Publisher NEWSWING DatePublished Mon, 02/12/2018 - 09:38

Ramgarh : रामगढ़ प्रखण्ड के बारलोंग पंचायत स्थित कुसमुहाई टुंगरी के समीप मोहडर बगीचा में अवैध ढंग से बने कोल डिपू में बिजली की चपेट में आने से जेसीबी के उपचालक की मौत हो गयी. घटना रविवार को लगभग एक बजे के करीब की है. गौरतलब है कि डिपू क्षेत्र में कार्य कर रही जेसीबी मशीन एकाएक कोल डिपू से गुजरी उच्च प्रवाहित 11 हजार तार के संपर्क में आ गयी. जिससे मशीन में तेल भर रहे हैं उपचालक सुभाष कुमार को करंट लग गयी और वह बुरी तरह से झुलस गया. सुभाष की मौके पर ही मौत हो गयी. वहीं जेसीबी के चालक ने कूदकर अपनी जान बचायी. साथ ही वहां मौजूद टाटा मैजिक वाहन में भी करंट दौड़ गयी और वह भी आग की चपेट में आ गयी. वहीं टाटा मैजिक के चालक ने भी किसी तरह से अपनी जान बचायी. इधर घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी सच्चिदानंद प्रसाद सिंह घटनास्थल पर पहुंचे. लेकिन घटनास्थल पर ग्रामीणों ने मामले को लेकर काफी हंगामा किया जिसके बाद किसी तरह पुलिस ने उन्हें समझाया और घटना के पांच घंटे के बाद शव को कब्जे में लिया.

इसे भी पढ़ें- रांची पुलिस ने डीजीपी डीके पांडेय व अन्य अफसरों को बचाने के लिए 514 युवकों को नक्सली बताकर सरेंडर कराने वाले केस की फाइल बंद कर दी !

घटना के बाद मंत्री के गुर्गों ने शव को ठिकाना लगाना चाहा

अवैध कोल डिपू में हुए घटना के बाद बिजली की चपेट में आने से मरे युवक के शव को मंत्री के गुर्गे ठिकाना लगाना चाह रहे थे. लेकिन घटनास्थल पर मौजूद कुछ ग्रामीण महिलाओं ने इसका विरोध किया तो वे लोग शव को नहीं ले जा सके. लेकिन मंत्री के लोग व पुलिस मृतक के पिता को मानाने में कामयाब रही और शव को ले गयी. वहीं जब पुलिस शव को ले जा रही थी तब सिन्डोज कंपनी के लोग वहां मौजूद नहीं थे.

मंत्री ने कहा शव को थाना ले जाने दो

मृतक के पिता से जब पुलिस, ग्रामीण व उपस्थित जनप्रतिनिधियों ने पूछा कि शव लेने को लेकर कंपनी से क्या बात हुयी है. तब मृतक के पिता ने बताया कि मंत्री ने फोन पर कहा है कि वह सब देख लेंगे, पुलिस को शव ले जाने दो. इसलिये मंत्री के बॉडीगॉर्ड और चालक मुझे घर से यहां लेकर आये हैं. वहीं इस दौरान बेटे के शव को लेने आने पिता के आंखों में आंसू तक नहीं थे. पिता का चेहरा बस मुरझाया हुया था. इससे यह स्पष्ट हुता है कि कहीं न कहीं कोई बात है या फिर किसी तरह की मृतक के पिता के साथ कोई डील हुयी है. जिस समय शव उठाने को लेकर बात हो रही थी उस समय मंत्री का नीजि चालक मृतक के पिता को लाने व बात करने में आगे दिखा.

इसे भी पढ़ें- दस दिनों में एक लाख शौचालय बनाने का सरकारी दावा झूठा, जानिए शौचालय बनाने का सच ग्रामीणों की जुबानी

माानवता को भी तारतार कर रहें है मंत्री : ममता

गोला जिप की मध्य पार्षद ममता देवी घटनास्थल पर पहुंची और कहा कि मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी मानवता को तार-तार कर रहे हैं.  घटना को लेकर ममता देवी ने कहा कि मंत्री को सिर्फ पैसा कमाना है. उन्हें लोगों के जीवन या मृत्यु से कोई लेना देना नहीं है.

चलाया जा रहा था अवैध डिपू

बताया जाता है कि कोल डिपू क्षेत्र आदिवासीयों की जमीन है. कंपनी ने लोगों को बहलाकर उनसे उनकी जमीन लीज पर ले ली है. कंपनी कोल डिपू में चारकोल मिलावटी का काम भी कर रही है. बताया जाता है कि अवैध कोल डिपू बनाने से पहले वहां पर मनरेगा तालाब था जिसे समतल कर दिया गया. तब जाकर कोयला स्टॉक बनाया गया था.

इसे भी पढ़ें- रिम्स में नर्सों की हड़ताल के कारण मरीज परेशान, मेदांता से मुक्त करा रिम्स लाये गये अयूब अली को दूसरे अस्पताल ले गये परिजन

क्यों आगे आये मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी

कोल स्टॉक में हुये बिजली से चालक की मौत की घटना में मंत्री इसलिये आगे आये हैं क्योंकि इनके दो साले बबलू व संजय की देखरेख में अवैध कोल स्टॉक जमा हो रही थी. इसलिए वे और बॉडीगॉर्ड, ड्राइवर के अलावे उनके गुर्गे कोल स्टॉक को बचाने में जुटे दिखे.

क्यों आनन-फानन में बना अवैध कोल स्टॉक

मायल रेलवे स्टैशन में बहुत जल्द साइडिंग से कोयला उतरने व लादे जाने का कार्य शुरू होने वाला है. इसलिए सिन्डोज कंपनी के पेटिदारों ने बिना परमिट लिए हुये आनन-फानन में अवैध कोयला डिपू बना दिया और कोयला व चारकोल स्टॉक जमा करने लगे.

इसे भी पढ़ें- उड़ान भरने के 10मिनट बाद ही क्रैश हुआ रूसी प्लेन, सभी 71 लोगों की मौत

जिले में कई बड़ी घटना हुई लेकिन कभी थाना तक नहीं गये मंत्री चन्द्रप्रकाश

रामगढ़ जिले में कई ऐसी घटना हुई है लेकिन मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी कभी थाना तक नहीं गये हैं. लेकिन वो आज अपनों को बचाने के लिये थाना भी पहुंच गये. वहीं जब शव को थाना ले जाया गया तो मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी मृतक के पिता को सांत्वना देते हुये दिखें. साथ ही उनके साथ जिप अध्यक्ष ब्रह्मदेव महतो, आजसू पार्टी के जिला कार्यकारी अध्यक्ष अमृत लाल मुंडा, ब्रजनंदन महतो के अलावे कई कार्यकर्ता मौजूद थे.

ग्रामीणों को पुलिस पर संदेह

घटनास्थल में हो रही वार्ता के दौरान उपस्थित ग्रामीणों ने पुलिस के खिलाफ हंगामा किया. और कहा कि मामले को दबाने व शव को जल्दी ले जाने में पुलिस आगे दिख रही है. साथ ही लोगों ने कहा कि पुलिस अपना फर्ज न निभाकर ऐसा लग रहा है जैसे किसी दबाव में काम कर रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.