साहेबगंजः गंगा दशहरा पर भक्त लगा रहे आस्था की डुबकी, शाम को भव्य महाआरती का होगा आयोजन

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 05/24/2018 - 09:53

Sahebgunj: गुरुवार को गंगा दशहरा के अवसर पर साहेबगंज और आसपास के इलाके से बड़ी संख्या में श्रद्धालु गंगा घाट पर जुटे और आस्था की डुबकी लगाई. वही साहेबगंज मनिहारी अंतरराज्जीय फेरी सेवा समिति की और से भव्य गंगा महाआरती व शानदार आतिशबाजी का आयोजन गुरुवार संध्या 5 बजे से शकुन्तला सहाय घाट में किया जाएगा. गंगा दशहरा के शुभ अवसर पर गंगा महाआरती का आयोजन किया गया है. जिसकी तैयारी पूरी हो गयी है. शकुन्तला सहाय घाट के 2 किलोमीटर के दायरे को कोलकाता चंदन नगर को लाइट से सजाया गया है. वही शकुन्तला सहाय घाट को भी भव्य आकर्षक तरीके से सजाया गया है. दर्जनों देवी देवताओ की आकर्षक प्रतिमा लगाई गयी है. वही गंगा के बीच में भव्य 18 फिट ऊँची शिव जी की प्रतिमा लगाई गयी है. जिसे देखने सुबह से ही शहरवासी जुटने लगे है. वही जिले के स्थानीय बायसी मन्दिर प्रांगण में 25 मई को भक्ति जागरण का आयोजन किया गया है. जिलेवासी गंगा दशहरा के शुभ अवसर पर होने वाली इस भव्य गंगा महाआरती को लेकर काफी उत्साहित है.

इसे भी पढ़ेंःगंगा दशहरा पर भव्य दामोदर महोत्सव का आयोजन, उद्गम स्थल पर राज्यपाल करेंगी उद्घाटन

गंगा दशहरा पर गंगा स्नान का विशेष महत्व

ि्ुिपिुरप
गंगा दशहरा पर बनाई गई भगवान शिव की भव्य प्रतिमा

मान्यता है कि गंगा दशहरा के दिन गंगा स्नान से 10 तरह के पापों से मुक्ति मिलती है. ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी को गंगा दशहरा का पर्व मनाया जाता है. इस दिन गंगा का धरती पर हस्त नक्षत्र में अवतरण हुआ था. पुराणों के अनुसार इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व होता है. साथ ही इस दिन गंगा की विशेष पूजा अर्चना और भगवान शिव का जलाभिषेक किया जाता है. गंगा दशहरा पर दान और उपवास का बड़ा महत्व होता है. दस तरह के पापों को हरने के कारण इसे दशहरा कहते हैं. इन दस तरह के पापों में तीन कायिक, चार वाचिक और तीन मानसिक पाप होते हैं. इस दिन गंगा नदी या पास में स्थिति किसी पवित्र नदी में स्नान और पूजन करने की परंपरा है.

क्यों मनाया जाता है गंगा दशहरा

हिन्दू पुराणों के अनुसार, ऋषि भागीरथ के पूर्वजों की अस्थियो को विसर्जित करने के लिए उन्हें बहते हुए निर्मल जल की आवश्यकता थी. जिसके लिए उन्होंने माँ गंगा की कड़ी तपस्या की. जिससे मां गंगा पृथ्वी पर अवतरित हो सके. परन्तु गंगा की धारा तेज होने के कारण वह उनकी इस इच्छा को पूर्ण नहीं कर पाई. परन्तु उन्होंने कहा की अगर भगवान शिव मुझे अपनी जटाओं में समा कर पृथ्वी पर मेरी धारा प्रवाह कर दें तो यह संभव हो सकता है. उसके पश्चात् उन्होंने मां गंगा के कहे अनुसार शिव जी की तपस्या की और उनसे गंगा को अपनी जटाओं में समाहित करने के लिए प्रार्थना की. जिसके बाद गंगा मां ब्रह्मा जी के कमंडल में समा गयी और फिर ब्रह्मा जी ने शिव जी की जटाओं में गंगा को प्रवाहित कर दिया. जिसके बाद भगवान शिव ने गंगा की एक छोटी सी धारा पृथ्वी की ओर प्रवाहित कर दी. जिसके बाद भागीरथ ने अपने पूर्वजों की अस्थियों को विसर्जित कर उन्हें मुक्ति दिलाई. इसी उपलक्ष्य में गंगा दशहरा मनाया जाता है.

इसे भी पढ़ेंःआखिर क्यों सिमट रहा गंगा का आंचल ?

वही भक्त दूर दूर से जिले के विभिन्न गंगा घाटो में आस्था की डुबकी लगाकर गंगा पूजन कर दान पूण्य कर रहे है. और शकुन्तला सहाय घाट में मेला का आनंद ले रहे है. गौरतलब है कि झारखंड में केवल साहेबगंज जिले में गंगा नदी के प्रवाहित होने के कारण यहां काफी भीड़ होती है. और लोग गंगा में स्नान कर अपने पापों से मुक्ति पाते हैं. वही साहेबगंज मनिहारी फेरी घाट समिति की ओर से हो रहे भव्य गंगा महाआरती में लगभग 50 हजार लोगों के शामिल होने की उम्मीद है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

na
7ocean

 

international public school

 

TOP STORY

हजारीबाग डीसी तबादला मामला : देखें कैसे बीजेपी के जिला अध्यक्ष कर रहे हैं कन्फर्म  

न्यूज विंग की खबर का असर :  फर्जी  शिक्षक नियुक्ति मामले में तत्कालीन डीएसई दोषी करार 

बिजली बिल के डिजिटल पेमेंट से मिलता है कैशबैक, JBVNL नहीं शुरू कर पायी है डिजिटल पेमेंट की व्यवस्था

स्वीकार है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खुली बहस वाली चुनौती : योगेंद्र प्रताप

लाठी के बल पर जनता की भावनाओं से खेल रही सरकार, पांच को विपक्ष का झारखंड बंद : हेमंत सोरेन   

सुप्रीम कोर्ट का आदेश : नहीं घटायी जायेंगी एमजीएम कॉलेज जमशेदपुर की मेडिकल सीट

मैट्रिक व इंटर में ही हो गये 2 लाख से ज्यादा बच्चे फेल, अभी तो आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकी  

बीजेपी के किस एमपी को मिलेगा टिकट, किसका होगा पत्ता साफ? RSS बनायेगा भाजपा सांसदों का रिपोर्ट कार्ड

आतंकियों की आयी शामतः सीजफायर खत्म, ऑपरेशन ऑलआउट में दो आतंकी ढेर- सर्च ऑपरेशन जारी

दिल्ली: अनशन पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन की बिगड़ी तबियत, आधी रात को अस्पताल में भर्ती

भूमि अधिग्रहण पर आजसू का झामुमो पर बड़ा हमला, मांगा पांच सवालों का जवाब