रिम्स के दो सीनियर डॉक्टरों के बीच मारपीट की वजह कमीशन, प्रबंधन ने बनायी जांच कमेटी

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 01/13/2018 - 19:56

 Ranchi : राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स के सीनियर डॉक्टर शुक्रवार को आपस में मारपीट कर रिम्स को शर्मसार कर दिया. सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल के कार्डियोलॉजी विंग के कैथ लैब में विभागाध्यक्ष डॉ हेमंतनारायण एसोसिएट प्रोफेसर डॉ प्रकाश कुमार के बीच आपस में मारपीट हो गयी. मारपीट में हेमंत नारायण का पैर डॉ प्रकाश कुमार का हाथ टूट गया है. वैसे तो मारपीट की वजह कार्डियक वार्ड में डॉ विकास कपूर का आना बताया जा रहा है. लेकिन सूत्रों ने बताया कि मारपीट की असली वजह कमीशन का मामला है. सूत्रों के मुताबिक रिम्स के कई डॉक्टर कमीशन के खेल में शामिल हैं. डॉ हेमंत नारायण का अस्पताल रिम्स के बगल में ही है. रिम्स में चल रही चर्चा के मुताबिक डॉ हेमंत नारायण मरीजों को देखते तो हैं अपने क्लीनिक में लेकिन सभी तरह की जांच और आपरेशन रिम्स में करते हैं. चार दिन पहले उनके खिलाफ एक शिकायत पत्र भी रिम्स के निदेशक को दिया गया था. बहरहाल शुक्रवार को हुई मारपीट को लेकर रिम्स प्रबंधन ने जांच का आदेश दे दिया है. जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है.

इसे भी पढ़ें : रिम्स के दो कार्डियोलॉजिस्ट हेमंत नारायण व प्रकाश के बीच मारपीट, एक का पैर टूटा, दूसरे का हाथ

रिम्स प्रभारी निदेशक ने 24 घंटे के भीतर मांगा स्पष्टीकरण

शुक्रवार को हुए दो डॉक्टरों की लड़ाई के बाद रिम्स निदेशक ने संज्ञान लिया है. निदेशक ने तीन सदस्यी जांच कमिटी का गठन कीया और एक सप्ताह में जांच रिपोर्ट मांगी है. वहीं इस मामले पर रिम्स के प्रभारी निदेशक ने कहा है कि डॉक्टर एसोसिएशन के सदस्यों ने हमसे मुलाकात किया है. उन्होंने कहा की ऐसी घटनाओं से रिम्स की छवि धूमील हो रही है. डॉक्टर एसोसिएशन के सदस्यों ने सहयोग की अपेक्षा की है. ताकी इस तरह की घटना दोबारा ना हो और मरीजों का बेहतर इलाज हो सके. उन्होंने कहा कि दोनों चिकित्सकों से 24 घंटे में स्पष्टीकरण की मांग की गयी है.

डॉक्टर जनता की सेवा के लिए हैं, न कि जान लेवा के लिए: डॉ जीतूचरण राम

रिम्स साशी परिषद के सदस्य और कांके विधायक डॉ जीतूचरण राम ने पिछले दिनों इस मामले पर कहा कि ऐसे विवाद मिस अंडरस्टेंडिंग के कारण होते

RIMS Director Dr. R.K Shrivastava
RIMS Director Dr. R.K Shrivastava

हैं. इस घटना से रिम्स की बहुत बड़ी बदनामी हुई है. यहां कार्यरत डॉक्टरों की छवि को धूमिल करने की कोशिश की गयी है. ऐसी घटनाओं की हम निंदा करते हैं. इस तरह की घटना दोबारा न हो इस का प्रयास करेंगे. कार्डियोलॉजी विभाग अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस है और अच्छे ढंग से चल रहा है. निदेशक इस घटना की निष्ठापूर्वक जांच करें.

डॉ प्रवीण झा ने संभाला कार्डियोलॉजी विभाग

कार्डियोलॉजी विभाग में डॉ प्रवीण झा ने शनिवार को ओपीडी संभाला. वहीं डॉ प्रवीन श्रीवास्तव ने मरीजों का ऑपरेशन किया. हालांकी डॉ प्रकाश कुमार रिम्स कार्डोयोलॉज़ी विभाग आये जरुर, लेकिन उन्होंने मीडिया कर्मीयों से कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा जो भी कहना था हमने कल कह दिया है. अब दोबारा क्या कहना?

इसे भी पढ़ें : रिम्स बना रणक्षेत्र, डॉक्टरों के बाद अब एम्बुलेंस चालकों ने की मारपीट (देखें वीडियो)

City List of Jharkhand
Top Story
loading...
Loading...